Sep 16, 2021 · 2 min read

” मैसेंजर क रूप “

डॉ लक्ष्मण झा ” परिमल ”

============
ओना तऽ अनेको विधा गूगल क मध्यमे प्राप्त भेल अछि ! इ विज्ञानक वरदान अछि जे इनफार्मेशन आ टेक्नोलॉजी मे हम सब अभूतपूर्व प्रगति केलहुं ! अनगिनत लोकक सानिध्य भेटल ! सम्पूर्ण विश्व सं जुड़य लगलहूँ ! भाषा ,संकृति ,सभ्यता ,भेश -भूषा , सीमा इत्यादि अवरोधक नहि बनि सकल !गति मे तीव्रता आबि गेल ! सौभाग्यशाली छथि वो श्रेष्ठ लोकनि जे दुनु युग कें अत्यंत निकट सं अवलोकन केने छथि ! कखनो विडियो कालिंग ..कखनो व्हात्सप्प ..आ विभिन्य ब्रमास्त्र क प्रयोग अचूक अछि !गतिशीलता क आशीर्वाद सं परिपूर्ण हमरालोकनि भऽ गेल छी मुदा कुम्भकर्ण क नींद अखनो धरि कोरोना वायरस बनल नस -नस मे दौगि रहल अछि ! अधिकांश लोकनि मैसेंजर क रूप बदलि रहल छथि ! अखने फेसबुक सं जुडलोंह ..मैसेंजर मे हाथ हिलय लागल !…. पहिने HI..HELLO अस्त्र क प्रयोग .तकर बाद लिय..मंगलाहा -चंग्लाहा पोस्टक प्रहार ..कियो- कियो त विभस्त फोटो पठा -पठा कें अपना कें महाभारत क अर्जुन बुझैत छथि !एहि मैसेंजर मे कियो श्रेष्ठ छथि..कियो समतुल्य आ कियो कनिष्ठ ! संवादक रणक्षेत्र भेल इ मैसेंजर एप्प ताहि मे अभद्रता ..अशिष्टता..अमर्यादित व्यंजन कें परोसब त इ ग्राह्य कथमपि नहि भऽ सकैत अछि ! ..अशिष्टता क प्रदर्शन हम कखनो -कखनो नव लोकनि कें विडियो कॉल कऽ देत छी..नहि समय देखब ..नहि प्रयोजन .. की पहिरने छी..कतय व्यस्त छी….एहि सब सं कोनो मतलब नहि ! कियो -कियो कहता ..”अपना मोबाइल नंबर भेजें “!दू शब्द लिखबाक हिनका समय नहि छैनि आ मैसेंजर कें आकृति बदलबाक लेल सदित उताहुल रहित छथि ! हम सब कें सफल यौध्या बनबाक अछि ! तें प्रत्येक शस्त्र क उपयोग समुचित अवसर पर हेबाक चाही ! मैसेंजरक रूप सदेव अक्षुण रहबाक चाही ! आ जाहि लेल इ बनल अछि अधिकांशतः तकरे लेल एकर उपयोग हेबाक चाहि!
=============================
डॉ लक्ष्मण झा ” परिमल ”
साउन्ड हेल्थ क्लिनिक
एस 0 पी कॉलेज रोड
दुमका ,झारखंड
भारत

126 Views
You may also like:
खिले रहने का ही संदेश
Umesh उमेश शुक्ल Shukla
🍀🌺प्रेम की राह पर-43🌺🍀
शिवाभिषेक: 'आनन्द'(अभिषेक पाराशर)
सत्य भाष
AJAY AMITABH SUMAN
प्रिय
D.k Math
💐💐प्रेम की राह पर-10💐💐
शिवाभिषेक: 'आनन्द'(अभिषेक पाराशर)
तितली सी उड़ान है
VINOD KUMAR CHAUHAN
" मैं हूँ ममता "
मनोज कर्ण
अँधेरा बन के बैठा है
आकाश महेशपुरी
दलीलें झूठी हो सकतीं हैं
सिद्धार्थ गोरखपुरी
*!* कच्ची बुनियाद *!*
Arise DGRJ (Khaimsingh Saini)
"मेरे पापा "
Usha Sharma
नव सूर्योदय
AMRESH KUMAR VERMA
ऐसी बानी बोलिये
अरशद रसूल /Arshad Rasool
.....उनके लिए मैं कितना लिखूं?
ऋचा त्रिपाठी
यकीन
Vikas Sharma'Shivaaya'
श्रमिक
डा. सूर्यनारायण पाण्डेय
"दोस्त-दोस्ती और पल"
Lohit Tamta
हनुमंता
Dhirendra Panchal
मेरा गुरूर है पिता
VINOD KUMAR CHAUHAN
My Expressions
Shyam Sundar Subramanian
ग़म की ऐसी रवानी....
अश्क चिरैयाकोटी
मोहब्बत
Kanchan sarda Malu
तुम और मैं
Ram Krishan Rastogi
पाखंडी मानव
ओनिका सेतिया 'अनु '
If we could be together again...
Abhineet Mittal
डगर कठिन हो बेशक मैं तो कदम कदम मुस्काता हूं
VINOD KUMAR CHAUHAN
पिता
Madhu Sethi
रावण - विभीषण संवाद (मेरी कल्पना)
Anamika Singh
प्रकृति और कोरोना की कहानी मेरी जुबानी
Anamika Singh
करते रहिये काम
सूर्यकांत द्विवेदी
Loading...