Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings

जिंदगी खेत से

खेत से बा हँसी आ खुशी खेत से
हम किसानन के बा जिंदगी खेत से

खेत मंदिर हवे आ विधाता इहे
सबके माता इहे अन्नदाता इहे
दूर हो जाला हर बेबसी खेत से-
हम किसानन के बा जिंदगी खेत से

पुन्य के काम हऽ खेती-बारी कइल
अन्न खा के जिये चाहें केहू भइल
आदमी बनि गइल आदमी खेत से-
हम किसानन के बा जिंदगी खेत से

– आकाश महेशपुरी
दिनांक- 15/11/2005

229 Views
You may also like:
यादें
kausikigupta315
दिल में बस जाओ तुम
सुरेन्द्र शर्मा 'शिव'
गुमनाम ही सही....
DEVSHREE PAREEK 'ARPITA'
संत की महिमा
Buddha Prakash
प्रात का निर्मल पहर है
मनोज कर्ण
काश बचपन लौट आता
Anamika Singh
राखी-बंँधवाई
श्री रमण 'श्रीपद्'
जिन्दगी का जमूरा
Anamika Singh
उनकी यादें
Ram Krishan Rastogi
छोटा-सा परिवार
श्री रमण 'श्रीपद्'
ख़्वाब पर लिखे अशआर
Dr fauzia Naseem shad
रेलगाड़ी- ट्रेनगाड़ी
Buddha Prakash
भोर का नवगीत / (नवगीत)
ईश्वर दयाल गोस्वामी
ग़ज़ल- मज़दूर
आकाश महेशपुरी
तुम साथ अगर देते नाकाम नहीं होता
Dr Archana Gupta
कुछ कहना है..
Vaishnavi Gupta
क्या लगा आपको आप छोड़कर जाओगे,
Vaishnavi Gupta
संविदा की नौकरी का दर्द
आकाश महेशपुरी
✍️One liner quotes✍️
Vaishnavi Gupta
✍️ईश्वर का साथ ✍️
Vaishnavi Gupta
"खुद की तलाश"
Ajit Kumar "Karn"
एसजेवीएन - बढ़ते कदम
सुरेन्द्र शर्मा 'शिव'
आपको याद भी तो करते हैं
Dr fauzia Naseem shad
आज तन्हा है हर कोई
Anamika Singh
पितृ स्तुति
दुष्यन्त 'बाबा'
अनमोल राजू
Anamika Singh
जाने क्या-क्या ? / (गीत)
ईश्वर दयाल गोस्वामी
*जय हिंदी* ⭐⭐⭐
पंकज कुमार कर्ण
"अष्टांग योग"
पंकज कुमार कर्ण
*"पिता"*
Shashi kala vyas
Loading...