Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
3 Feb 2023 · 1 min read

■ आज का कटाक्ष

■ कौन कहता है…?
कौन कहता है कि मुल्क़ में लोगों के पास वक़्त नहीं है? भरपूर वक़्त है साहब, सबके पास। ख़ास कर उनके पास, जिनके साथ ख़ुद वक़्त है। मामूली सी टिप्पणियों पर घण्टों की बहस करते घंटालों को देख लो। समय का टोटा तो बस उनके पास है, जो दो जून की रोटी के चक्कर मे उम्र खपा देते हैं। विडम्बना है कि मेहनतकशों का देश फुरसतियों का मुल्क़ बनता जा रहा है। शायद इसे ही बदलाव कहते हैं।।
【प्रणय प्रभात】

1 Like · 316 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
You may also like:
3026.*पूर्णिका*
3026.*पूर्णिका*
Dr.Khedu Bharti
"गुलशन"
Dr. Kishan tandon kranti
तुम्हें संसार में लाने के लिए एक नारी को,
तुम्हें संसार में लाने के लिए एक नारी को,
शेखर सिंह
सुबह सुहानी आ रही, खूब खिलेंगे फूल।
सुबह सुहानी आ रही, खूब खिलेंगे फूल।
surenderpal vaidya
चाँद से वार्तालाप
चाँद से वार्तालाप
Dr MusafiR BaithA
Sometimes a thought comes
Sometimes a thought comes
Bidyadhar Mantry
..
..
*प्रणय प्रभात*
दुनिया कैसी है मैं अच्छे से जानता हूं
दुनिया कैसी है मैं अच्छे से जानता हूं
Ranjeet kumar patre
पहली मुलाकात ❤️
पहली मुलाकात ❤️
Vivek Sharma Visha
*रामपुर रियासत के अंतिम राज-ज्योतिषी एवं मुख्य पुरोहित पंडित
*रामपुर रियासत के अंतिम राज-ज्योतिषी एवं मुख्य पुरोहित पंडित
Ravi Prakash
जमाने को खुद पे
जमाने को खुद पे
A🇨🇭maanush
प्रेम निवेश है-2❤️
प्रेम निवेश है-2❤️
Rohit yadav
31/05/2024
31/05/2024
Satyaveer vaishnav
क्यों हिंदू राष्ट्र
क्यों हिंदू राष्ट्र
Sanjay ' शून्य'
इंसान का स्वार्थ और ज़रूरतें ही एक दूसरे को जोड़ा हुआ है जैस
इंसान का स्वार्थ और ज़रूरतें ही एक दूसरे को जोड़ा हुआ है जैस
Rj Anand Prajapati
सुना है सपनों की हाट लगी है , चलो कोई उम्मीद खरीदें,
सुना है सपनों की हाट लगी है , चलो कोई उम्मीद खरीदें,
Manju sagar
मजा मुस्कुराने का लेते वही...
मजा मुस्कुराने का लेते वही...
Sunil Suman
मांँ
मांँ
Diwakar Mahto
कान्हा मेरे जैसे छोटे से गोपाल
कान्हा मेरे जैसे छोटे से गोपाल
Harminder Kaur
शिक्षा
शिक्षा
Neeraj Agarwal
आवाज़
आवाज़
Dipak Kumar "Girja"
रमेशराज के कुण्डलिया छंद
रमेशराज के कुण्डलिया छंद
कवि रमेशराज
मुफ़लिसों को मुस्कुराने दीजिए।
मुफ़लिसों को मुस्कुराने दीजिए।
सत्य कुमार प्रेमी
चित्रगुप्त का जगत भ्रमण....!
चित्रगुप्त का जगत भ्रमण....!
VEDANTA PATEL
लेखक
लेखक
Shweta Soni
भगवा तन का आवरण,
भगवा तन का आवरण,
sushil sarna
नारी निन्दा की पात्र नहीं, वह तो नर की निर्मात्री है
नारी निन्दा की पात्र नहीं, वह तो नर की निर्मात्री है
महेश चन्द्र त्रिपाठी
सियासत
सियासत
Dr. Ramesh Kumar Nirmesh
दिसम्बर की सर्द शाम में
दिसम्बर की सर्द शाम में
Dr fauzia Naseem shad
उतरे हैं निगाह से वे लोग भी पुराने
उतरे हैं निगाह से वे लोग भी पुराने
सिद्धार्थ गोरखपुरी
Loading...