Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
Sep 11, 2021 · 2 min read

**भसुर**

******
बर-कनिया के आशीष देके जब मीरा आ महेश मंच से उतरल लोग त मीरा माथ ढँपले घर में चलि गइली कि तबे एकजने बराती आ के महेश से कहलें-“हम राउरी मलिकाइन से मिले के चाहत रहनी हँ। उहाँ के नाँवँ मीरा ह का?”महेश पुछलें-“का बाति बा।काहें मिलल चाहत बानीं?कइसे जानत बानी रउवा?”बाराती कहलें -“हम एगो शिक्षक हयीं।उहाँ के हमार फेसबुक मित्र बानीं,एसे।” “अच्छा..!ई बात बा..चली अबे मिला देत बानीं”-महेश मूड़ी हिलावत कहलें।
अब बोला के भीतरी ले गइलें आ.मीरा के हाँक लगवलें-मीरा!हेने आव$..तहसे केहू मिलल चाहत बा।”मीरा हाँक सुनते झड़कल अइली-“के ह?”सम्हने अनजान आदमी के देखि के सकुचइली-का ह?के हयीं इहाँ के?”एतने में बाराती हाथ जोरि के खड़ा हो गइलें-हमार नाँवँ त्रिभुवन ह।” “त्रि-भू-व-न…कहाँ के त्रिभुवन?हमरा मन नइखे परत” ;मीरा कहली।”हम राउर फेसबुक मित्र बानीं।मंच पर देखते चीन्हि गइनीं हँ कि रउवे कवयित्री मीरा हयीं।एसे मिले के जरूरी समझनी हँ।” “ओहो..त्रिभुवन जी **शिक्षक**-अब चिन्हा गइनीं।अउर बतायीं इहाँ कइसे?” “बराते आइल बानी”-त्रिभुवन कहलें। अब त दोहरउनी नाश्ता मिलल। ढे़रे बाति लिखाई-पढ़ाई के भइल।
ओने बादर अब बरिसे की तब बरिसे।सब कार जल्दी -जल्दी निपटावल जात रहे।
बतियावत-बतियावत त्रिभुवन कहलें कि राउर रचना हमरा बहुत पसन्न परेला।बहुत बढ़ियाँ रउवा लिखेनीं।बाकिर सब रचना फेसबुक पर भेज दिहला से का मिलेला? फलाने-फलाने त आपन रचना जोगावेला लोग।आ मंच पर चढि के भँजावेला लोग।
मीरा हँसली-“हम आपन रचना फेसबुक पर ना भेजतीं त… रउरी जइसन पाठक पढतें कइसे? आ मिलतें कइसे? अब रहल बात जोगावे वाला लोगन के… त ओ लोग खातिर बकियवा रउवा कहिए दिहनीं।भँजावल हमार धेय नाहीं हँ।”कि एतने में केहू आके कहल-“तहनी के एइजा बाड़ जा ओने गुरहथन रूकल बा।” “काहें”-मीरा पुछली।”भसुरे नइखें मिलत।आकि अइलहीं नइखें।सब लोग परसान बा।बरतिया कहत बाड़ें कि सथवे अउवें।एइजा खोजाता त हइए नइखें।कहीं अपहरण त ना होगइलें बीचही में..बरखा बा कि झिंसियाता”-जबाब मिलल।
एतना सुनते त्रिभुवन चिहाके उठलें-“अरे बाप रे..अब हम जात बानी।”मीरा पुछली-“काहें”?”जल्दी-जल्दी डेग बढ़ावत त्रिभुवन कहलें -“हमही नूँ भसुर हईं।”
माड़ो में भसुर के दउरत पहुँचल देखि सबके हँसला के धरानि ना रहे।

**माया शर्मा,पंचदेवरी,गोपालगंज(बिहार)**

1 Like · 2 Comments · 184 Views
You may also like:
यादों की बारिश का कोई
Dr fauzia Naseem shad
तप रहे हैं दिन घनेरे / (तपन का नवगीत)
ईश्वर दयाल गोस्वामी
"बेटी के लिए उसके पिता "
rubichetanshukla रुबी चेतन शुक्ला
पिता है भावनाओं का समंदर।
Taj Mohammad
रात तन्हा सी
Dr fauzia Naseem shad
उसकी मर्ज़ी का
Dr fauzia Naseem shad
मर गये ज़िंदगी को
Dr fauzia Naseem shad
आपको याद भी तो करते हैं
Dr fauzia Naseem shad
.....उनके लिए मैं कितना लिखूं?
ऋचा त्रिपाठी
रहे इहाँ जब छोटकी रेल
आकाश महेशपुरी
सोच तेरी हो
Dr fauzia Naseem shad
मेरी लेखनी
Anamika Singh
प्रात का निर्मल पहर है
मनोज कर्ण
कुछ पंक्तियाँ
आकांक्षा राय
कर्ज भरना पिता का न आसान है
आकाश महेशपुरी
दर्द लफ़्ज़ों में लिख के रोये हैं
Dr fauzia Naseem shad
पहनते है चरण पादुकाएं ।
Buddha Prakash
न जाने क्यों
Dr fauzia Naseem shad
दुनिया की आदतों में
Dr fauzia Naseem shad
अधुरा सपना
Anamika Singh
पिता की अभिलाषा
मनोज कर्ण
इसलिए याद भी नहीं करते
Dr fauzia Naseem shad
सही गलत का
Dr fauzia Naseem shad
✍️वो इंसा ही क्या ✍️
Vaishnavi Gupta
चलो दूर चलें
VINOD KUMAR CHAUHAN
गीत
शेख़ जाफ़र खान
Life through the window during lockdown
ASHISH KUMAR SINGH
✍️जरूरी है✍️
Vaishnavi Gupta
मिसाले हुस्न का
Dr fauzia Naseem shad
अब और नहीं सोचो
सुरेन्द्र शर्मा 'शिव'
Loading...