Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Write
Notifications
Wall of Fame
Jun 14, 2016 · 1 min read

.? बसंती ओढ़कर चूनर , धरा ससुराल जाती है “

****************************************

गगन के संग मगन देखो, बड़ी खुशहाल जाती है ।

विविध रंगों के सुमनों से , सजाये बाल जाती है ।

धरा साड़ी हरित पहने , किये श्रृंगार सोलह सब,

बसंती ओढ़कर चूनर , सजी ससुराल जाती है ।

***************************************
वीर पटेल

1 Comment · 151 Views
You may also like:
"मैं फ़िर से फ़ौजी कहलाऊँगा"
Lohit Tamta
"बीते दिनों से कुछ खास हुआ है"
Lohit Tamta
तमाल छंद में सभी विधाएं सउदाहरण
Subhash Singhai
रस्सियाँ पानी की (पुस्तक समीक्षा)
Ravi Prakash
खुश रहना
dks.lhp
प्रार्थना(कविता)
श्रीहर्ष आचार्य
थियोसॉफी की कुंजिका (द की टू थियोस्फी)* *लेखिका : एच.पी....
Ravi Prakash
जो मौका रहनुमाई का मिला है
Anis Shah
*हास्य-रस के पर्याय हुल्लड़ मुरादाबादी के काव्य में व्यंग्यात्मक चेतना*
Ravi Prakash
सुबह आंख लग गई
Ashwani Kumar Jaiswal
रुतबा
डाॅ. बिपिन पाण्डेय
रिश्तों की डोर
मनोज कर्ण
रोज हम इम्तिहां दे सकेंगे नहीं
Dr Archana Gupta
💐💐💐न पूछो हाल मेरा तुम,मेरा दिल ही दुखाओगे💐💐
शिवाभिषेक: 'आनन्द'(अभिषेक पाराशर)
उलझनें_जिन्दगी की
मनोज कर्ण
किसी पथ कि , जरुरत नही होती
Ram Ishwar Bharati
अन्याय का साथी
AMRESH KUMAR VERMA
*ससुराला : ( काव्य ) वसंत जमशेदपुरी*
Ravi Prakash
💐💐प्रेम की राह पर-16💐💐
शिवाभिषेक: 'आनन्द'(अभिषेक पाराशर)
बाबा की धूल
Dr. Arti 'Lokesh' Goel
जातिगत जनगणना से कौन डर रहा है ?
Deepak Kohli
जीने का नजरिया अंदर चाहिए।
Taj Mohammad
“ कोरोना ”
DESH RAJ
लिख लेते हैं थोड़ा थोड़ा
सूर्यकांत द्विवेदी
रूसवा है मुझसे जिंदगी
VINOD KUMAR CHAUHAN
हमलोग
Dr.sima
बदरवा जल्दी आव ना
सिद्धार्थ गोरखपुरी
बाबा साहेब जन्मोत्सव
Mahender Singh Hans
*शंकर तुम्हें प्रणाम है (भक्ति-गीत)*
Ravi Prakash
फरिश्ता बन गए हो।
Taj Mohammad
Loading...