Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
9 Dec 2017 · 2 min read

?? संकल्प ??

?? संकल्प ??
?? संकल्प ??

संकल्प
राजू ने अपने देश हित के लिए निष्ठा, इमानदारी, राजा हरिश्चंद्र के समान सत्य वचन व जो वादा किया है निभाना पड़ेगा यह वाक्य अपने अंतकरण में अंकित कर लिया था । लेकिन अंहकार व संगति के असर ने राजू पर कीचड़, गाली गलौच व आखिर निम्न स्तर पर चारों ओर से बातें आने लगी।
राजू सोचने लगा सही बात है अगर मैं किसी का भरोसा तोड़ता हूँ तो बहुत ज्यादा सबका मन दु:खा रहा हूँ। माॅ का आशीर्वाद व धुव्र तारे के समान छाप है मेरी । मुझे बहुत बड़ा मन रखना है । किसी भी परिस्थिति में किसी ने कुछ भी कहां हो मन को डगमगाना नहीं चाहिए। क्योंकि की मै सच्चा कम॔ करता हूँ। कम॔ पर विश्वास रखता हूँ। किसी ने क्या बोला ? नीचा – ऊँचा सब करते रहते हैं। मुझे सव॔धम॔समभाव से रहना । तभी मुझे तथागत के बोल याद आ गये ” बुद्धिमान व्यक्ति कभी दुसरे के गुणा-दोषों की विवेचना नहीं करता , नहीं उनके शब्दों की , न ही उनके कम॔ की तथा न ही इस बात की कि उनके पास क्या है या क्या नहीं है । उसका ध्यान तो बस अपने ही शब्दों व कम॔ को देखते रहने पर रहता है ” ओर तथागत ने कहां ” दुसरे के दोषों के बारे में मत सोचते रहिये, न ही यह सोचते रहिए कि उन्होंने क्या किया है, और क्या नहीं किया है , बल्कि अपने व्दारा किए जाने वाले बुरे कामों के बारे में सोचिए, उन कामों के बारे में सोचिए जो आपने किए है या नहीं किए है ।” राजू को किसी बात का असर नहीं पड़ता है। राजू ने नये साल में संकल्प लिया आज से जो वादे किये पूरे करूंगा , जो भरोसा दिया है उसे तुटने नहीं दूंगा। ओर आने वाले नये वष॔ की सबको दिल से शुभकामनाएं देते हुये, क्षमा भाव रखुगां ।
@कापीराइट
राजू गजभिये (RG)

Language: Hindi
1 Like · 1 Comment · 349 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
You may also like:
3234.*पूर्णिका*
3234.*पूर्णिका*
Dr.Khedu Bharti
नींद आज नाराज हो गई,
नींद आज नाराज हो गई,
Vindhya Prakash Mishra
एक मुट्ठी राख
एक मुट्ठी राख
Shekhar Chandra Mitra
वृक्ष किसी को
वृक्ष किसी को
DrLakshman Jha Parimal
*चुनावी कुंडलिया*
*चुनावी कुंडलिया*
Ravi Prakash
प्रेमचंद ने ’जीवन में घृणा का महत्व’ लिखकर बताया कि क्यों हम
प्रेमचंद ने ’जीवन में घृणा का महत्व’ लिखकर बताया कि क्यों हम
Dr MusafiR BaithA
घमण्ड बता देता है पैसा कितना है
घमण्ड बता देता है पैसा कितना है
Ranjeet kumar patre
आइए जनाब
आइए जनाब
Surinder blackpen
ॐ
सोलंकी प्रशांत (An Explorer Of Life)
चौराहे पर....!
चौराहे पर....!
VEDANTA PATEL
गमों ने जिन्दगी को जीना सिखा दिया है।
गमों ने जिन्दगी को जीना सिखा दिया है।
Taj Mohammad
नारी के सोलह श्रृंगार
नारी के सोलह श्रृंगार
Dr. Vaishali Verma
"ज्यादा मिठास शक के घेरे में आती है
Priya princess panwar
हिन्दी दोहा बिषय- सत्य
हिन्दी दोहा बिषय- सत्य
राजीव नामदेव 'राना लिधौरी'
" गुरु का पर, सम्मान वही है ! "
Saransh Singh 'Priyam'
गजब हुआ जो बाम पर,
गजब हुआ जो बाम पर,
sushil sarna
जय जय जगदम्बे
जय जय जगदम्बे
नंदलाल मणि त्रिपाठी पीताम्बर
राम राज्य
राम राज्य
Shriyansh Gupta
आस नहीं मिलने की फिर भी,............ ।
आस नहीं मिलने की फिर भी,............ ।
निरंजन कुमार तिलक 'अंकुर'
इंसानियत
इंसानियत
Sunil Maheshwari
बसहा चलल आब संसद भवन
बसहा चलल आब संसद भवन
मनोज कर्ण
Where have you gone
Where have you gone
VINOD CHAUHAN
चिड़िया रानी
चिड़िया रानी
नन्दलाल सुथार "राही"
* बेटियां *
* बेटियां *
surenderpal vaidya
हाइकु शतक (हाइकु संग्रह)
हाइकु शतक (हाइकु संग्रह)
Dr. Pradeep Kumar Sharma
Thought
Thought
अनिल कुमार गुप्ता 'अंजुम'
"आत्मा की वीणा"
Dr. Kishan tandon kranti
प्रीत प्रेम की
प्रीत प्रेम की
Monika Yadav (Rachina)
मुझे वो सब दिखाई देता है ,
मुझे वो सब दिखाई देता है ,
Manoj Mahato
पढ़ो लिखो आगे बढ़ो...
पढ़ो लिखो आगे बढ़ो...
डॉ.सीमा अग्रवाल
Loading...