Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings

मटिये में जीनिगी…

मटिये में जीनिगी…
●●●●●●●●●●●●●●
मटिये में जीनिगी सनात रहे हमरो त,
मटिये के माई कहि सिरवा झुकाईले।

मटिये के मानी गुनवान हम सबका से,
मटिये के गुन सुत-उठी हम गाईले,
मटिये से मिले फल मटिये से मिले जल,
मटिये के दिहल अनाज हम खाईले-
मटिये में जीनिगी सनात रहे हमरो त,
मटिये के माई कहि सिरवा झुकाईले।

मटिये से बने ईंटा मटिये उगावे बाँस,
मटिये उगावे सूत रसरी बनाईले,
रोज हम करीं गुनगान येह मटिया के,
मटिये के घर में आराम हम पाईले-
मटिये में जीनिगी सनात रहे हमरो त,
मटिये के माई कहि सिरवा झुकाईले।

मटिया महान हवे वेद आ कुरान हवे,
मटिये परान हवे सबके बताईले,
मटिये त धन देला मटिये जनम देला,
मटिये के सेवा में ई मनवा लगाईले-
मटिये में जीनिगी सनात रहे हमरो त,
मटिये के माई कहि सिरवा झुकाईले।

मटिया इयार हवे अमृत के धार हवे,
मटिये के सुबे-साँझ तिलक लगाईले,
मटिये से सोना-चानी निकलेला हीरा-मोती,
मटिये के डीजल से चकिया चलाईले-
मटिये में जीनिगी सनात रहे हमरो त,
मटिये के माई कहि सिरवा झुकाईले।

‘आकाश महेशपुरी’ मटिये उगावे जड़ी,
जड़िया के खाइ हम जरवा भगाईले,
जरवे ले नाहीं पेटगड़ियों भगाईं हम,
भागे जब रोगवा त कविता सुनाईले-
मटिये में जीनिगी सनात रहे हमरो त,
मटिये के माई कहि सिरवा झुकाईले।

– आकाश महेशपुरी

2 Likes · 2 Comments · 251 Views
You may also like:
श्रीराम गाथा
मनोज कर्ण
कन्यादान क्यों और किसलिए [भाग१]
Anamika Singh
🥗फीका 💦 त्यौहार💥 (नाट्य रूपांतरण)
पाण्डेय चिदानन्द
झरने और कवि का वार्तालाप
Ram Krishan Rastogi
और जीना चाहता हूं मैं
सुरेन्द्र शर्मा 'शिव'
पितृ वंदना
संजीव शुक्ल 'सचिन'
मिठाई मेहमानों को मुबारक।
Buddha Prakash
नित नए संघर्ष करो (मजदूर दिवस)
श्री रमण 'श्रीपद्'
पितृ महिमा
मनोज कर्ण
दोहा छंद- पिता
रेखा कापसे
✍️बचपन का ज़माना ✍️
Vaishnavi Gupta
कहीं पे तो होगा नियंत्रण !
Ajit Kumar "Karn"
हायकु मुक्तक-पिता
डॉ प्रवीण कुमार श्रीवास्तव, प्रेम
तुम्हीं हो मां
Krishan Singh
जीवन में
Dr fauzia Naseem shad
इश्क कोई बुरी बात नहीं
सुरेन्द्र शर्मा 'शिव'
मेरे साथी!
Anamika Singh
पिता की याद
Meenakshi Nagar
कभी ज़मीन कभी आसमान.....
अश्क चिरैयाकोटी
A wise man 'The Ambedkar'
Buddha Prakash
राखी-बंँधवाई
श्री रमण 'श्रीपद्'
हो मन में लगन
सुरेन्द्र शर्मा 'शिव'
बदलते हुए लोग
kausikigupta315
सिद्धार्थ से वह 'बुद्ध' बने...
Buddha Prakash
✍️क्या सीखा ✍️
Vaishnavi Gupta
बिटिया होती है कोहिनूर
Anamika Singh
यादों की बारिश का कोई
Dr fauzia Naseem shad
चराग़ों को जलाने से
Shivkumar Bilagrami
दिल में रब का अगर
Dr fauzia Naseem shad
आदर्श पिता
Sahil
Loading...