Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
28 Sep 2022 · 1 min read

✍️अस्तित्वाच्या पाऊलखुणा

पावलांना
कधी कुठे
उसंत असते…
ते शोधत
फिरतात
आपल्याच
अस्तित्वाच्या
पाऊलखुणा
चुकलेल्या
भूतकाळातल्या…

पुन्हा पुन्हा
भविष्याच्या
वाटचालीत
दिशाभूल
करणारा
तोच तो भूतकाळ
येऊ नये म्हणून…

मात्र वर्तमान
निरंतर सांगड
घालत बसतो
भुतकाळाला ही
समझ देत…
भविष्याला सुद्धा
तो सांत्वना देऊन जातो
एका नव्या उमेदीची…

पाऊलांना
खरचं कुठे
उसंत मिळते
ते मग झपाझपा
चालू लागतात
परत आयुष्याच्या
आशादायी वाटेवर
कधी ही न थांबता…
……………………………………………//
©✍️’अशांत’ शेखर
28/09/2022

296 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
You may also like:
वक्त थमा नहीं, तुम कैसे थम गई,
वक्त थमा नहीं, तुम कैसे थम गई,
लक्ष्मी सिंह
कोई तो कोहरा हटा दे मेरे रास्ते का,
कोई तो कोहरा हटा दे मेरे रास्ते का,
Vaishnavi Gupta (Vaishu)
अर्थी पे मेरे तिरंगा कफ़न हो
अर्थी पे मेरे तिरंगा कफ़न हो
Er.Navaneet R Shandily
*रात से दोस्ती* ( 9 of 25)
*रात से दोस्ती* ( 9 of 25)
Kshma Urmila
रूख हवाओं का
रूख हवाओं का
Dr fauzia Naseem shad
" अधरों पर मधु बोल "
भगवती प्रसाद व्यास " नीरद "
23/56.*छत्तीसगढ़ी पूर्णिका*
23/56.*छत्तीसगढ़ी पूर्णिका*
Dr.Khedu Bharti
राह पर चलते चलते घटित हो गई एक अनहोनी, थम गए कदम,
राह पर चलते चलते घटित हो गई एक अनहोनी, थम गए कदम,
Sukoon
दर्द  जख्म कराह सब कुछ तो हैं मुझ में
दर्द जख्म कराह सब कुछ तो हैं मुझ में
Ashwini sharma
*सखी री, राखी कौ दिन आयौ!*
*सखी री, राखी कौ दिन आयौ!*
जूनियर झनक कैलाश अज्ञानी झाँसी
शमशान घाट
शमशान घाट
Satish Srijan
*बिन बुलाए आ जाता है सवाल नहीं करता.!!*
*बिन बुलाए आ जाता है सवाल नहीं करता.!!*
AVINASH (Avi...) MEHRA
हम
हम "फलाने" को
*Author प्रणय प्रभात*
किस्मत की लकीरें
किस्मत की लकीरें
Dr Parveen Thakur
अनवरत....
अनवरत....
पंकज पाण्डेय सावर्ण्य
शिक्षा
शिक्षा
Buddha Prakash
भारत का ’मुख्यधारा’ का मीडिया मूलतः मनुऔलादी है।
भारत का ’मुख्यधारा’ का मीडिया मूलतः मनुऔलादी है।
Dr MusafiR BaithA
"मुद्रा"
Dr. Kishan tandon kranti
कोशिश मेरी बेकार नहीं जायेगी कभी
कोशिश मेरी बेकार नहीं जायेगी कभी
gurudeenverma198
व्यक्ति नही व्यक्तित्व अस्ति नही अस्तित्व यशस्वी राज नाथ सिंह जी
व्यक्ति नही व्यक्तित्व अस्ति नही अस्तित्व यशस्वी राज नाथ सिंह जी
नंदलाल मणि त्रिपाठी पीताम्बर
Perhaps the most important moment in life is to understand y
Perhaps the most important moment in life is to understand y
पूर्वार्थ
** मंजिलों की तरफ **
** मंजिलों की तरफ **
surenderpal vaidya
वो सुहाने दिन
वो सुहाने दिन
Aman Sinha
लघुकथा कौमुदी ( समीक्षा )
लघुकथा कौमुदी ( समीक्षा )
डाॅ. बिपिन पाण्डेय
मैं ....
मैं ....
sushil sarna
*प्राण-प्रतिष्ठा सच पूछो तो, हुई राष्ट्र अभिमान की (गीत)*
*प्राण-प्रतिष्ठा सच पूछो तो, हुई राष्ट्र अभिमान की (गीत)*
Ravi Prakash
तुम गंगा की अल्हड़ धारा
तुम गंगा की अल्हड़ धारा
Sahil Ahmad
अयोध्या धाम तुम्हारा तुमको पुकारे
अयोध्या धाम तुम्हारा तुमको पुकारे
Harminder Kaur
संस्कारी बड़ी - बड़ी बातें करना अच्छी बात है, इनको जीवन में
संस्कारी बड़ी - बड़ी बातें करना अच्छी बात है, इनको जीवन में
लोकेश शर्मा 'अवस्थी'
लाल बहादुर शास्त्री
लाल बहादुर शास्त्री
Kavita Chouhan
Loading...