Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
13 Feb 2023 · 1 min read

💝एक अबोध बालक💝

💝एक अबोध बालक💝

हृदय से प्रशंसा, मष्तिस्क से
हस्तक्षेप और विवेक से
प्रतिक्रिया देने में बुद्धिमता है
अन्यथा मौन ही सही है ।

2 Likes · 80 Views
Join our official announcements group on Whatsapp & get all the major updates from Sahityapedia directly on Whatsapp.
You may also like:
महेंद्र जी : संस्मरण एवं पुस्तक-समीक्षा
महेंद्र जी : संस्मरण एवं पुस्तक-समीक्षा
Ravi Prakash
ग़म-ए-जानां से ग़म-ए-दौरां तक
ग़म-ए-जानां से ग़म-ए-दौरां तक
Shekhar Chandra Mitra
कभी संभालना खुद को नहीं आता था, पर ज़िन्दगी ने ग़मों को भी संभालना सीखा दिया।
कभी संभालना खुद को नहीं आता था, पर ज़िन्दगी ने ग़मों को भी संभालना सीखा दिया।
Manisha Manjari
दर्द
दर्द
Bodhisatva kastooriya
अस्मिता
अस्मिता
Shyam Sundar Subramanian
किस गुस्ताखी की जमाना सजा देता है..
किस गुस्ताखी की जमाना सजा देता है..
कवि दीपक बवेजा
तुम्हें ये आदत सुधारनी है।
तुम्हें ये आदत सुधारनी है।
सत्य कुमार प्रेमी
जो गलत उसको गलत कहना पड़ेगा ।
जो गलत उसको गलत कहना पड़ेगा ।
Arvind trivedi
कलयुगी दोहावली
कलयुगी दोहावली
Prakash Chandra
शायरी
शायरी
श्याम सिंह बिष्ट
सफ़र
सफ़र
डॉक्टर वासिफ़ काज़ी
*😊 झूठी मुस्कान 😊*
*😊 झूठी मुस्कान 😊*
प्रजापति कमलेश बाबू
*
*"तिरंगा झंडा"*
Shashi kala vyas
शायरी
शायरी
goutam shaw
मायापुर यात्रा की झलक
मायापुर यात्रा की झलक
Pooja Singh
💐अज्ञात के प्रति-23💐
💐अज्ञात के प्रति-23💐
शिवाभिषेक: 'आनन्द'(अभिषेक पाराशर)
रहे न अगर आस तो....
रहे न अगर आस तो....
डॉ.सीमा अग्रवाल
हँसाती, रुलाती, आजमाती है जिन्दगी
हँसाती, रुलाती, आजमाती है जिन्दगी
Anil Mishra Prahari
मुस्कानों की परिभाषाएँ
मुस्कानों की परिभाषाएँ
Shyam Tiwari
जब अपने ही कदम उलझने लगे अपने पैरो में
जब अपने ही कदम उलझने लगे अपने पैरो में
'अशांत' शेखर
प्रेत बाधा एव वास्तु -ज्योतिषीय शोध लेख
प्रेत बाधा एव वास्तु -ज्योतिषीय शोध लेख
नंदलाल मणि त्रिपाठी पीताम्बर
यह आखिरी है दफा
यह आखिरी है दफा
gurudeenverma198
दर्द: एक ग़म-ख़्वार
दर्द: एक ग़म-ख़्वार
Aditya Prakash
भगवान श्री परशुराम जयंती
भगवान श्री परशुराम जयंती
सुरेश कुमार चतुर्वेदी
रिश्ते (एक अहसास)
रिश्ते (एक अहसास)
umesh mehra
उम्मीदों के आसमान पे बैठे हुए थे जब,
उम्मीदों के आसमान पे बैठे हुए थे जब,
नील पदम् Deepak Kumar Srivastava (दीपक )(Neel Padam)
दोहे
दोहे
डाॅ. बिपिन पाण्डेय
■ सामयिक सवाल...
■ सामयिक सवाल...
*Author प्रणय प्रभात*
ਹਰ ਅਲਫਾਜ਼ ਦੀ ਕੀਮਤ
ਹਰ ਅਲਫਾਜ਼ ਦੀ ਕੀਮਤ
Surinder blackpen
वक़्त से
वक़्त से
Dr fauzia Naseem shad
Loading...