Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
May 17, 2016 · 2 min read

अॉड ईवन

अॉड और ईवन” १
~~~~~~~~~~~
निशा के घर उसकी बचपन की सहेली मोनाली आई थी। सालों बाद मिल रही थीं दोनों। मोनाली के पति का ट्रांसफर जो हो गया था निशा के ही शहर में। बहुत खुश थीं दोनों। यादों का पिटारा खोले बैठी थीं।
बातों-बातों में मोनाली ने निशा के छोटे भाई हरेश के बारे में पूछा। बहुत छोटा देखा था उसे। निशा ने बताया हरेश की शादी हो गई है चार महीने हुए। इंजीनियर है अच्छी कंपनी में।मोनाली हंस दी कि इतना बङा हो गया अपना छुटका।
“और बहू कैसी आई है” मोनाली ने पूछा।
निशा ने गर्वीले स्वर में बताना शुरु किया “बहुत अच्छी और संस्कारी है सीमा..बहुत ध्यान रखती है अपने सास ससुर और पति का..पूरे घर को अच्छे से संभाल लिया है.. घर को घर समझती है ..और तो और कभी पलट कर जबाब नहीं देती कोई कुछ कह दे तो..कहती है बड़े अधिकार समझते हैं तभी तो कुछ कहते हैँ..सच में मोनाली .. बड़ा सौभाग्य है जो इतनी सरल और घर को जोड़ कर रखने वाली लक्ष्मी जैसी लड़की हमारे घर में आई। अब मुझे मां पिताजी की बिल्कुल चिंता नहीं।भगवान करे मेरे बेटे को भी ऐसी पत्नी मिले।””
मोनाली ने खुश होकर कहा ” ये तो बहुत अच्छी बात है वरना आजकल ऐसी समझदार बहुएं मिलना मुश्किल है।”
तभी निशा का पति सोम घर में दाखिल हुआ । अपनी बीमार मां को देखकर आया था गांव से। गर्मी बहुत थी और थकान भी थी इसलिए औपचारिक अभिवादन करके वह हाथ मुंह धोने चला गया।
काफी देर तक निशा जब नहीं उठी तो सोम ने बाहर आकर उससे कहा ” मुझे आधा घंटा हो गया आए तुमने पानी तक नहीं दिया।”
सुनते ही निशा बौखला गई। सहेली के सामने बेइज्जती जो हुई थी ।
दोनों में बहस होने लगी। मोनाली सुन रही थी ।
निशा ने कर्कश स्वर में आखिरी जहर बुझा चौका लगाया ” समझती हूँ सब
गांव से आए हो। बुढ़िया ने पट्टी पढ़ाकर भेजा होगा। तभी आते ही झगड़ने लगे।”
सोम के कानों में शीशा सा घुल गया। उसकी आंखों में बीमार मां का चेहरा घूम गया जिसने ऐसे तैसे करके अपने बेटे बहू के लिए देसी घी का हलवा और पापड़ बनाकर भेजे थे ।
दिल ही दिल रोता हुआ वो घर से बाहर निकल गया क्योंकि और बातें नहीं सुन सकता था।
उधर मोनाली निशा के विचारों की अपने हिसाब से लगाई गई सम- विषमता देखकर भौंचक्की थी। ”
अंकिता

1 Comment · 261 Views
You may also like:
पिता का आशीष
Prabhudayal Raniwal
क्या मेरी कलाई सूनी रहेगी ?
Kumar Anu Ojha
कौन था वो ?...
मनोज कर्ण
कभी ज़मीन कभी आसमान.....
अश्क चिरैयाकोटी
पिता - जीवन का आधार
आनन्द कुमार
चराग़ों को जलाने से
Shivkumar Bilagrami
श्रीमती का उलाहना
श्री रमण 'श्रीपद्'
"अष्टांग योग"
पंकज कुमार कर्ण
चिराग जलाए नहीं
शेख़ जाफ़र खान
कभी वक़्त ने गुमराह किया,
Vaishnavi Gupta
पिता हिमालय है
जगदीश शर्मा सहज
ग़रीब की दिवाली!
महावीर उत्तरांचली • Mahavir Uttranchali
मर्द को भी दर्द होता है
सुरेन्द्र शर्मा 'शिव'
बे'बसी हमको चुप करा बैठी
Dr fauzia Naseem shad
आदर्श पिता
Sahil
बेटी का पत्र माँ के नाम
Anamika Singh
आसान नहीं होता है पिता बन पाना
Poetry By Satendra
नफरत की राजनीति...
मनोज कर्ण
पिता - नीम की छाँव सा - डी के निवातिया
डी. के. निवातिया
पिता
Buddha Prakash
Green Trees
Buddha Prakash
बस एक निवाला अपने हिस्से का खिला कर तो देखो।
Gouri tiwari
The Buddha And His Path
Buddha Prakash
'फूल और व्यक्ति'
Vishnu Prasad 'panchotiya'
✍️काश की ऐसा हो पाता ✍️
Vaishnavi Gupta
मोर के मुकुट वारो
शेख़ जाफ़र खान
पिता जी
Rakesh Pathak Kathara
पिता
Shankar J aanjna
पापा
सेजल गोस्वामी
मांँ की लालटेन
श्री रमण 'श्रीपद्'
Loading...