Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
2 Dec 2022 · 1 min read

■ गीत- / बित्ते भर धरती, मुट्ठी भर अम्बर…!

#गीत-
■ बित्ते भर धरती, मुट्ठी भर अम्बर…!
【प्रणय प्रभात】
★ कुछ दिन अदला-बदली कर लें हम अपने अरमानों की।
मुझको धरती की चाहत है, तुझको चाह उड़ानों की।
दे आराम थकन को मेरी, ये ले मेरे पर ले ले।
बित्ते भर की धरती दे दे, मुट्ठी भर अम्बर ले ले।।

★ नहीं अधूरापन जाएगा,
मगर टीस मद्धम होगी।
नए-नए कुछ अनुभव होंगे, नीरसता ही कम होगी।
तेरी गठरी मेरे सर रख, मेरी अपने सर ले ले।
बित्ते भर की धरती दे दे, मुट्ठी भर अम्बर ले ले।।

★ क्यूँ कर रोना मजबूरी पे, देना भाव अभावों को?
कौन बुलाए न्यौता दे कर इन बेरहम तनावों को?
कुछ अच्छे पल दे मुस्का कर, बदले में हँस कर ले ले।
बित्ते भर की धरती दे दे, मुट्ठी भर अम्बर ले ले।।

【कोल्फॉर्ल्ड मिरर वेस्ट बंगाल में आज प्रकाशित गीत】

Language: Hindi
1 Like · 171 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
You may also like:
दुआ नहीं मांगता के दोस्त जिंदगी में अनेक हो
दुआ नहीं मांगता के दोस्त जिंदगी में अनेक हो
Sonu sugandh
*योग (बाल कविता)*
*योग (बाल कविता)*
Ravi Prakash
.........,
.........,
शेखर सिंह
ज्ञान -दीपक
ज्ञान -दीपक
Pt. Brajesh Kumar Nayak
रात का रक्स जारी है
रात का रक्स जारी है
हिमांशु Kulshrestha
जिज्ञासा और प्रयोग
जिज्ञासा और प्रयोग
नंदलाल मणि त्रिपाठी पीताम्बर
नैया फसी मैया है बीच भवर
नैया फसी मैया है बीच भवर
Basant Bhagawan Roy
व्यंग्य क्षणिकाएं
व्यंग्य क्षणिकाएं
Suryakant Dwivedi
शिक्षा
शिक्षा
Buddha Prakash
कहां जाऊं सत्य की खोज में।
कहां जाऊं सत्य की खोज में।
Taj Mohammad
नौकरी (२)
नौकरी (२)
अभिषेक पाण्डेय 'अभि ’
...
...
Ravi Yadav
उनको मेरा नमन है जो सरहद पर खड़े हैं।
उनको मेरा नमन है जो सरहद पर खड़े हैं।
Prabhu Nath Chaturvedi "कश्यप"
जो गुजर गया
जो गुजर गया
ruby kumari
रोला छंद
रोला छंद
sushil sarna
मर्चा धान को मिला जीआई टैग
मर्चा धान को मिला जीआई टैग
डा. सूर्यनारायण पाण्डेय
■ मुक्तक...
■ मुक्तक...
*Author प्रणय प्रभात*
ख़्याल
ख़्याल
Dr. Seema Varma
"तेरी यादें"
Dr. Kishan tandon kranti
फितरत में वफा हो तो
फितरत में वफा हो तो
shabina. Naaz
सोनेवानी के घनघोर जंगल
सोनेवानी के घनघोर जंगल
ओमप्रकाश भारती *ओम्*
अंधकार जितना अधिक होगा प्रकाश का प्रभाव भी उसमें उतना गहरा औ
अंधकार जितना अधिक होगा प्रकाश का प्रभाव भी उसमें उतना गहरा औ
Rj Anand Prajapati
तुम्हें जब भी मुझे देना हो अपना प्रेम
तुम्हें जब भी मुझे देना हो अपना प्रेम
श्याम सिंह बिष्ट
कठपुतली ( #नेपाली_कविता)
कठपुतली ( #नेपाली_कविता)
Dinesh Yadav (दिनेश यादव)
3193.*पूर्णिका*
3193.*पूर्णिका*
Dr.Khedu Bharti
अच्छे नहीं है लोग ऐसे जो
अच्छे नहीं है लोग ऐसे जो
gurudeenverma198
दोस्ती
दोस्ती
Monika Verma
चेहरे का रंग देख के रिश्ते नही बनाने चाहिए साहब l
चेहरे का रंग देख के रिश्ते नही बनाने चाहिए साहब l
Ranjeet kumar patre
नेता खाते हैं देशी घी
नेता खाते हैं देशी घी
महेश चन्द्र त्रिपाठी
'क्यों' (हिन्दी ग़ज़ल)
'क्यों' (हिन्दी ग़ज़ल)
Dr. Asha Kumar Rastogi M.D.(Medicine),DTCD
Loading...