Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
13 Apr 2024 · 1 min read

🌷🌷 *”स्कंदमाता”*🌷🌷

🌷🌷 “स्कंदमाता”🌷🌷
स्कंदमाता तेरी करे उपासना
मोक्ष के द्वार खोलने वाली परम सुख दायिनी।
बाल रूप स्कंद कार्तिकेय गोदी में ,चार भुजा कमल पुष्प पद्मासना धारिणी।

भक्त तुम्हारे शरणागत आये
अनहद चक्र साधती विशुद्ध चैतन्य स्वरुपिणी।
ध्यान साधना की वृत्तियों को एकाग्र ,
विशुद्ध चैतन्य प्रदायिनी।

देवासुर संग्राम में असुरों का संहार कर,
महिषासुर मर्दानी।
अद्भुत शक्त स्कंद की जननी ,
करुणामयी दर्शन प्रदायिनी।
उज्ज्वल निर्मल दिव्यस्वरूप ,
शारदीय चन्द्र मनभामिनी।

सच्चे मन से भक्त जो ध्यावे ,संकटों स विपदाओं को दूर कर मुक्तिदायिनी।
तेरी शरण जो भी आये सोए भाग्य जगा महिषासुर मर्दानी।

तेरे चरणों में शीश झुकाते जीवन सफल परम सुखदाई मोक्षदायिनी।
मोहमाया के चक्र से छूटे ,
सुमिरन कर दुख दूर पल में सुखदायिनी।
कमल पुष्प सा खिले अंतर्मन शुद्ध चैतन्य रूप प्रदायिनी।

स्कंदमाता तेरी उपासना से इच्छा पूर्ण होती, मृत्युलोक में परम शांति मोक्षदायिनी।
मोक्ष द्वार स्वयं सुलभ हो जाता दैवीय शक्ति करुण भाव प्रदायिनी।

शशिकला व्यास शिल्पी✍️🙏🌹🚩

29 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
You may also like:
तेरी धरती का खा रहे हैं हम
तेरी धरती का खा रहे हैं हम
नूरफातिमा खातून नूरी
" कृषक की व्यथा "
Dr. Asha Kumar Rastogi M.D.(Medicine),DTCD
प्यार का इम्तेहान
प्यार का इम्तेहान
Dr. Pradeep Kumar Sharma
*पुस्तक समीक्षा*
*पुस्तक समीक्षा*
Ravi Prakash
दोस्ती के नाम.....
दोस्ती के नाम.....
Naushaba Suriya
जब काँटों में फूल उगा देखा
जब काँटों में फूल उगा देखा
VINOD CHAUHAN
माँ
माँ
संजय कुमार संजू
विचार
विचार
अनिल कुमार गुप्ता 'अंजुम'
अधूरा नहीं हूँ मैं तेरे बिना
अधूरा नहीं हूँ मैं तेरे बिना
gurudeenverma198
"महंगा तजुर्बा सस्ता ना मिलै"
MSW Sunil SainiCENA
लघुकथा- धर्म बचा लिया।
लघुकथा- धर्म बचा लिया।
Dr Tabassum Jahan
"कोरोना बम से ज़्यादा दोषी हैं दस्ता,
*Author प्रणय प्रभात*
यशस्वी भव
यशस्वी भव
मनोज कर्ण
"यदि"
Dr. Kishan tandon kranti
Acrostic Poem- Human Values
Acrostic Poem- Human Values
jayanth kaweeshwar
ख़ुद से ख़ुद को
ख़ुद से ख़ुद को
Akash Yadav
लबो पे तबस्सुम निगाहों में बिजली,
लबो पे तबस्सुम निगाहों में बिजली,
Vishal babu (vishu)
हमारी समस्या का समाधान केवल हमारे पास हैl
हमारी समस्या का समाधान केवल हमारे पास हैl
Ranjeet kumar patre
23/151.*छत्तीसगढ़ी पूर्णिका*
23/151.*छत्तीसगढ़ी पूर्णिका*
Dr.Khedu Bharti
विद्यादायिनी माँ
विद्यादायिनी माँ
Mamta Rani
अंधेरों में अंधकार से ही रहा वास्ता...
अंधेरों में अंधकार से ही रहा वास्ता...
कवि दीपक बवेजा
Maybe the reason I'm no longer interested in being in love i
Maybe the reason I'm no longer interested in being in love i
पूर्वार्थ
कदम बढ़ाकर मुड़ना भी आसान कहां था।
कदम बढ़ाकर मुड़ना भी आसान कहां था।
Prabhu Nath Chaturvedi "कश्यप"
फिर कब आएगी ...........
फिर कब आएगी ...........
SATPAL CHAUHAN
जलन इंसान को ऐसे खा जाती है
जलन इंसान को ऐसे खा जाती है
shabina. Naaz
तिरे रूह को पाने की तश्नगी नहीं है मुझे,
तिरे रूह को पाने की तश्नगी नहीं है मुझे,
डॉ. शशांक शर्मा "रईस"
मोहब्बत जताई गई, इश्क फरमाया गया
मोहब्बत जताई गई, इश्क फरमाया गया
Kumar lalit
जिन्दगी के कुछ लम्हें अनमोल बन जाते हैं,
जिन्दगी के कुछ लम्हें अनमोल बन जाते हैं,
शेखर सिंह
पानी में हीं चाँद बुला
पानी में हीं चाँद बुला
Shweta Soni
Rap song (3)
Rap song (3)
Nishant prakhar
Loading...