Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
11 Dec 2023 · 1 min read

👰🏾‍♀कजरेली👰🏾‍♀

👰🏾‍♀कजरेली👰🏾‍♀

मैं गरीब घर के बोईर कांटा
छितका कुरिया मड़वा कईसे हमाही।
कारी देह हरदी नई भावय
सोलह-श्रृंगार मोला देख लजाही।
🍁🍁🍁🍁🍁🍁
पाहौं मया मितान बड़बोला
के जुच्छा बासी मोला खवाही।
अनाथ रही जाहौं दुनिया लुकाये
के भाँवर मोर अंगना पराही।।
🍁🍁🍁🍁🍁🍁
महुआ बुड़े मोर शौहर के मन
के अंगना के तुलसी मोला बनाही।
चाऊंर पाहौं पिरोही बरोबर
के सादा चुरी मोर दिन पहाही।
🍁🍁🍁🍁🍁🍁
छैंहा रही मइके के मया
के कारी ल कारी बादर खाही।
सोना उपजाहौं कोरा म कइठन
के कारी के छैंहा म पीढ़ी नंदाही।
🍁🍁🍁🍁🍁🍁
मोंगरा बने मैं फूलीहौं दमक के
के विरथा जवानी कांटा कस गढ़ही।
लक्ष्मी सुमरही पारा परोसीन
के ताना दिही कहिके कारी अऊ अढ़ही।
🍁🍁🍁🍁🍁🍁
बरही मोर हाँथ ले सत के दिया
के बारोंड़ा के बहनी मोला बनाही।
भर दे आशीष मोर झोली हे! इन्द्र
ये कारी अपन जीनगी लूटाही।

🔥सुरेश अजगल्ले”इन्द्र”🔥

खरौद नगर

Language: Chhattisgarhi
Tag: Poem
119 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
You may also like:
क्या मुगलों ने लूट लिया था भारत ?
क्या मुगलों ने लूट लिया था भारत ?
Shakil Alam
ध्यान सारा लगा था सफर की तरफ़
ध्यान सारा लगा था सफर की तरफ़
अरशद रसूल बदायूंनी
मेरी आँखों में देखो
मेरी आँखों में देखो
हिमांशु Kulshrestha
इंसान फिर भी
इंसान फिर भी
Dr fauzia Naseem shad
जवान वो थी तो नादान हम भी नहीं थे,
जवान वो थी तो नादान हम भी नहीं थे,
जय लगन कुमार हैप्पी
कुछ अपने रूठे,कुछ सपने टूटे,कुछ ख़्वाब अधूरे रहे गए,
कुछ अपने रूठे,कुछ सपने टूटे,कुछ ख़्वाब अधूरे रहे गए,
Vishal babu (vishu)
भारत माता
भारत माता
Seema gupta,Alwar
होली
होली
Dr Archana Gupta
आने वाले कल का ना इतना इंतजार करो ,
आने वाले कल का ना इतना इंतजार करो ,
Neerja Sharma
"भूल गए हम"
Dr. Kishan tandon kranti
" चर्चा चाय की "
Dr Meenu Poonia
जख्म भरता है इसी बहाने से
जख्म भरता है इसी बहाने से
Anil Mishra Prahari
तेवरी का आस्वादन +रमेशराज
तेवरी का आस्वादन +रमेशराज
कवि रमेशराज
रात के बाद सुबह का इंतजार रहता हैं।
रात के बाद सुबह का इंतजार रहता हैं।
Neeraj Agarwal
मेरी हस्ती का अभी तुम्हे अंदाज़ा नही है
मेरी हस्ती का अभी तुम्हे अंदाज़ा नही है
'अशांत' शेखर
वीर बालिका
वीर बालिका
लक्ष्मी सिंह
"वो ख़तावार है जो ज़ख़्म दिखा दे अपने।
*Author प्रणय प्रभात*
इसलिए कुछ कह नहीं सका मैं उससे
इसलिए कुछ कह नहीं सका मैं उससे
gurudeenverma198
दिल्ली चलें सब साथ
दिल्ली चलें सब साथ
नूरफातिमा खातून नूरी
प्रभु नृसिंह जी
प्रभु नृसिंह जी
Anil chobisa
इंकलाब की मशाल
इंकलाब की मशाल
Shekhar Chandra Mitra
2913.*पूर्णिका*
2913.*पूर्णिका*
Dr.Khedu Bharti
उत्साह एक प्रेरक है
उत्साह एक प्रेरक है
Buddha Prakash
ये अमलतास खुद में कुछ ख़ास!
ये अमलतास खुद में कुछ ख़ास!
Neelam Sharma
Expectations
Expectations
पूर्वार्थ
काश कि ऐसा होता....
काश कि ऐसा होता....
Ajay Kumar Mallah
*पैसा ज्यादा है बुरा, लाता सौ-सौ रोग*【*कुंडलिया*】
*पैसा ज्यादा है बुरा, लाता सौ-सौ रोग*【*कुंडलिया*】
Ravi Prakash
बुंदेली दोहा -गुनताडौ
बुंदेली दोहा -गुनताडौ
राजीव नामदेव 'राना लिधौरी'
कभी चुभ जाती है बात,
कभी चुभ जाती है बात,
नेताम आर सी
शेखर सिंह ✍️
शेखर सिंह ✍️
शेखर सिंह
Loading...