Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
10 Feb 2024 · 1 min read

🌹थम जा जिन्दगी🌹

🌹थम जा जिन्दगी🌹
🙏🌹🙏🌹🙏🌹🙏🌹🙏
अब यही थम जा, ऐ जिन्दगी!
तेरी रफ़्तार से बहुत कुछ छूट गया…
वो सब पाना बाकी हैं।
न जाने कितनी हसरतें अधूरी रह गई…
उन्हें पूरा करना बाकी हैं।
मशक्क़त से सजाया आशियाना…
उसमें खुशियों के पल बिताना बाकी हैं।
काम की आपाधापी में बच्चों का बचपन छिन गया..
उनका यह ऋण चुकाना बाकी है।
खून- पसीने से जो सींची बगियाँ..
उसमें बहार का आना बाकी है।
भाग-दौड़ में जो लम्हें छूट गये…
उन लम्हों को जीना बाकी हैं।
आशियाना बनाने में उम्र ढ़ल गई…
अभी उसे सजाना बाकी है।
अब तो यही थम जा ऐ जिन्दगी!
सुकून के कुछ पल बिताना बाकी हैं।
“मधु” कुछ फर्ज निभाने अभी बाकी हैं।

1 Like · 97 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
Books from Dr Shweta sood
View all
You may also like:
तमाम उम्र काट दी है।
तमाम उम्र काट दी है।
Taj Mohammad
प्रकृति का बलात्कार
प्रकृति का बलात्कार
Atul "Krishn"
कुछ कहूं ना कहूं तुम भी सोचा करो,
कुछ कहूं ना कहूं तुम भी सोचा करो,
Sanjay ' शून्य'
*वोट हमें बनवाना है।*
*वोट हमें बनवाना है।*
Dushyant Kumar
यही सच है कि हासिल ज़िंदगी का
यही सच है कि हासिल ज़िंदगी का
Neeraj Naveed
बड़ा हिज्र -हिज्र करता है तू ,
बड़ा हिज्र -हिज्र करता है तू ,
Rohit yadav
#लघुकथा
#लघुकथा
*Author प्रणय प्रभात*
चन्द्रयान पहुँचा वहाँ,
चन्द्रयान पहुँचा वहाँ,
महावीर उत्तरांचली • Mahavir Uttranchali
आश्रित.......
आश्रित.......
Naushaba Suriya
उम्र पैंतालीस
उम्र पैंतालीस
सोलंकी प्रशांत (An Explorer Of Life)
स्कूल जाना है
स्कूल जाना है
SHAMA PARVEEN
गीत प्रतियोगिता के लिए
गीत प्रतियोगिता के लिए
Manisha joshi mani
भुलक्कड़ मामा
भुलक्कड़ मामा
Dr. Pradeep Kumar Sharma
आ अब लौट चले
आ अब लौट चले
Dr. Ramesh Kumar Nirmesh
खुद में हैं सब अधूरे
खुद में हैं सब अधूरे
Dr fauzia Naseem shad
एक सच ......
एक सच ......
sushil sarna
केहरि बनकर दहाड़ें
केहरि बनकर दहाड़ें
Umesh उमेश शुक्ल Shukla
आज के युग में कल की बात
आज के युग में कल की बात
Rituraj shivem verma
लड़के रोते नही तो क्या उन को दर्द नही होता
लड़के रोते नही तो क्या उन को दर्द नही होता
Sandhya Chaturvedi(काव्यसंध्या)
धिक्कार
धिक्कार
Shekhar Chandra Mitra
!! सत्य !!
!! सत्य !!
विनोद कृष्ण सक्सेना, पटवारी
"जियो जिन्दगी"
Dr. Kishan tandon kranti
एकांत मन
एकांत मन
TARAN VERMA
मैं तुम्हें लिखता रहूंगा
मैं तुम्हें लिखता रहूंगा
सुशील मिश्रा ' क्षितिज राज '
ग़ज़ल सगीर
ग़ज़ल सगीर
डॉ सगीर अहमद सिद्दीकी Dr SAGHEER AHMAD
जन्म मृत्यु का विश्व में, प्रश्न सदा से यक्ष ।
जन्म मृत्यु का विश्व में, प्रश्न सदा से यक्ष ।
Arvind trivedi
आ लौट के आजा टंट्या भील
आ लौट के आजा टंट्या भील
ऐ./सी.राकेश देवडे़ बिरसावादी
"What comes easy won't last,
पूर्वार्थ
*आई भादों अष्टमी, कृष्ण पक्ष की रात (कुंडलिया)*
*आई भादों अष्टमी, कृष्ण पक्ष की रात (कुंडलिया)*
Ravi Prakash
खामोशियां पढ़ने का हुनर हो
खामोशियां पढ़ने का हुनर हो
Amit Pandey
Loading...