Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings

लोक पर्व

लोकभाषा/बोली :- खड़ी ठेठ भोजपुरी
#भूमिका :- मैं इस रचना के माध्यम से बिहार, उत्तर प्रदेश, नेपाल सीमा पर अवस्थित तराई क्षेत्र में मनाये जाने वाले लोक पर्वों का जिक्र अपनी खड़ी बोली ठेठ भोजपुरी में कर रहा हूँ।
—————————————————————————
#रचना

बारह महिनवाँ में कई गो वरतिया, सुनऽ ये सखी।
कहतानी साँचे-साँचे बतिया, सुनऽ ये सखी।।

चइतऽ में घरे- घरे, आवें दुर्गा माई।
अछय तिरिया तऽ, बइसाख आई।
बनी खीर मिठे-मिठे, छत पे धराई।
चार बजे भोर में, ऊ जाके उतराई।

असही मनावल जाला-२ अछय तिरितिया, सुनऽ ये सखी। कहतानी……!!

जेठ -अषाढ़ में तऽ परब के सूखा।
शयनी एकादशी पे रहे लोग भूखा।
सावन में शिव- शिव नाम जपे सब।
भक्ति ब्रह्म जी के करेला तपे सब।

पूड़ी रसियाव बने-२ भरे सब थरिया, सुनऽ ये सखी। कहतानी…..!!

भाई घरे बहिनी तऽ राखी लेके जाली।
बाँध कलाई राखी तबिही ऊ खाली।
सावनी सोमार करे, नर हो भा नारी।
माने सब खुश होली उमा महतारी।

अन्न-धन भरल रहे-२ भरल बखरिया सुनऽ ये सखी। कहतानी……!!

भादो मास तीज, कृष्ण जन्म के सोहर।
कातिक में छठ माई, पूजे सब घर-घर।
बीचही कुआर माई दुर्गा सब मनावे।
गोबर से घर लीपि, माई के बोलावे।

कइसे भुलाईं हम-२ माई खर जीउतिया, सुऽ ये सखी। कहतानी——–!!
======================================
#शब्दार्थ :- कई गो- बहुत, साँचे-साँचे – सही सही, बतिया- बात, अछय तिरितिया- अक्षय तृतीया, धराई- रखना, असही- ऐसे ही, रसीयाव – गुड़ से बना खीर, महतारी- माँ, बखरिया- बाँस द्वारा निर्मित धान रखने का बड़ा ड्रम, खर जीउतिया- ज्यूतपुत्रिका व्रत
======================================
पं.संजीव शुक्ल ‘सचिन’
मुसहरवा (मंशानगर)
पश्चिमी चम्पारण, बिहार

1 Like · 387 Views
You may also like:
चमचागिरी
सुरेन्द्र शर्मा 'शिव'
"खुद की तलाश"
Ajit Kumar "Karn"
सब अपने नसीबों का
Dr fauzia Naseem shad
बिछड़ कर किसने
Dr fauzia Naseem shad
मुझको कबतक रोकोगे
Abhishek Pandey Abhi
“श्री चरणों में तेरे नमन, हे पिता स्वीकार हो”
Kumar Akhilesh
सही-ग़लत का
Dr fauzia Naseem shad
दिल में रब का अगर
Dr fauzia Naseem shad
सिर्फ तुम
Seema 'Tu hai na'
मृगतृष्णा / (नवगीत)
ईश्वर दयाल गोस्वामी
घनाक्षरी छंद
शेख़ जाफ़र खान
अरदास
Buddha Prakash
टोकरी में छोकरी / (समकालीन गीत)
ईश्वर दयाल गोस्वामी
विश्व फादर्स डे पर शुभकामनाएं
सुरेश कुमार चतुर्वेदी
मेरी लेखनी
Anamika Singh
धरती की अंगड़ाई
श्री रमण 'श्रीपद्'
हे पिता,करूँ मैं तेरा वंदन
अनिल कुमार गुप्ता 'अंजुम'
जितनी मीठी ज़ुबान रक्खेंगे
Dr fauzia Naseem shad
हम सब एक है।
Anamika Singh
गिरधर तुम आओ
शेख़ जाफ़र खान
मेरी उम्मीद
सुरेन्द्र शर्मा 'शिव'
तप रहे हैं दिन घनेरे / (तपन का नवगीत)
ईश्वर दयाल गोस्वामी
पिता के चरणों को नमन ।
Buddha Prakash
!!*!! कोरोना मजबूत नहीं कमजोर है !!*!!
Arise DGRJ (Khaimsingh Saini)
इंसानियत का एहसास भी
Dr fauzia Naseem shad
पिता
Manisha Manjari
परिवाद झगड़े
ईश्वर दयाल गोस्वामी
शरद ऋतु ( प्रकृति चित्रण)
Vishnu Prasad 'panchotiya'
पिता के रिश्ते में फर्क होता है।
Taj Mohammad
रात तन्हा सी
Dr fauzia Naseem shad
Loading...