Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
20 Feb 2023 · 1 min read

🌷साथ देते है कौन यहाँ 🌷

2214.
💥साथ देते है कौन यहाँ 💥
2122 22 22
आज रहते सब मौन यहाँ ।
साथ देते है कौन यहाँ ।।

रोक सकता है तो रोको ।
रूकता है अब कौन यहाँ ।।

राम जैसे मानव जीवन ।
बोल जीते है कौन यहाँ ।।

शान कितनी रखती दुनिया।
जानते है सच कौन यहाँ ।।

प्यार का है सपना खेदू ।
दे खुशी कब कौन यहाँ ।।
……….✍प्रो .खेदू भारती “सत्येश”
20-2-2023सोमवार

Language: Hindi
50 Views
Join our official announcements group on Whatsapp & get all the major updates from Sahityapedia directly on Whatsapp.
You may also like:
पीड़ादायक होता है
पीड़ादायक होता है
अभिषेक पाण्डेय ‘अभि’
भक्त गोरा कुम्हार
भक्त गोरा कुम्हार
Pravesh Shinde
रक्तिम- इतिहास
रक्तिम- इतिहास
शायर देव मेहरानियां
तेरे हुस्न के होगें लाखों दिवानें , हम तो तेरे दिवानों के का
तेरे हुस्न के होगें लाखों दिवानें , हम तो तेरे दिवानों के का
Sonu sugandh
*सीता नवमी*
*सीता नवमी*
Shashi kala vyas
माँ वाणी की वन्दना
माँ वाणी की वन्दना
Prakash Chandra
पुस्तकें
पुस्तकें
नन्दलाल सुथार "राही"
'स्वागत प्रिये..!'
'स्वागत प्रिये..!'
Dr. Asha Kumar Rastogi M.D.(Medicine),DTCD
उन वीर सपूतों को
उन वीर सपूतों को
gurudeenverma198
जो लिखा नहीं.....लिखने की कोशिश में हूँ...
जो लिखा नहीं.....लिखने की कोशिश में हूँ...
Vishal babu (vishu)
नग मंजुल मन मन भावे🌺🪵☘️🍁🪴
नग मंजुल मन मन भावे🌺🪵☘️🍁🪴
Tarun Prasad
💐प्रेम कौतुक-355💐
💐प्रेम कौतुक-355💐
शिवाभिषेक: 'आनन्द'(अभिषेक पाराशर)
ग़ज़ल
ग़ज़ल
Jitendra Kumar Noor
अंधेरों में मुझे धकेलकर छीन ली रौशनी मेरी,
अंधेरों में मुझे धकेलकर छीन ली रौशनी मेरी,
Vaishnavi Gupta (Vaishu)
जानवर और आदमी में फर्क
जानवर और आदमी में फर्क
सुरेश कुमार चतुर्वेदी
मिल जाते हैं राहों में वे अकसर ही आजकल।
मिल जाते हैं राहों में वे अकसर ही आजकल।
Prabhu Nath Chaturvedi
खुद पर विश्वास करें
खुद पर विश्वास करें
Dinesh Gupta
बचपन के पल
बचपन के पल
Soni Gupta
चांद निकला है तुम्हे देखने के लिए
चांद निकला है तुम्हे देखने के लिए
ठाकुर प्रतापसिंह "राणाजी"
"नया अवतार"
Dr. Kishan tandon kranti
रखे हों पास में लड्डू, न ललचाए मगर रसना।
रखे हों पास में लड्डू, न ललचाए मगर रसना।
डॉ.सीमा अग्रवाल
■ लघु व्यंग्य-
■ लघु व्यंग्य-
*Author प्रणय प्रभात*
[06/03, 13:44] Dr.Rambali Mishra: *होलिका दहन*
[06/03, 13:44] Dr.Rambali Mishra: *होलिका दहन*
Rambali Mishra
कोरोना काल
कोरोना काल
Sandeep Pande
पापा
पापा
Satish Srijan
भूल जाते हैं मौत को कैसे
भूल जाते हैं मौत को कैसे
Dr fauzia Naseem shad
*सड़क बढ़ती ही जाती है 【हिंदी गजल/गीतिका】*
*सड़क बढ़ती ही जाती है 【हिंदी गजल/गीतिका】*
Ravi Prakash
Gulab ke hasin khab bunne wali
Gulab ke hasin khab bunne wali
Sakshi Tripathi
Loneliness in holi
Loneliness in holi
Ankita Patel
शांति तुम आ गई
शांति तुम आ गई
Jeewan Singh
Loading...