Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
24 Jan 2023 · 1 min read

■ कटाक्ष / प्रत्यक्ष नहीं परोक्ष

■ कर्म बना देते हैं प्रतीक…
【प्रणय प्रभात】
जहां तक मेरी जानकारी है, बाल-कांड की ताड़का से ले कर सुंदर-कांड की लंकिनी तक एक भी ऐसी राक्षसी का उल्लेख नहीं है, जो राम जी के नाम से भड़की हो।
बाक़ी आप समझ ही गए होंगे कि मैं कहना क्या चाहता हूँ। कहने का मतलब बस इतना सा है कि किसी को गलियाने के लिए उसका नाम लेना अनिवार्य नहीं। अगले के अपने कर्म ही उसे किसी प्रवृत्ति का जीवंत प्रतीक बना देते हैं।।

1 Like · 253 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
You may also like:
पहला श्लोक ( भगवत गीता )
पहला श्लोक ( भगवत गीता )
Bhupendra Rawat
अरविंद पासवान की कविताओं में दलित अनुभूति// आनंद प्रवीण
अरविंद पासवान की कविताओं में दलित अनुभूति// आनंद प्रवीण
आनंद प्रवीण
धूल के फूल
धूल के फूल
तारकेश्‍वर प्रसाद तरुण
जुनून
जुनून
DR ARUN KUMAR SHASTRI
सबरी के जूठे बेर चखे प्रभु ने उनका उद्धार किया।
सबरी के जूठे बेर चखे प्रभु ने उनका उद्धार किया।
Prabhu Nath Chaturvedi "कश्यप"
मनवा मन की कब सुने,
मनवा मन की कब सुने,
sushil sarna
पुकार
पुकार
Manu Vashistha
संग चले जीवन की राह पर हम
संग चले जीवन की राह पर हम
सुरेन्द्र शर्मा 'शिव'
दोहा-
दोहा-
दुष्यन्त बाबा
वह एक हीं फूल है
वह एक हीं फूल है
Shweta Soni
मायके से दुआ लीजिए
मायके से दुआ लीजिए
Harminder Kaur
श्रीमान - श्रीमती
श्रीमान - श्रीमती
Kanchan Khanna
जो लोग ये कहते हैं कि सारे काम सरकार नहीं कर सकती, कुछ कार्य
जो लोग ये कहते हैं कि सारे काम सरकार नहीं कर सकती, कुछ कार्य
Dr. Man Mohan Krishna
*मतदान*
*मतदान*
Shashi kala vyas
प्यार दर्पण के जैसे सजाना सनम,
प्यार दर्पण के जैसे सजाना सनम,
लक्ष्मी वर्मा प्रतीक्षा
हंसना आसान मुस्कुराना कठिन लगता है
हंसना आसान मुस्कुराना कठिन लगता है
Manoj Mahato
ज़िंदगी तेरी किताब में
ज़िंदगी तेरी किताब में
Dr fauzia Naseem shad
अरे ये कौन नेता हैं, न आना बात में इनकी।
अरे ये कौन नेता हैं, न आना बात में इनकी।
डॉ.सीमा अग्रवाल
तेरी उल्फत के वो नज़ारे हमने भी बहुत देखें हैं,
तेरी उल्फत के वो नज़ारे हमने भी बहुत देखें हैं,
manjula chauhan
"शिक्षक"
Dr. Kishan tandon kranti
सच तो हम सभी होते हैं।
सच तो हम सभी होते हैं।
Neeraj Agarwal
Dard-e-madhushala
Dard-e-madhushala
Tushar Jagawat
■ हम हों गए कामयाब चाँद पर...
■ हम हों गए कामयाब चाँद पर...
*Author प्रणय प्रभात*
*जरा सोचो तो जादू की तरह होती हैं बरसातें (मुक्तक) *
*जरा सोचो तो जादू की तरह होती हैं बरसातें (मुक्तक) *
Ravi Prakash
गज़ल
गज़ल
करन ''केसरा''
क्या मुझसे दोस्ती करोगे?
क्या मुझसे दोस्ती करोगे?
Naushaba Suriya
हथिनी की व्यथा
हथिनी की व्यथा
रोहताश वर्मा 'मुसाफिर'
कपूत।
कपूत।
Acharya Rama Nand Mandal
रंजिशें
रंजिशें
AJAY AMITABH SUMAN
"तरक्कियों की दौड़ में उसी का जोर चल गया,
शेखर सिंह
Loading...