Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings

तनि खैनी ही खिया के जियावल करा

नेता बन गईला त नाम उजियावल करा।
समस्या जनता के थोड़े हटावल करा।
वैसे से सब खाये से कब्बो पेट भरी न
तोहार,
तनि खैनी ही खिया के जियावल करा।
-सिद्धार्थ गोरखपुरी

224 Views
You may also like:
ये कैसा धर्मयुद्ध है केशव (युधिष्ठर संताप )
VINOD KUMAR CHAUHAN
कभी-कभी / (नवगीत)
ईश्वर दयाल गोस्वामी
जैसे सांसों में ज़िंदगी ही नहीं
Dr fauzia Naseem shad
मेरी तकदीर मेँ
Dr fauzia Naseem shad
बरसात की छतरी
Buddha Prakash
किसकी पीर सुने ? (नवगीत)
ईश्वर दयाल गोस्वामी
मैं कुछ कहना चाहता हूं
सुरेन्द्र शर्मा 'शिव'
मेरे पिता
rubichetanshukla रुबी चेतन शुक्ला
रूखा रे ! यह झाड़ / (गर्मी का नवगीत)
ईश्वर दयाल गोस्वामी
चलो दूर चलें
VINOD KUMAR CHAUHAN
छोड़ दो बांटना
सुरेन्द्र शर्मा 'शिव'
अब भी श्रम करती है वृद्धा / (नवगीत)
ईश्वर दयाल गोस्वामी
पिता
विजय कुमार 'विजय'
जादूगर......
Vaishnavi Gupta
ग़ज़ल /
ईश्वर दयाल गोस्वामी
अनामिका के विचार
Anamika Singh
कुछ दिन की है बात ,सभी जन घर में रह...
Pt. Brajesh Kumar Nayak
छीन लेता है साथ अपनो का
Dr fauzia Naseem shad
पंचशील गीत
Buddha Prakash
मिठाई मेहमानों को मुबारक।
Buddha Prakash
न जाने क्यों
Dr fauzia Naseem shad
अब और नहीं सोचो
सुरेन्द्र शर्मा 'शिव'
बहुमत
मनोज कर्ण
मेरी भोली ''माँ''
पाण्डेय चिदानन्द
ज़िंदगी को चुना
अंजनीत निज्जर
गुमनाम मुहब्बत का आशिक
श्री रमण 'श्रीपद्'
तुमसे कोई शिकायत नही
Ram Krishan Rastogi
मुझे आज भी तुमसे प्यार है
Ram Krishan Rastogi
तू कहता क्यों नहीं
सुरेन्द्र शर्मा 'शिव'
सोलह शृंगार
श्री रमण 'श्रीपद्'
Loading...