Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
25 Mar 2024 · 1 min read

😊आज का दोहा😊

😊आज का दोहा😊
क्रूर समय ने हर लिए, जिन के सारे रंग।
नेह भरी होली सभी, खेलें उन के संग।।

◆प्रणय प्रभात◆

2 Likes · 47 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
You may also like:
खुद ही रोए और खुद ही चुप हो गए,
खुद ही रोए और खुद ही चुप हो गए,
Vishal babu (vishu)
पहले क्या करना हमें,
पहले क्या करना हमें,
महावीर उत्तरांचली • Mahavir Uttranchali
ऐ वतन
ऐ वतन
नंदलाल मणि त्रिपाठी पीताम्बर
महाप्रयाण
महाप्रयाण
Shyam Sundar Subramanian
मैं भी कवि
मैं भी कवि
DR ARUN KUMAR SHASTRI
खो गयी हर इक तरावट,
खो गयी हर इक तरावट,
Prashant mishra (प्रशान्त मिश्रा मन)
2822. *पूर्णिका*
2822. *पूर्णिका*
Dr.Khedu Bharti
विचार
विचार
अनिल कुमार गुप्ता 'अंजुम'
भावात्मक
भावात्मक
Surya Barman
मैं पतंग, तु डोर मेरे जीवन की
मैं पतंग, तु डोर मेरे जीवन की
Swami Ganganiya
क्या तुम इंसान हो ?
क्या तुम इंसान हो ?
ओनिका सेतिया 'अनु '
- मेरी मोहब्बत तुम्हारा इंतिहान हो गई -
- मेरी मोहब्बत तुम्हारा इंतिहान हो गई -
bharat gehlot
*जी रहें हैँ जिंदगी किस्तों में*
*जी रहें हैँ जिंदगी किस्तों में*
सुखविंद्र सिंह मनसीरत
सुबह-सुबह की चाय और स़ंग आपका
सुबह-सुबह की चाय और स़ंग आपका
Neeraj Agarwal
"लोकगीत" (छाई देसवा पे महंगाई ऐसी समया आई राम)
Slok maurya "umang"
हाथी के दांत
हाथी के दांत
Dr. Pradeep Kumar Sharma
हममें आ जायेंगी बंदिशे
हममें आ जायेंगी बंदिशे
Pratibha Pandey
बुंदेली दोहा- पलका (पलंग)
बुंदेली दोहा- पलका (पलंग)
राजीव नामदेव 'राना लिधौरी'
भारत माँ के वीर सपूत
भारत माँ के वीर सपूत
Kanchan Khanna
बदल गए तुम
बदल गए तुम
Kumar Anu Ojha
गुजर गई कैसे यह जिंदगी, हुआ नहीं कुछ अहसास हमको
गुजर गई कैसे यह जिंदगी, हुआ नहीं कुछ अहसास हमको
gurudeenverma198
हाथों में डिग्री आँखों में निराशा,
हाथों में डिग्री आँखों में निराशा,
शेखर सिंह
सावन के झूलें कहे, मन है बड़ा उदास ।
सावन के झूलें कहे, मन है बड़ा उदास ।
रेखा कापसे
मुक्तक-
मुक्तक-
डाॅ. बिपिन पाण्डेय
"शब्द-सागर"
*Author प्रणय प्रभात*
ग़ज़ल
ग़ज़ल
Shweta Soni
*चिकने-चुपड़े लिए मुखौटे, छल करने को आते हैं (हिंदी गजल)*
*चिकने-चुपड़े लिए मुखौटे, छल करने को आते हैं (हिंदी गजल)*
Ravi Prakash
हिस्से की धूप
हिस्से की धूप
Dr. Ramesh Kumar Nirmesh
(((((((((((((तुम्हारी गजल))))))
(((((((((((((तुम्हारी गजल))))))
Rituraj shivem verma
उम्मीद
उम्मीद
Dr fauzia Naseem shad
Loading...