Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
3 Feb 2023 · 1 min read

■ कटाक्ष….

■ आज की बात….
“का वर्षा जब कृषी सुखाने” वाली बात लगता है सरकार को आज़ादी के 75 साल बाद भी समझ नहीं आई है। आज का बेड़ा ग़र्क़ कर कल के सपने दिखाने वाले भाग्य-विधाताओं से क्यों न पूछा जाए कि 25 साल बाद की बात क्यों ..? काल पर विजय आप जैसे माल खाने वालों को मिले तो मिल जाए। बेचारी आम जनता को तो कल छोड़िए, अगले पल का भरोसा नहीं। आप पहले आज की बात करो, बिना उल्लू और लल्लू बनाए।
【प्रणय प्रभात】

1 Like · 525 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
You may also like:
मुक्तक – शादी या बर्बादी
मुक्तक – शादी या बर्बादी
Sonam Puneet Dubey
स्वतंत्रता और सीमाएँ - भाग 04 Desert Fellow Rakesh Yadav
स्वतंत्रता और सीमाएँ - भाग 04 Desert Fellow Rakesh Yadav
Desert fellow Rakesh
"आशा" की चौपाइयां
Dr. Asha Kumar Rastogi M.D.(Medicine),DTCD
Dr Arun Kumar shastri
Dr Arun Kumar shastri
DR ARUN KUMAR SHASTRI
थोङा कड़वा है मगर #लङकियो के लिए सत्य है ।
थोङा कड़वा है मगर #लङकियो के लिए सत्य है ।
Rituraj shivem verma
जिंदगी की खोज
जिंदगी की खोज
CA Amit Kumar
Holding onto someone who doesn't want to stay is the worst h
Holding onto someone who doesn't want to stay is the worst h
पूर्वार्थ
గురు శిష్యుల బంధము
గురు శిష్యుల బంధము
डॉ गुंडाल विजय कुमार 'विजय'
2927.*पूर्णिका*
2927.*पूर्णिका*
Dr.Khedu Bharti
"स्मृति"
Dr. Kishan tandon kranti
मूरत
मूरत
कविता झा ‘गीत’
जिंदगी एडजस्टमेंट से ही चलती है / Vishnu Nagar
जिंदगी एडजस्टमेंट से ही चलती है / Vishnu Nagar
Dr MusafiR BaithA
जाते जाते कुछ कह जाते --
जाते जाते कुछ कह जाते --
Seema Garg
नृत्य किसी भी गीत और संस्कृति के बोल पर आधारित भावना से ओतप्
नृत्य किसी भी गीत और संस्कृति के बोल पर आधारित भावना से ओतप्
Rj Anand Prajapati
क्या अजीब बात है
क्या अजीब बात है
Atul "Krishn"
नया साल लेके आए
नया साल लेके आए
Dr fauzia Naseem shad
स्वामी विवेकानंद
स्वामी विवेकानंद
Suman (Aditi Angel 🧚🏻)
यह जीवन अनमोल रे
यह जीवन अनमोल रे
विजय कुमार अग्रवाल
" सुप्रभात "
Yogendra Chaturwedi
दोहा पंचक. . . क्रोध
दोहा पंचक. . . क्रोध
sushil sarna
श्री राम भजन
श्री राम भजन
Khaimsingh Saini
*पुस्तक का नाम : लल्लाबाबू-प्रहसन*
*पुस्तक का नाम : लल्लाबाबू-प्रहसन*
Ravi Prakash
ऊपर बैठा नील गगन में भाग्य सभी का लिखता है
ऊपर बैठा नील गगन में भाग्य सभी का लिखता है
Anil Mishra Prahari
दोस्त और दोस्ती
दोस्त और दोस्ती
Neeraj Agarwal
गिलहरी
गिलहरी
Kanchan Khanna
International Self Care Day
International Self Care Day
Tushar Jagawat
हैं सितारे डरे-डरे फिर से - संदीप ठाकुर
हैं सितारे डरे-डरे फिर से - संदीप ठाकुर
Sandeep Thakur
.
.
*प्रणय प्रभात*
झूठों की मंडी लगी, झूठ बिके दिन-रात।
झूठों की मंडी लगी, झूठ बिके दिन-रात।
Arvind trivedi
सब कुछ लुटा दिया है तेरे एतबार में।
सब कुछ लुटा दिया है तेरे एतबार में।
Phool gufran
Loading...