Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings

का कइल जाव?

हो कहवां जाईल जाव
औरी का कईल जाव
समझे में नईखे आवत
कइसे अब जीअल जाव…
तेल के बिना आख़िर
कबले जली बाती
बड़ी तेज़ बहे आंधी
हर दीया बुझल जाव…
#Geetkar
Shekhar Chandra Mitra
#गुमराहजीनियस

139 Views
You may also like:
कुछ कहना है..
Vaishnavi Gupta
जब गुलशन ही नहीं है तो गुलाब किस काम का...
लवकुश यादव "अज़ल"
"पिता की क्षमता"
पंकज कुमार कर्ण
घनाक्षरी छन्द
शेख़ जाफ़र खान
.✍️वो थे इसीलिये हम है...✍️
'अशांत' शेखर
अपनी आदत में
Dr fauzia Naseem shad
दर्द ख़ामोशियां
Dr fauzia Naseem shad
चमचागिरी
सुरेन्द्र शर्मा 'शिव'
✍️गलतफहमियां ✍️
Vaishnavi Gupta
ख़्वाहिश पर लिखे अशआर
Dr fauzia Naseem shad
जिम्मेदारी और पिता
Dr. Kishan Karigar
रूखा रे ! यह झाड़ / (गर्मी का नवगीत)
ईश्वर दयाल गोस्वामी
ठोकरों ने समझाया
Anamika Singh
श्री राम स्तुति
सुरेन्द्र शर्मा 'शिव'
बुद्ध धाम
Buddha Prakash
गीत- जान तिरंगा है
आकाश महेशपुरी
कोई मंझधार में पड़ा हैं
VINOD KUMAR CHAUHAN
उनकी यादें
Ram Krishan Rastogi
ये कैसा धर्मयुद्ध है केशव (युधिष्ठर संताप )
VINOD KUMAR CHAUHAN
'बाबूजी' एक पिता
पंकज कुमार कर्ण
सत्य कभी नही मिटता
Anamika Singh
ठोडे का खेल
सुरेन्द्र शर्मा 'शिव'
अरदास
Buddha Prakash
आपको याद भी तो करते हैं
Dr fauzia Naseem shad
"निर्झर"
Ajit Kumar "Karn"
बेटियों तुम्हें करना होगा प्रश्न
rkchaudhary2012
मेरे पिता
Ram Krishan Rastogi
हम तुमसे जब मिल नहीं पाते
सुरेन्द्र शर्मा 'शिव'
मुझे आज भी तुमसे प्यार है
Ram Krishan Rastogi
"मेरे पिता"
vikkychandel90 विक्की चंदेल (साहिब)
Loading...