Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
14 Mar 2023 · 1 min read

■ समयोचित सलाह

■ आत्मसम्मान अनिवार्य…
धन-दौलत, सफलता, समृद्धि, यश-प्रतिष्ठा अपनी जगह और आत्म-सम्मान अपनी जगह। इसके साथ कोई समझौता नहीं होना चाहिए। चाहे सामने कोई भी हो और हालात कैसी भी हों।
【प्रणय प्रभात】

1 Like · 469 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
You may also like:
हाइकु
हाइकु
अशोक कुमार ढोरिया
रामराज्य
रामराज्य
कार्तिक नितिन शर्मा
‘ विरोधरस ‘ [ शोध-प्रबन्ध ] विचारप्रधान कविता का रसात्मक समाधान +लेखक - रमेशराज
‘ विरोधरस ‘ [ शोध-प्रबन्ध ] विचारप्रधान कविता का रसात्मक समाधान +लेखक - रमेशराज
कवि रमेशराज
पैसा सौगात के नाम पर बंटे
पैसा सौगात के नाम पर बंटे
*प्रणय प्रभात*
" *लम्हों में सिमटी जिंदगी* ""
सुनीलानंद महंत
अंधकार जितना अधिक होगा प्रकाश का प्रभाव भी उसमें उतना गहरा औ
अंधकार जितना अधिक होगा प्रकाश का प्रभाव भी उसमें उतना गहरा औ
Rj Anand Prajapati
"चाँद का टुकड़ा"
Dr. Kishan tandon kranti
सारी तल्ख़ियां गर हम ही से हों तो, बात  ही क्या है,
सारी तल्ख़ियां गर हम ही से हों तो, बात ही क्या है,
Shreedhar
संवेग बने मरणासन्न
संवेग बने मरणासन्न
प्रेमदास वसु सुरेखा
रंग रहे उमंग रहे और आपका संग रहे
रंग रहे उमंग रहे और आपका संग रहे
सुरेश कुमार चतुर्वेदी
ज़िंदगी हो
ज़िंदगी हो
Dr fauzia Naseem shad
Emerging Water Scarcity Problem in Urban Areas
Emerging Water Scarcity Problem in Urban Areas
Shyam Sundar Subramanian
संघर्ष....... जीवन
संघर्ष....... जीवन
Neeraj Agarwal
सुधि सागर में अवतरित,
सुधि सागर में अवतरित,
sushil sarna
Stages Of Love
Stages Of Love
Vedha Singh
महाशिवरात्रि
महाशिवरात्रि
Seema gupta,Alwar
एहसास.....
एहसास.....
Harminder Kaur
*केले खाता बंदर (बाल कविता)*
*केले खाता बंदर (बाल कविता)*
Ravi Prakash
नारी शक्ति का सम्मान🙏🙏
नारी शक्ति का सम्मान🙏🙏
तारकेश्‍वर प्रसाद तरुण
2349.पूर्णिका
2349.पूर्णिका
Dr.Khedu Bharti
आज पुराने ख़त का, संदूक में द़ीद़ार होता है,
आज पुराने ख़त का, संदूक में द़ीद़ार होता है,
SPK Sachin Lodhi
एक नयी शुरुआत !!
एक नयी शुरुआत !!
Rachana
मुझसे बेज़ार ना करो खुद को
मुझसे बेज़ार ना करो खुद को
Shweta Soni
धूम भी मच सकती है
धूम भी मच सकती है
gurudeenverma198
कब तक छुपाकर रखोगे मेरे नाम को
कब तक छुपाकर रखोगे मेरे नाम को
Manoj Mahato
*खुशियों की सौगात*
*खुशियों की सौगात*
DR ARUN KUMAR SHASTRI
तलवारें निकली है तो फिर चल जाने दो।
तलवारें निकली है तो फिर चल जाने दो।
Prabhu Nath Chaturvedi "कश्यप"
अपने वीर जवान
अपने वीर जवान
डॉ०छोटेलाल सिंह 'मनमीत'
आप सच बताइयेगा
आप सच बताइयेगा
शेखर सिंह
मैं पलट कर नही देखती अगर ऐसा कहूँगी तो झूठ कहूँगी
मैं पलट कर नही देखती अगर ऐसा कहूँगी तो झूठ कहूँगी
ruby kumari
Loading...