Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
14 Jun 2023 · 1 min read

■ विडंबना-

■ विडंबना-
कहते हैं कि सब भरे में भरते हैं। इस सच के प्रमाण सिर्फ़ इंसान ही नहीं बादल भी हैं और कुदरत भी।
■प्रणय प्रभात■

1 Like · 373 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
You may also like:
हिंदी पखवाडा
हिंदी पखवाडा
Shashi Dhar Kumar
स्त्री:-
स्त्री:-
Vivek Mishra
राम नाम अतिसुंदर पथ है।
राम नाम अतिसुंदर पथ है।
Vijay kumar Pandey
बारिश की बूंदे
बारिश की बूंदे
Praveen Sain
💐प्रेम कौतुक-451💐
💐प्रेम कौतुक-451💐
शिवाभिषेक: 'आनन्द'(अभिषेक पाराशर)
क्रांति की बात ही ना करो
क्रांति की बात ही ना करो
Rohit yadav
सांता क्लॉज आया गिफ्ट लेकर
सांता क्लॉज आया गिफ्ट लेकर
Suman (Aditi Angel 🧚🏻)
ऐसे हंसते रहो(बाल दिवस पर)
ऐसे हंसते रहो(बाल दिवस पर)
gurudeenverma198
बिटिया की जन्मकथा / मुसाफ़िर बैठा
बिटिया की जन्मकथा / मुसाफ़िर बैठा
Dr MusafiR BaithA
तू रूठा मैं टूट गया_ हिम्मत तुमसे सारी थी।
तू रूठा मैं टूट गया_ हिम्मत तुमसे सारी थी।
Rajesh vyas
प्रेमचन्द के पात्र अब,
प्रेमचन्द के पात्र अब,
महावीर उत्तरांचली • Mahavir Uttranchali
Jeevan ke is chor pr, shanshon ke jor pr
Jeevan ke is chor pr, shanshon ke jor pr
Anu dubey
सोच समझ कर
सोच समझ कर
पूर्वार्थ
मेरे दिल मे रहा जुबान पर आया नहीं....,
मेरे दिल मे रहा जुबान पर आया नहीं....,
कवि दीपक बवेजा
मासूमियत की हत्या से आहत
मासूमियत की हत्या से आहत
Sanjay ' शून्य'
*जनता के कब पास है, दो हजार का नोट* *(कुंडलिया)*
*जनता के कब पास है, दो हजार का नोट* *(कुंडलिया)*
Ravi Prakash
आज का चयनित छंद
आज का चयनित छंद"रोला"अर्ध सम मात्रिक
rekha mohan
मानव तेरी जय
मानव तेरी जय
Sandeep Pande
नव वर्ष हैप्पी वाला
नव वर्ष हैप्पी वाला
Satish Srijan
मौन
मौन
निकेश कुमार ठाकुर
यहाँ तो मात -पिता
यहाँ तो मात -पिता
DrLakshman Jha Parimal
कभी फौजी भाइयों पर दुश्मनों के
कभी फौजी भाइयों पर दुश्मनों के
ओनिका सेतिया 'अनु '
" वर्ष 2023 ,बालीवुड के लिए सफ़लता की नयी इबारत लिखेगा "
डॉक्टर वासिफ़ काज़ी
कैसी पूजा फिर कैसी इबादत आपकी
कैसी पूजा फिर कैसी इबादत आपकी
Dr fauzia Naseem shad
आखिरी वक्त में
आखिरी वक्त में
Harminder Kaur
2763. *पूर्णिका*
2763. *पूर्णिका*
Dr.Khedu Bharti
I Can Cut All The Strings Attached
I Can Cut All The Strings Attached
Manisha Manjari
■ कितना वदल गया परिवेश।।😢😢
■ कितना वदल गया परिवेश।।😢😢
*Author प्रणय प्रभात*
तिरंगा
तिरंगा
Dr. Pradeep Kumar Sharma
अंधकार जितना अधिक होगा प्रकाश का प्रभाव भी उसमें उतना गहरा औ
अंधकार जितना अधिक होगा प्रकाश का प्रभाव भी उसमें उतना गहरा औ
Rj Anand Prajapati
Loading...