Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
11 Mar 2023 · 1 min read

■ चुनावी साल…

■ मत पूछो हाल…
चमड़े की उन ज़ुबानों का, जो अब और ज़्यादा फिसलेंगी। हरेक मर्यादा को लांघेंघी और भारत को महाभारत की याद दिलाएंगी। झूठ बोलेंगी, पोल खोलेंगी और न जाने क्या-क्या उगलेंगी। लोकतंत्र और संविधान के नाम पर।।
【प्रणय प्रभात】

1 Like · 205 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
You may also like:
कौन नहीं है...?
कौन नहीं है...?
Srishty Bansal
नारी के कौशल से कोई क्षेत्र न बचा अछूता।
नारी के कौशल से कोई क्षेत्र न बचा अछूता।
महेश चन्द्र त्रिपाठी
धोखा था ये आंख का
धोखा था ये आंख का
RAMESH SHARMA
चलो मनाएं नया साल... मगर किसलिए?
चलो मनाएं नया साल... मगर किसलिए?
Rachana
2324.पूर्णिका
2324.पूर्णिका
Dr.Khedu Bharti
"वो यादगारनामे"
Rajul Kushwaha
समीक्षा- रास्ता बनकर रहा (ग़ज़ल संग्रह)
समीक्षा- रास्ता बनकर रहा (ग़ज़ल संग्रह)
डाॅ. बिपिन पाण्डेय
मैं तन्हाई में, ऐसा करता हूँ
मैं तन्हाई में, ऐसा करता हूँ
gurudeenverma198
तेरे मन मंदिर में जगह बनाऊं मै कैसे
तेरे मन मंदिर में जगह बनाऊं मै कैसे
Ram Krishan Rastogi
जग-मग करते चाँद सितारे ।
जग-मग करते चाँद सितारे ।
Vedha Singh
विश्व जनसंख्या दिवस
विश्व जनसंख्या दिवस
Bodhisatva kastooriya
मुस्कराना
मुस्कराना
Neeraj Agarwal
बाल कविताः गणेश जी
बाल कविताः गणेश जी
Ravi Prakash
आज मैया के दर्शन करेंगे
आज मैया के दर्शन करेंगे
Neeraj Mishra " नीर "
सत्य उस तीखी औषधि के समान होता है जो तुरंत तो कष्ट कारी लगती
सत्य उस तीखी औषधि के समान होता है जो तुरंत तो कष्ट कारी लगती
ओम प्रकाश श्रीवास्तव
स्पेशल अंदाज में बर्थ डे सेलिब्रेशन
स्पेशल अंदाज में बर्थ डे सेलिब्रेशन
Dr. Pradeep Kumar Sharma
Rap song (3)
Rap song (3)
Nishant prakhar
तुम      चुप    रहो    तो  मैं  कुछ  बोलूँ
तुम चुप रहो तो मैं कुछ बोलूँ
भवानी सिंह धानका 'भूधर'
हथेली पर जो
हथेली पर जो
लक्ष्मी सिंह
“परिंदे की अभिलाषा”
“परिंदे की अभिलाषा”
DrLakshman Jha Parimal
कल की चिंता छोड़कर....
कल की चिंता छोड़कर....
जगदीश लववंशी
"नृत्य आत्मा की भाषा है। आत्मा और परमात्मा के बीच अन्तरसंवाद
*प्रणय प्रभात*
कविता -दो जून
कविता -दो जून
राजीव नामदेव 'राना लिधौरी'
प्रेम और घृणा दोनों ऐसे
प्रेम और घृणा दोनों ऐसे
Neelam Sharma
पुष्पों का पाषाण पर,
पुष्पों का पाषाण पर,
sushil sarna
धुप मे चलने और जलने का मज़ाक की कुछ अलग है क्योंकि छाव देखते
धुप मे चलने और जलने का मज़ाक की कुछ अलग है क्योंकि छाव देखते
Ranjeet kumar patre
रोजी न रोटी, हैं जीने के लाले।
रोजी न रोटी, हैं जीने के लाले।
सत्य कुमार प्रेमी
जीवन को जीतती हैं
जीवन को जीतती हैं
Dr fauzia Naseem shad
सावन
सावन
Madhavi Srivastava
स्त्री चेतन
स्त्री चेतन
Astuti Kumari
Loading...