Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
7 Apr 2023 · 1 min read

2258.

2258.
🌷बेच लो बिकता है बहुत कुछ 🌷
2122 22 212
बेच लो बिकता है बहुत कुछ ।
जिंदगी में क्या है बहुत कुछ ।।
फूल सा रखते दिल भी नहीं ।
काँच का घर सा है बहुत कुछ ।।
भावनाएँ हम पहचानते ।
बोलता चहरा है बहुत कुछ ।।
हाथ की रेखाएँ देखते ।
आज यूं सपना है बहुत कुछ ।।
बदल लो खेदू दुनिया जहाँ ।
बहुत ही बढ़िया है बहुत कुछ ।।
………..✍प्रो.खेदू भारती “सत्येश ”
7-4-2023शुक्रवार

2 Likes · 1 Comment · 141 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
You may also like:
कुछ कहूं ना कहूं तुम भी सोचा करो,
कुछ कहूं ना कहूं तुम भी सोचा करो,
Sanjay ' शून्य'
■ शर्म भी शर्माएगी इस बेशर्मी पर।
■ शर्म भी शर्माएगी इस बेशर्मी पर।
*Author प्रणय प्रभात*
हम सजदे में कंकरों की ख़्वाहिश रखते हैं, और जिंदगी सितारे हमारे नाम लिख कर जाती है।
हम सजदे में कंकरों की ख़्वाहिश रखते हैं, और जिंदगी सितारे हमारे नाम लिख कर जाती है।
Manisha Manjari
रहे टनाटन गात
रहे टनाटन गात
Satish Srijan
आज भी ढूंढती नज़र उसको
आज भी ढूंढती नज़र उसको
Dr fauzia Naseem shad
परम भगवदभक्त 'प्रहलाद महाराज'
परम भगवदभक्त 'प्रहलाद महाराज'
Pravesh Shinde
💐💐परमार्थ: तथा प्रतिपरमार्थ:💐💐
💐💐परमार्थ: तथा प्रतिपरमार्थ:💐💐
शिवाभिषेक: 'आनन्द'(अभिषेक पाराशर)
किस किस से बचाऊं तुम्हें मैं,
किस किस से बचाऊं तुम्हें मैं,
Vishal babu (vishu)
ख़ामोशी से बातें करते है ।
ख़ामोशी से बातें करते है ।
Buddha Prakash
ऐ आसमां ना इतरा खुद पर
ऐ आसमां ना इतरा खुद पर
शिव प्रताप लोधी
मिष्ठी का प्यारा आम
मिष्ठी का प्यारा आम
Manu Vashistha
गीत-बेटी हूं हमें भी शान से जीने दो
गीत-बेटी हूं हमें भी शान से जीने दो
SHAMA PARVEEN
जीवन
जीवन
vikash Kumar Nidan
✍️साँसों को हवाँ कर दे✍️
✍️साँसों को हवाँ कर दे✍️
'अशांत' शेखर
जन्माष्टमी विशेष
जन्माष्टमी विशेष
Pratibha Kumari
हिन्दी साहित्य का फेसबुकिया काल
हिन्दी साहित्य का फेसबुकिया काल
मनोज कर्ण
ग़ज़ल/नज़्म - उसकी तो बस आदत थी मुस्कुरा कर नज़र झुकाने की
ग़ज़ल/नज़्म - उसकी तो बस आदत थी मुस्कुरा कर नज़र झुकाने की
अनिल कुमार
कौन कहता है ज़ज्बात के रंग होते नहीं
कौन कहता है ज़ज्बात के रंग होते नहीं
Shweta Soni
लाज नहीं लूटने दूंगा
लाज नहीं लूटने दूंगा
कृष्णकांत गुर्जर
मिलेट/मोटा अनाज
मिलेट/मोटा अनाज
लक्ष्मी सिंह
"मैं तुम्हारा रहा"
Lohit Tamta
लोगबाग जो संग गायेंगे होली में
लोगबाग जो संग गायेंगे होली में
महावीर उत्तरांचली • Mahavir Uttranchali
सपन सुनहरे आँज कर, दे नयनों को चैन ।
सपन सुनहरे आँज कर, दे नयनों को चैन ।
डॉ.सीमा अग्रवाल
इमारत बड़ी थी वो
इमारत बड़ी थी वो
नील पदम् Deepak Kumar Srivastava (दीपक )(Neel Padam)
बिछड़न [भाग ३]
बिछड़न [भाग ३]
Anamika Singh
दरों दीवार पर।
दरों दीवार पर।
Taj Mohammad
चन्द्रशेखर आज़ाद...
चन्द्रशेखर आज़ाद...
Kavita Chouhan
फूल ही फूल
फूल ही फूल
shabina. Naaz
नात،،सारी दुनिया के गमों से मुज्तरिब दिल हो गया।
नात،،सारी दुनिया के गमों से मुज्तरिब दिल हो गया।
डॉ सगीर अहमद सिद्दीकी Dr SAGHEER AHMAD
*वैराग्य (सात दोहे)*
*वैराग्य (सात दोहे)*
Ravi Prakash
Loading...