Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings

दलीदर

दलीदर
~~~~~

दीपावली के होते भोर
कि लागेला अइले सन चोर
सुतले-सुतले कर दे बारे
जागेला ऊहो भिनुसारे
सूपा लेके फट फट फट फट
बकरी जइसे पट पट पट पट
खटर पटर खट खट खट घर घर
लोगवा खेदे खूब दलीदर
घोठा घारी चउकी चारा
घर दुवार अउरी ओसारा
चुल्ही तर आँगन पिछुवारे
लोगवा खूब दलीदर मारे
सूपा के सुनि के फटकारा
पगहा तूरे भागे पाड़ा
भागे बिल्ली बड़ी डेरा के
चूहा बीयल में घबरा के
सहमें चिरई कउवा तीतर
बाकिर नाहीं हटे दलीदर
बैर भाव त जाते नइखे
मनवा कबो नहाते नइखे
पसरल बाटे कइ कइ मीटर
झाकीं ना मनवा के भीतर
मनवा के पाँको आ काई
सूपा से कइसे फटकाई
राखीं पानी आ सच्चाई
सदगुण के साबुन से भाई
मनवा के पहिले झटकारीं
मन में उहे दलीदर मारीं
काम करीं खूबे सुरिया के
धन दौलत आई धरिया के

– आकाश महेशपुरी

3 Likes · 3 Comments · 403 Views
You may also like:
नदी की पपड़ी उखड़ी / (गर्मी का नवगीत)
ईश्वर दयाल गोस्वामी
Little sister
Buddha Prakash
सपना आंखों में
Dr fauzia Naseem shad
मेरे पिता है प्यारे पिता
Vishnu Prasad 'panchotiya'
कुछ और तो नहीं
Dr fauzia Naseem shad
पिता
Saraswati Bajpai
माँ की परिभाषा मैं दूँ कैसे?
साहित्य लेखन- एहसास और जज़्बात
पिता
Keshi Gupta
सो गया है आदमी
कुमार अविनाश केसर
इश्क़ में जूतियों का भी रहता है डर
आकाश महेशपुरी
बहुत प्यार करता हूं तुमको
सुरेन्द्र शर्मा 'शिव'
ख़्वाहिश पर लिखे अशआर
Dr fauzia Naseem shad
पिता की छांव
डॉ प्रवीण कुमार श्रीवास्तव, प्रेम
मजदूरों का जीवन।
Anamika Singh
"पिता की क्षमता"
पंकज कुमार कर्ण
"वो पिता मेरे, मै बेटी उनकी"
रीतू सिंह
चोट गहरी थी मेरे ज़ख़्मों की
Dr fauzia Naseem shad
दिल में रब का अगर
Dr fauzia Naseem shad
पिता की नसीहत
सुरेश कुमार चतुर्वेदी
✍️जिंदगानी ✍️
Vaishnavi Gupta
अपना ख़्याल
Dr fauzia Naseem shad
जब गुलशन ही नहीं है तो गुलाब किस काम का...
लवकुश यादव "अज़ल"
चलो एक पत्थर हम भी उछालें..!
मनोज कर्ण
फेसबुक की दुनिया
सुरेन्द्र शर्मा 'शिव'
ज़िंदगी से सवाल
Dr fauzia Naseem shad
"सूखा गुलाब का फूल"
Ajit Kumar "Karn"
बरसाती कुण्डलिया नवमी
महावीर उत्तरांचली • Mahavir Uttranchali
मांँ की लालटेन
श्री रमण 'श्रीपद्'
जिम्मेदारी और पिता
Dr. Kishan Karigar
रेलगाड़ी- ट्रेनगाड़ी
Buddha Prakash
Loading...