Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
26 Jan 2023 · 1 min read

■ मुक्तक।

#मुक्तक-
■ पर्व का संदेश
【प्रणय प्रभात】
“ना परिंदों के पंख घायल हों,
ना ही ज़ख्मी किसी की पायल हो।
अपनी इंसानियत टटोलें हम,
आओ, जय हिंद साथ बोलें हम।।”
पर्व छोटा हो चाहे बड़ा। धार्मिक हो, सांस्कृतिक हो, सामाजिक हो या फिर राष्ट्रीय। सबका अपना कोई न कोई संदेश होता ही है। गणतंत्र दिवस का संदेश है कि हम सारी सीमाओं से ऊपर उठ कर अपने संविधान का मान करें। राष्ट्र की संप्रभुता का सम्मान करें और देश के गौरव का गान करें। साथ ही उन पावन उद्घोषों का सामूहिक नाद करें जो हमारी एकता व राष्ट्रीयता के प्रतीक हैं। जय हिंद। वंदे मातरम।।

1 Like · 270 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
You may also like:
#आज_का_शोध😊
#आज_का_शोध😊
*प्रणय प्रभात*
"कैसे कह दें"
Dr. Kishan tandon kranti
ग़ज़ल _ क्या हुआ मुस्कुराने लगे हम ।
ग़ज़ल _ क्या हुआ मुस्कुराने लगे हम ।
Neelofar Khan
प्रेम के मायने
प्रेम के मायने
Awadhesh Singh
2356.पूर्णिका
2356.पूर्णिका
Dr.Khedu Bharti
तन्हाई में अपनी परछाई से भी डर लगता है,
तन्हाई में अपनी परछाई से भी डर लगता है,
डॉ. शशांक शर्मा "रईस"
शाम ढलते ही
शाम ढलते ही
Davina Amar Thakral
Charlie Chaplin truly said:
Charlie Chaplin truly said:
Vansh Agarwal
शिशिर ऋतु-३
शिशिर ऋतु-३
Vishnu Prasad 'panchotiya'
"दो पहलू"
Yogendra Chaturwedi
सोने के सुन्दर आभूषण
सोने के सुन्दर आभूषण
surenderpal vaidya
इतनी मिलती है तेरी सूरत से सूरत मेरी ‌
इतनी मिलती है तेरी सूरत से सूरत मेरी ‌
Phool gufran
तीन बुंदेली दोहा- #किवरिया / #किवरियाँ
तीन बुंदेली दोहा- #किवरिया / #किवरियाँ
राजीव नामदेव 'राना लिधौरी'
ढलता सूरज गहराती लालिमा देती यही संदेश
ढलता सूरज गहराती लालिमा देती यही संदेश
Neerja Sharma
शराब खान में
शराब खान में
DR. Kaushal Kishor Shrivastava
एक छोर नेता खड़ा,
एक छोर नेता खड़ा,
Sanjay ' शून्य'
घबरा के छोड़ दें
घबरा के छोड़ दें
Dr fauzia Naseem shad
साहस है तो !
साहस है तो !
Ramswaroop Dinkar
*क्या देखते हो *
*क्या देखते हो *
DR ARUN KUMAR SHASTRI
याद आए दिन बचपन के
याद आए दिन बचपन के
Manu Vashistha
मात पिता
मात पिता
विजय कुमार अग्रवाल
हिमनद
हिमनद
हिमांशु बडोनी (दयानिधि)
काजल
काजल
Neeraj Agarwal
#शीर्षक:-तो क्या ही बात हो?
#शीर्षक:-तो क्या ही बात हो?
Pratibha Pandey
मित्रता मे १० % प्रतिशत लेल नीलकंठ बनब आवश्यक ...सामंजस्यक
मित्रता मे १० % प्रतिशत लेल नीलकंठ बनब आवश्यक ...सामंजस्यक
DrLakshman Jha Parimal
है शारदे मां
है शारदे मां
नेताम आर सी
"आंखरी ख़त"
Lohit Tamta
मर्दुम-बेज़ारी
मर्दुम-बेज़ारी
Shyam Sundar Subramanian
जिंदगी है कि जीने का सुरूर आया ही नहीं
जिंदगी है कि जीने का सुरूर आया ही नहीं
Deepak Baweja
कभी ज्ञान को पा इंसान भी, बुद्ध भगवान हो जाता है।
कभी ज्ञान को पा इंसान भी, बुद्ध भगवान हो जाता है।
Monika Verma
Loading...