Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
3 Apr 2023 · 1 min read

■ आज का शेर…

■ आज का शेर…
रुसवाई से बचने के बस दो ही विकल्प। दिन में परछाई और रात में तन्हाई। समझे मेरे भाई!!
★प्रणय प्रभात★

Language: Hindi
Tag: शेर
1 Like · 399 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
You may also like:
"You are still here, despite it all. You are still fighting
पूर्वार्थ
शक्ति की देवी दुर्गे माँ
शक्ति की देवी दुर्गे माँ
Satish Srijan
"अनाज के दानों में"
Dr. Kishan tandon kranti
पुरखों के गांव
पुरखों के गांव
Mohan Pandey
3547.💐 *पूर्णिका* 💐
3547.💐 *पूर्णिका* 💐
Dr.Khedu Bharti
तकलीफ ना होगी मरने मे
तकलीफ ना होगी मरने मे
Anil chobisa
***
***
sushil sarna
तेरे जवाब का इंतज़ार
तेरे जवाब का इंतज़ार
सुरेन्द्र शर्मा 'शिव'
होटल में......
होटल में......
A🇨🇭maanush
वादे करके शपथें खा के
वादे करके शपथें खा के
Dhirendra Singh
मनुज से कुत्ते कुछ अच्छे।
मनुज से कुत्ते कुछ अच्छे।
Pt. Brajesh Kumar Nayak
नारी शक्ति.....एक सच
नारी शक्ति.....एक सच
Neeraj Agarwal
Plastic Plastic Everywhere.....
Plastic Plastic Everywhere.....
R. H. SRIDEVI
कब बरसोगे बदरा
कब बरसोगे बदरा
Slok maurya "umang"
आवारगी
आवारगी
DR ARUN KUMAR SHASTRI
मोबाइल
मोबाइल
लक्ष्मी सिंह
तारीफ किसकी करूं
तारीफ किसकी करूं
कवि दीपक बवेजा
वर दो हमें हे शारदा, हो  सर्वदा  शुभ  भावना    (सरस्वती वंदन
वर दो हमें हे शारदा, हो सर्वदा शुभ भावना (सरस्वती वंदन
Ravi Prakash
सनातन संस्कृति
सनातन संस्कृति
Bodhisatva kastooriya
" अलबेले से गाँव है "
भगवती प्रसाद व्यास " नीरद "
7) पूछ रहा है दिल
7) पूछ रहा है दिल
पूनम झा 'प्रथमा'
होली, नौराते, गणगौर,
होली, नौराते, गणगौर,
*प्रणय प्रभात*
वे सोचते हैं कि मार कर उनको
वे सोचते हैं कि मार कर उनको
VINOD CHAUHAN
बिन चाहे गले का हार क्यों बनना
बिन चाहे गले का हार क्यों बनना
Keshav kishor Kumar
टमाटर तुझे भेजा है कोरियर से, टमाटर नही मेरा दिल है…
टमाटर तुझे भेजा है कोरियर से, टमाटर नही मेरा दिल है…
Anand Kumar
बेरोजगारी
बेरोजगारी
साहित्य गौरव
शायद मेरी क़िस्मत में ही लिक्खा था ठोकर खाना
शायद मेरी क़िस्मत में ही लिक्खा था ठोकर खाना
Shweta Soni
तुम बिन जीना सीख लिया
तुम बिन जीना सीख लिया
Arti Bhadauria
दफन करके दर्द अपना,
दफन करके दर्द अपना,
Mamta Rani
बाजार
बाजार
PRADYUMNA AROTHIYA
Loading...