Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
28 Jun 2022 · 1 min read

✍️तंगदिली✍️

✍️तंगदिली✍️
…………………..//
ढाई
अक्षर
प्रेम के…
ढाई
अक्षर
त्याग के…

दोनों
के लिए
इंसान
तंगदिली…
करता है।
……………………………….//
✍️”अशांत”शेखर✍️

1 Like · 131 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
You may also like:
*बहू- बेटी- तलाक*
*बहू- बेटी- तलाक*
Radhakishan R. Mundhra
माँ मेरा मन
माँ मेरा मन
लक्ष्मी सिंह
*तन तो बूढ़ा हो गया, जिह्वा अभी जवान (आठ दोहे)*
*तन तो बूढ़ा हो गया, जिह्वा अभी जवान (आठ दोहे)*
Ravi Prakash
~ हमारे रक्षक~
~ हमारे रक्षक~
करन ''केसरा''
रोमांटिक रिबेल शायर
रोमांटिक रिबेल शायर
Shekhar Chandra Mitra
2972.*पूर्णिका*
2972.*पूर्णिका*
Dr.Khedu Bharti
■ एक और शेर...
■ एक और शेर...
*Author प्रणय प्रभात*
कस्तूरी इत्र
कस्तूरी इत्र
सोलंकी प्रशांत (An Explorer Of Life)
प्रभु राम नाम का अवलंब
प्रभु राम नाम का अवलंब
Umesh उमेश शुक्ल Shukla
"एक सुबह मेघालय की"
अमित मिश्र
सबसे ऊंचा हिन्द देश का
सबसे ऊंचा हिन्द देश का
surenderpal vaidya
अपना घर
अपना घर
Shyam Sundar Subramanian
Wishing you a very happy,
Wishing you a very happy,
DrChandan Medatwal
अच्छा ही हुआ कि तुमने धोखा दे  दिया......
अच्छा ही हुआ कि तुमने धोखा दे दिया......
Rakesh Singh
वृंदावन की कुंज गलियां
वृंदावन की कुंज गलियां
तारकेश्‍वर प्रसाद तरुण
क्योंकि मै प्रेम करता हु - क्योंकि तुम प्रेम करती हो
क्योंकि मै प्रेम करता हु - क्योंकि तुम प्रेम करती हो
Basant Bhagawan Roy
रिश्ते का अहसास
रिश्ते का अहसास
Paras Nath Jha
मन मेरे तू सावन सा बन....
मन मेरे तू सावन सा बन....
डॉ.सीमा अग्रवाल
किसी की किस्मत संवार के देखो
किसी की किस्मत संवार के देखो
अनिल कुमार गुप्ता 'अंजुम'
जल संरक्षण
जल संरक्षण
Preeti Karn
Pollution & Mental Health
Pollution & Mental Health
Tushar Jagawat
जिसके लिए कसीदे गढ़ें
जिसके लिए कसीदे गढ़ें
DrLakshman Jha Parimal
★संघर्ष जीवन का★
★संघर्ष जीवन का★
★ IPS KAMAL THAKUR ★
औलाद
औलाद
Sushil chauhan
वादा था भूलने का
वादा था भूलने का
Dr fauzia Naseem shad
हां मैं पारस हूं, तुम्हें कंचन बनाऊंगी
हां मैं पारस हूं, तुम्हें कंचन बनाऊंगी
सुरेश कुमार चतुर्वेदी
गम छुपाए रखते है।
गम छुपाए रखते है।
Taj Mohammad
फीके फीके रंग हैं, फीकी फ़ाग फुहार।
फीके फीके रंग हैं, फीकी फ़ाग फुहार।
Suryakant Dwivedi
💐प्रेम कौतुक-295💐
💐प्रेम कौतुक-295💐
शिवाभिषेक: 'आनन्द'(अभिषेक पाराशर)
नादान पक्षी
नादान पक्षी
Neeraj Agarwal
Loading...