Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
26 Sep 2022 · 1 min read

✍️लबो ने मुस्कुराना सिख लिया

मुश्किलो के ऊँचे पहाड़ो पे चढ़ना उतरना सिख लिया
दर्द का समंदर लाख गहरा हो हमने तैरना सिख लिया

पाँव छालों भरे है फिर भी रास्तो से हमें कोई बैर नही
तड़पती रूह में भी इन लबो ने मुस्कुराना सिख लिया
………………………………………………………………………//
©✍️’अशांत’ शेखर
26/09/2022

Language: Hindi
Tag: शेर
3 Likes · 6 Comments · 162 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
You may also like:
भूले से हमने उनसे
भूले से हमने उनसे
Sunil Suman
तोड देना वादा,पर कोई वादा तो कर
तोड देना वादा,पर कोई वादा तो कर
Ram Krishan Rastogi
कुछ रिश्तो में हम केवल ..जरूरत होते हैं जरूरी नहीं..! अपनी अ
कुछ रिश्तो में हम केवल ..जरूरत होते हैं जरूरी नहीं..! अपनी अ
पूर्वार्थ
"चाह"
Dr. Asha Kumar Rastogi M.D.(Medicine),DTCD
जब तलक था मैं अमृत, निचोड़ा गया।
जब तलक था मैं अमृत, निचोड़ा गया।
डॉ. अनिल 'अज्ञात'
मोहब्बत में मोहब्बत से नजर फेरा,
मोहब्बत में मोहब्बत से नजर फेरा,
goutam shaw
लक्ष्मी-पूजन
लक्ष्मी-पूजन
कवि रमेशराज
पिछले पन्ने 6
पिछले पन्ने 6
Paras Nath Jha
रस्सी जैसी जिंदगी हैं,
रस्सी जैसी जिंदगी हैं,
Jay Dewangan
बस यूँ ही
बस यूँ ही
Neelam Sharma
दहेज की जरूरत नहीं
दहेज की जरूरत नहीं
भरत कुमार सोलंकी
" यादों की शमा"
Pushpraj Anant
तेरा बना दिया है मुझे
तेरा बना दिया है मुझे
gurudeenverma198
गीता जयंती
गीता जयंती
Satish Srijan
*धन्य रामकथा(कुंडलिया)*
*धन्य रामकथा(कुंडलिया)*
Ravi Prakash
*बाल गीत (पागल हाथी )*
*बाल गीत (पागल हाथी )*
Rituraj shivem verma
इश्क की रूह
इश्क की रूह
आर एस आघात
मां मेरे सिर पर झीना सा दुपट्टा दे दो ,
मां मेरे सिर पर झीना सा दुपट्टा दे दो ,
Manju sagar
ज़रूरत के तकाज़ो पर
ज़रूरत के तकाज़ो पर
Dr fauzia Naseem shad
भय, भाग्य और भरोसा (राहुल सांकृत्यायन के संग) / MUSAFIR BAITHA
भय, भाग्य और भरोसा (राहुल सांकृत्यायन के संग) / MUSAFIR BAITHA
Dr MusafiR BaithA
यादों की एक नई सहर. . . . .
यादों की एक नई सहर. . . . .
sushil sarna
अरे योगी तूने क्या किया ?
अरे योगी तूने क्या किया ?
Mukta Rashmi
#लघुकथा- चुनावी साल, वही बवाल
#लघुकथा- चुनावी साल, वही बवाल
*प्रणय प्रभात*
‘’ हमनें जो सरताज चुने है ,
‘’ हमनें जो सरताज चुने है ,
Vivek Mishra
जिंदगी सितार हो गयी
जिंदगी सितार हो गयी
Mamta Rani
वो कहती हैं ग़ैर हों तुम अब! हम तुमसे प्यार नहीं करते
वो कहती हैं ग़ैर हों तुम अब! हम तुमसे प्यार नहीं करते
The_dk_poetry
मैं जानता हूॅ॑ उनको और उनके इरादों को
मैं जानता हूॅ॑ उनको और उनके इरादों को
VINOD CHAUHAN
मन को आनंदित करे,
मन को आनंदित करे,
Rashmi Sanjay
"रहस्यमयी"
Dr. Kishan tandon kranti
युगों    पुरानी    कथा   है, सम्मुख  करें व्यान।
युगों पुरानी कथा है, सम्मुख करें व्यान।
जूनियर झनक कैलाश अज्ञानी झाँसी
Loading...