Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
17 Oct 2022 · 1 min read

✍️गुमसुम सी रातें ✍️

क्या कहुँ दास्ताँ उन गुमसुम सी रातों की,
जो तेरे आने के ख़्वाब देखते देखते चुपचाप सो जाती है।

✍️वैष्णवी गुप्ता (vaishu)
कौशांबी

Language: Hindi
Tag: शेर
7 Likes · 4 Comments · 181 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
You may also like:
2447.पूर्णिका
2447.पूर्णिका
Dr.Khedu Bharti
पेड़ काट निर्मित किए, घुटन भरे बहु भौन।
पेड़ काट निर्मित किए, घुटन भरे बहु भौन।
विमला महरिया मौज
निरन्तरता ही जीवन है चलते रहिए
निरन्तरता ही जीवन है चलते रहिए
सुशील मिश्रा ' क्षितिज राज '
कोई चाहे कितने भी,
कोई चाहे कितने भी,
नेताम आर सी
#लघुकथा :--
#लघुकथा :--
*Author प्रणय प्रभात*
नजर और नजरिया
नजर और नजरिया
Dr. Kishan tandon kranti
ज़माना इश्क़ की चादर संभारने आया ।
ज़माना इश्क़ की चादर संभारने आया ।
Phool gufran
टैगोर
टैगोर
Aman Kumar Holy
दिल -ए- ज़िंदा
दिल -ए- ज़िंदा
Shyam Sundar Subramanian
दिल में है जो बात
दिल में है जो बात
Surinder blackpen
तेरी यादों के आईने को
तेरी यादों के आईने को
Atul "Krishn"
मायूस ज़िंदगी
मायूस ज़िंदगी
Ram Babu Mandal
ज़िस्म की खुश्बू,
ज़िस्म की खुश्बू,
Bodhisatva kastooriya
सीख
सीख
Sanjay ' शून्य'
¡¡¡●टीस●¡¡¡
¡¡¡●टीस●¡¡¡
Dr Manju Saini
माँ से बढ़कर नहीं है कोई
माँ से बढ़कर नहीं है कोई
जगदीश लववंशी
* किधर वो गया है *
* किधर वो गया है *
surenderpal vaidya
सफ़र में लाख़ मुश्किल हो मगर रोया नहीं करते
सफ़र में लाख़ मुश्किल हो मगर रोया नहीं करते
Johnny Ahmed 'क़ैस'
आज़ाद भारत एक ऐसा जुमला है
आज़ाद भारत एक ऐसा जुमला है
SURYA PRAKASH SHARMA
आजमाइश
आजमाइश
AJAY AMITABH SUMAN
ज़िंदगी से शिकायत
ज़िंदगी से शिकायत
Dr fauzia Naseem shad
भारत का लाल
भारत का लाल
Aman Sinha
*शिकायतें तो बहुत सी है इस जिंदगी से ,परंतु चुप चाप मौन रहकर
*शिकायतें तो बहुत सी है इस जिंदगी से ,परंतु चुप चाप मौन रहकर
Shashi kala vyas
यादों के सहारे कट जाती है जिन्दगी,
यादों के सहारे कट जाती है जिन्दगी,
Ram Krishan Rastogi
2- साँप जो आस्तीं में पलते हैं
2- साँप जो आस्तीं में पलते हैं
Ajay Kumar Vimal
बारम्बार प्रणाम
बारम्बार प्रणाम
Pratibha Pandey
अंतरिक्ष में आनन्द है
अंतरिक्ष में आनन्द है
Satish Srijan
ये मेरा हिंदुस्तान
ये मेरा हिंदुस्तान
Mamta Rani
अंध विश्वास एक ऐसा धुआं है जो बिना किसी आग के प्रकट होता है।
अंध विश्वास एक ऐसा धुआं है जो बिना किसी आग के प्रकट होता है।
Rj Anand Prajapati
*सब पर मकान-गाड़ी, की किस्त की उधारी (हिंदी गजल)*
*सब पर मकान-गाड़ी, की किस्त की उधारी (हिंदी गजल)*
Ravi Prakash
Loading...