Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
6 Feb 2023 · 1 min read

✍️दोस्ती ✍️

तेरी दोस्ती का कुछ इस कदर चढ़ा फितूर है,
ये दिल गुलाम तेरा तू इस दिल का हुज़ूर है,

सैलाब आये नज़रों में फ़िर भी तुझे देख मुस्कुरा देती हुँ
तेरी दोस्ती में कोई जादू तो ज़रूर है,

मैं तुझमे ख़ुद को देखूँ तेरी आंखें मेरा आईना,
आज आईना खामोश है क्युकि तू मुझसे दूर है,

मेरा हर मसला तू पल भर में सुलझा देती है,
हर ख्वाहिश पूरा करने वाली तू जन्नत की हूर है,

सलामत रहे ये दोस्ताना जिंदगी के हर मोड़ पर,
तू मेरी है मुझे इस बात पर गुरुर है।

✍️वैष्णवी गुप्ता (vaishu)
कौशाम्बी

Language: Hindi
6 Likes · 10 Comments · 237 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
You may also like:
हिसाब हुआ जब संपत्ति का मैंने अपने हिस्से में किताबें मांग ल
हिसाब हुआ जब संपत्ति का मैंने अपने हिस्से में किताबें मांग ल
Lokesh Sharma
जैसे हम,
जैसे हम,
नेताम आर सी
"I'm someone who wouldn't mind spending all day alone.
पूर्वार्थ
पीड़ादायक होता है
पीड़ादायक होता है
अभिषेक पाण्डेय 'अभि ’
धोखा वफा की खाई है हमने
धोखा वफा की खाई है हमने
Ranjeet kumar patre
*छंद--भुजंग प्रयात
*छंद--भुजंग प्रयात
Poonam gupta
जबकि मैं लोगों को सिखाता हूँ जीना
जबकि मैं लोगों को सिखाता हूँ जीना
gurudeenverma198
मुखड़े पर खिलती रहे, स्नेह भरी मुस्कान।
मुखड़े पर खिलती रहे, स्नेह भरी मुस्कान।
surenderpal vaidya
प्रबल वेग बरसात का,
प्रबल वेग बरसात का,
sushil sarna
हम खुद से प्यार करते हैं
हम खुद से प्यार करते हैं
ruby kumari
"हैसियत"
Dr. Kishan tandon kranti
समय के साथ ही हम है
समय के साथ ही हम है
Neeraj Agarwal
शादी की वर्षगांठ
शादी की वर्षगांठ
R D Jangra
जिन्दगी कभी नाराज होती है,
जिन्दगी कभी नाराज होती है,
Ragini Kumari
6) जाने क्यों
6) जाने क्यों
पूनम झा 'प्रथमा'
अपना सा नाइजीरिया
अपना सा नाइजीरिया
Shashi Mahajan
13-छन्न पकैया छन्न पकैया
13-छन्न पकैया छन्न पकैया
Ajay Kumar Vimal
समझ
समझ
Dinesh Kumar Gangwar
आपस में अब द्वंद है, मिलते नहीं स्वभाव।
आपस में अब द्वंद है, मिलते नहीं स्वभाव।
Manoj Mahato
*....आज का दिन*
*....आज का दिन*
Naushaba Suriya
जयंत (कौआ) के कथा।
जयंत (कौआ) के कथा।
Acharya Rama Nand Mandal
सुनो पहाड़ की...!!! (भाग - ९)
सुनो पहाड़ की...!!! (भाग - ९)
Kanchan Khanna
*सदियों बाद पधारे हैं प्रभु, जन्मभूमि हर्षाई है (हिंदी गजल)*
*सदियों बाद पधारे हैं प्रभु, जन्मभूमि हर्षाई है (हिंदी गजल)*
Ravi Prakash
दिल-ए-मज़बूर ।
दिल-ए-मज़बूर ।
Yash Tanha Shayar Hu
योग
योग
लक्ष्मी सिंह
#ग़ज़ल-
#ग़ज़ल-
*प्रणय प्रभात*
सच बोलने वाले के पास कोई मित्र नहीं होता।
सच बोलने वाले के पास कोई मित्र नहीं होता।
Dr MusafiR BaithA
देखा नहीं है कभी तेरे हुस्न का हसीं ख़्वाब,
देखा नहीं है कभी तेरे हुस्न का हसीं ख़्वाब,
डॉ. शशांक शर्मा "रईस"
जय भोलेनाथ
जय भोलेनाथ
Anil Mishra Prahari
नव-निवेदन
नव-निवेदन
Jeewan Singh 'जीवनसवारो'
Loading...