भावना के कद्र नइखे

भावना के कद्र नइखे ना बचल अहसास बा
ना केहू बाटे पराया ना केहू अब खास बा

लोग तहरा से कहेला तू हवऽ आपन भले
बा जवन जाँगर सलामत बस ओही के आस बा

बाप सबके तऽ बना दिहलें पढ़ा के आदमी
मौत आइल बा मगर ना पूत केहू पास बा

एक दिन हमरो सितारा दी चमक सूरज तरे
ई समय बदलत रहेला बस इहे विश्वास बा

झूठ के ‘आकाश’ अइसन बा जमाना आ गइल
साँच बोलल ना केहू के आ रहल अब रास बा

– आकाश महेशपुरी
दिनांक- १३/११/२०२१

128 Views
You may also like:
हनुमंता
Dhirendra Panchal
कोई तो हद होगी।
Taj Mohammad
मुसाफिर चलते रहना है
Rashmi Sanjay
सच
अंजनीत निज्जर
# बोरे बासी दिवस /मजदूर दिवस....
Chinta netam मन
वो कली मासूम
सूर्यकांत द्विवेदी
खेसारी लाल बानी
Ranjeet Kumar
हिन्दी दोहे विषय- नास्तिक (राना लिधौरी)
राजीव नामदेव 'राना लिधौरी'
*तजकिरातुल वाकियात* (पुस्तक समीक्षा )
Ravi Prakash
कुछ नहीं
सिद्धार्थ गोरखपुरी
कहां चला अरे उड़ कर पंछी
VINOD KUMAR CHAUHAN
आखरी उत्तराधिकारी
Prabhudayal Raniwal
पिता
Rajiv Vishal
परिस्थितियों के आगे न झुकना।
Anamika Singh
ऐ जिन्दगी
Anamika Singh
प्रेम का आँगन
मनोज कर्ण
नित नए संघर्ष करो (मजदूर दिवस)
श्री रमण
मां
Dr. Rajeev Jain
मां-बाप
Taj Mohammad
दिल की आरजू.....
Dr. Alpa H.
देखो हाथी राजा आए
VINOD KUMAR CHAUHAN
बद्दुआ।
Taj Mohammad
"निर्झर"
Ajit Kumar "Karn"
शायद मैं गलत हूँ...
मनोज कर्ण
सुकून सा ऐहसास...
Dr. Alpa H.
परवाना बन गया है।
Taj Mohammad
हमारी प्यारी मां
Shriyansh Gupta
पिता का दर्द
Nitu Sah
जिंदगी और करार
ananya rai parashar
जब तुमने सहर्ष स्वीकारा है!
ज्ञानीचोर ज्ञानीचोर
Loading...