Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Write
Notifications
Settings

उजाड़ जीवन

दिनवा बीतत नाहीं
रतिया कटत नाहीं
पता ना काहे कहीं
जियरा लागत नाहीं…
(१)
ना तअ कवनो राही
ना ही कवनो साथी
कहां जाईं-का करीं
रहिया सुझत नाहीं…
(२)
छूप गईल चानवा
करिया बदरवा में
दूर-दूर ले कवनो
दीअवो दिखत नाहीं…
(३)
जीवन ई खाली लागे
माहूर के प्याली लागे
शेखरा के रोगवा
केहू जे बूझत नाहीं…
#Geetkar
Shekhar Chandra Mitra
(A Dream of Love)

122 Views
You may also like:
हमको जो समझे हमीं सा ।
Dr fauzia Naseem shad
सही-ग़लत का
Dr fauzia Naseem shad
अब आ भी जाओ पापाजी
संदीप सागर (चिराग)
।। मेरे तात ।।
Akash Yadav
दो पल मोहब्बत
श्री रमण 'श्रीपद्'
"विहग"
Ajit Kumar "Karn"
यह सिर्फ़ वर्दी नहीं, मेरी वो दौलत है जो मैंने...
Lohit Tamta
न कोई जगत से कलाकार जाता
आकाश महेशपुरी
श्री राम स्तुति
सुरेन्द्र शर्मा 'शिव'
"हैप्पी बर्थडे हिन्दी"
पंकज कुमार कर्ण
A wise man 'The Ambedkar'
Buddha Prakash
बेटियां
सुरेन्द्र शर्मा 'शिव'
हर एक रिश्ता निभाता पिता है –गीतिका
रकमिश सुल्तानपुरी
✍️महानता✍️
'अशांत' शेखर
✍️बारिश का मज़ा ✍️
Vaishnavi Gupta
कोई हमदर्द हो गरीबी का
Dr fauzia Naseem shad
ज़िंदगी को चुना
अंजनीत निज्जर
उसकी मर्ज़ी का
Dr fauzia Naseem shad
✍️पढ़ रही हूं ✍️
Vaishnavi Gupta
पीयूष छंद-पिताजी का योगदान
asha0963
दिल से रिश्ते निभाये जाते हैं
Dr fauzia Naseem shad
Life through the window during lockdown
ASHISH KUMAR SINGH
मेरे साथी!
Anamika Singh
मै पैसा हूं दोस्तो मेरे रूप बने है अनेक
Ram Krishan Rastogi
दर्द ख़ामोशियां
Dr fauzia Naseem shad
तपों की बारिश (समसामयिक नवगीत)
ईश्वर दयाल गोस्वामी
बरसाती कुण्डलिया नवमी
महावीर उत्तरांचली • Mahavir Uttranchali
हवा-बतास
आकाश महेशपुरी
✍️कलम ही काफी है ✍️
Vaishnavi Gupta
हे तात ! कहा तुम चले गए...
मनोज कर्ण
Loading...