Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
Jul 21, 2021 · 2 min read

“देशभक्ति मुक्तक”

कोई जिंदा है मर कर भी,
कोई मर कर भी जिंदा है,
न दिलों में राष्ट्रभक्ति हो,
वो मानुष दरिंदा है,
मेरी धरती मेरी माता,
हमें आवाज देती है,
वतन पर जो निछावर हो,
वही असली बाशिंदा है।

यहीं हम हैं यहीं तुम हो,
यहीं मिट्टी है भारत की,
सजा लो शीश पर अपने,
करो सम्मान शहीदों की,
न झुकने दो न मिटने दो,
तिरंगा शान है अपना,
जन-गण-मन का है यह दिन,
और शाम इबादत की।

ना हम भूले ना तुम बोलो,
ना भूलेगा ये हिंदुस्तान,
जो लेकर जान हथेली पर,
हो गये देश पर कुर्बान,
थोड़ा ठहरो जरा संभलो,
उन्हें भी याद तो कर लो,
जो अपना सर कटा कर भी,
बचा गए देश का अभिमान।

थोड़ा ठहरो जरा सुन लो,
कि एक आवाज आई है,
चली है आंधियां सरहद पर,
फिजां में मौत छाई है,
कफन को बांध लो सर पर,
तिरंगा हाथ में ले लो,
कि मातृ कर्ज चुकाने की,
हमारी बारी आई है।

कोई जिंदा है मर कर भी,
कोई मर कर भी जिंदा है,
न दिलों में राष्ट्रभक्ति हो,
वो मानुष दरिंदा है,
मेरी धरती मेरी माता,
हमें आवाज देती है,
वतन पर जो निछावर हो,
वही असली बाशिंदा है।

यहीं हम हैं यहीं तुम हो,
यहीं मिट्टी है भारत की,
सजा लो शीश पर अपने,
करो सम्मान शहीदों की,
न झुकने दो न मिटने दो,
तिरंगा शान है अपना,
जन-गण-मन का है यह दिन,
और शाम इबादत की।

ना हम भूले ना तुम बोलो,
ना भूलेगा ये हिंदुस्तान,
जो लेकर जान हथेली पर,
हो गये देश पर कुर्बान,
थोड़ा ठहरो जरा संभलो,
उन्हें भी याद तो कर लो,
जो अपना सर कटा कर भी,
बचा गए देश का अभिमान।

थोड़ा ठहरो जरा सुन लो,
कि एक आवाज आई है,
चली है आंधियां सरहद पर,
फिजां में मौत छाई है,
कफन को बांध लो सर पर,
तिरंगा हाथ में ले लो,
कि मातृ कर्ज चुकाने की,
हमारी बारी आई है।

350 Views
You may also like:
दिल ज़रूरी है
Dr fauzia Naseem shad
बुआ आई
राजेश 'ललित'
इंतज़ार थमा
Dr fauzia Naseem shad
✍️सूरज मुट्ठी में जखड़कर देखो✍️
'अशांत' शेखर
मेरे बुद्ध महान !
मनोज कर्ण
✍️One liner quotes✍️
Vaishnavi Gupta
आज नहीं तो कल होगा / (समकालीन गीत)
ईश्वर दयाल गोस्वामी
✍️प्यारी बिटिया ✍️
Vaishnavi Gupta
"चरित्र और चाय"
मनोज कर्ण
पिता, पिता बने आकाश
indu parashar
तुम हमें तन्हा कर गए
Anamika Singh
पल
sangeeta beniwal
✍️ईश्वर का साथ ✍️
Vaishnavi Gupta
"रक्षाबंधन पर्व"
Dr. Asha Kumar Rastogi M.D.(Medicine),DTCD
# पिता ...
Chinta netam " मन "
जितनी मीठी ज़ुबान रक्खेंगे
Dr fauzia Naseem shad
बहुमत
मनोज कर्ण
आंखों में कोई
Dr fauzia Naseem shad
मृगतृष्णा / (नवगीत)
ईश्वर दयाल गोस्वामी
अपना ख़्याल
Dr fauzia Naseem shad
पीकर जी भर मधु-प्याला
श्री रमण 'श्रीपद्'
यकीन कैसा है
Dr fauzia Naseem shad
'बाबूजी' एक पिता
पंकज कुमार कर्ण
जंगल में कवि सम्मेलन
मनोज कर्ण
बच्चों के पिता
Dr. Kishan Karigar
बिटिया होती है कोहिनूर
Anamika Singh
पिता अब बुढाने लगे है
n_upadhye
✍️वो इंसा ही क्या ✍️
Vaishnavi Gupta
आनंद अपरम्पार मिला
श्री रमण 'श्रीपद्'
चलो दूर चलें
VINOD KUMAR CHAUHAN
Loading...