Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
2 Nov 2023 · 1 min read

23/111.*छत्तीसगढ़ी पूर्णिका*

23/111.*छत्तीसगढ़ी पूर्णिका*
🌷 बेरा बदल जाही🌷
22 2122
तोला अकल आही ।
बेरा बदल जाही ।।
खुद ला हे भरोसा ।
सब संभाल जाही ।।
महकत देख बगियां ।
जिनगी महक जाही ।।
सिरतो भागमानी ।
दुनिया चमक जाही ।।
गावत आज खेदू।
दौना चहक जाही ।।
……….✍डॉ .खेदू भारती”सत्येश”
02-11-2023गुरुवार

87 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
You may also like:
इतना गुरुर न किया कर
इतना गुरुर न किया कर
Keshav kishor Kumar
क्यों मुश्किलों का
क्यों मुश्किलों का
Dr fauzia Naseem shad
रफ्ता रफ्ता हमने जीने की तलब हासिल की
रफ्ता रफ्ता हमने जीने की तलब हासिल की
कवि दीपक बवेजा
तुम नहीं बदले___
तुम नहीं बदले___
Rajesh vyas
तुम बिन रहें तो कैसे यहां लौट आओ तुम।
तुम बिन रहें तो कैसे यहां लौट आओ तुम।
सत्य कुमार प्रेमी
Let yourself loose,
Let yourself loose,
Dhriti Mishra
सम पर रहना
सम पर रहना
Punam Pande
लोकतांत्रिक मूल्य एवं संवैधानिक अधिकार
लोकतांत्रिक मूल्य एवं संवैधानिक अधिकार
Shyam Sundar Subramanian
माटी की सोंधी महक (नील पदम् के दोहे)
माटी की सोंधी महक (नील पदम् के दोहे)
नील पदम् Deepak Kumar Srivastava (दीपक )(Neel Padam)
बाट जोहती पुत्र का,
बाट जोहती पुत्र का,
sushil sarna
.
.
*प्रणय प्रभात*
मैंने इन आंखों से ज़माने को संभालते देखा है
मैंने इन आंखों से ज़माने को संभालते देखा है
Phool gufran
खुशबू चमन की।
खुशबू चमन की।
Taj Mohammad
प्रीत ऐसी जुड़ी की
प्रीत ऐसी जुड़ी की
Seema gupta,Alwar
प्रभु श्री राम
प्रभु श्री राम
Mamta Singh Devaa
अनंत की ओर _ 1 of 25
अनंत की ओर _ 1 of 25
Kshma Urmila
"एक ही जीवन में
पूर्वार्थ
लोगों का मुहं बंद करवाने से अच्छा है
लोगों का मुहं बंद करवाने से अच्छा है
Yuvraj Singh
" मिलकर एक बनें "
Pushpraj Anant
महंगाई के इस दौर में भी
महंगाई के इस दौर में भी
Kailash singh
3024.*पूर्णिका*
3024.*पूर्णिका*
Dr.Khedu Bharti
सबला
सबला
Rajesh
जीभर न मिलीं रोटियाँ, हमको तो दो जून
जीभर न मिलीं रोटियाँ, हमको तो दो जून
महावीर उत्तरांचली • Mahavir Uttranchali
संगीत
संगीत
Neeraj Agarwal
जीवन में असली कलाकार वो गरीब मज़दूर
जीवन में असली कलाकार वो गरीब मज़दूर
डॉ. शशांक शर्मा "रईस"
मोहब्बत ना सही तू नफ़रत ही जताया कर
मोहब्बत ना सही तू नफ़रत ही जताया कर
Gouri tiwari
माँ आजा ना - आजा ना आंगन मेरी
माँ आजा ना - आजा ना आंगन मेरी
Basant Bhagawan Roy
????????
????????
शेखर सिंह
शे’र/ MUSAFIR BAITHA
शे’र/ MUSAFIR BAITHA
Dr MusafiR BaithA
"दिल को आजमाना चाहता हूँ"
ठाकुर प्रतापसिंह "राणाजी"
Loading...