Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings

सोहर

आजु हमरे बेटी के छठियार के अवसर पर हमार लिखल सोहर——

अँगना में बेइली फूलइली, चमेली फफनइली नू हो।
ऐ बबुनी—-
महके ला घरवा दुअरवा, अँगन उठे सोहर हो।

सगरो सपनवा पुराईल, मन हरसाईल नू हो,
ए बबुनी—–
बिटिया जनमलू अँगनवा, अँगन उठे सोहर हो।

अन धन महरिन नउनिया, त माँगे ली नथुनियाँ नू हो,
ए बबुनी——–
बुआ मांगे सोना के सिकडीया, अँगन उठे सोहर हो।

#सन्तोष_कुमार_विश्वकर्मा_सूर्य

177 Views
You may also like:
*"पिता"*
Shashi kala vyas
*!* दिल तो बच्चा है जी *!*
Arise DGRJ (Khaimsingh Saini)
जितनी मीठी ज़ुबान रक्खेंगे
Dr fauzia Naseem shad
मां की ममता
सुरेन्द्र शर्मा 'शिव'
घनाक्षरी छन्द
शेख़ जाफ़र खान
कभी ज़मीन कभी आसमान.....
अश्क चिरैयाकोटी
गर्मी का कहर
Ram Krishan Rastogi
दो जून की रोटी उसे मयस्सर
श्री रमण 'श्रीपद्'
पाँव में छाले पड़े हैं....
डॉ.सीमा अग्रवाल
साधु न भूखा जाय
श्री रमण 'श्रीपद्'
कुछ दिन की है बात ,सभी जन घर में रह...
Pt. Brajesh Kumar Nayak
दामन भी अपना
Dr fauzia Naseem shad
समसामयिक बुंदेली ग़ज़ल /
ईश्वर दयाल गोस्वामी
गीत- जान तिरंगा है
आकाश महेशपुरी
बस एक निवाला अपने हिस्से का खिला कर तो देखो।
Gouri tiwari
हवा-बतास
आकाश महेशपुरी
सफ़र में रहता हूं
Shivkumar Bilagrami
ब्रेकिंग न्यूज़
सुरेन्द्र शर्मा 'शिव'
पिता
Meenakshi Nagar
✍️बदल गए है ✍️
Vaishnavi Gupta
दिल में रब का अगर
Dr fauzia Naseem shad
माँ तुम अनोखी हो
Anamika Singh
बरसात की झड़ी ।
Buddha Prakash
पिता
Santoshi devi
बे'बसी हमको चुप करा बैठी
Dr fauzia Naseem shad
टोकरी में छोकरी / (समकालीन गीत)
ईश्वर दयाल गोस्वामी
लकड़ी में लड़की / (नवगीत)
ईश्वर दयाल गोस्वामी
भोर का नवगीत / (नवगीत)
ईश्वर दयाल गोस्वामी
दिल में भी इत्मिनान रक्खेंगे ।
Dr fauzia Naseem shad
✍️दो पल का सुकून ✍️
Vaishnavi Gupta
Loading...