Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
17 Feb 2024 · 1 min read

రామ భజే శ్రీ కృష్ణ భజే

రామ భజే శ్రీ రామ భజే
సుమిత్రా పుత్ర రామ భజే.

కృష్ణ భజే శ్రీ కృష్ణ భజే
దేవకి నందన కృష్ణ భజే

హనుమ భజే శ్రీ హనుమ భజే.
అంజని పుత్ర హనుమ భజే.

గణేశ భజే శ్రీ గణేశ భజే.
పార్వతి పుత్ర గణేశ భజే

రామ భజే శ్రీ కృష్ణ భజే
హనుమ భజే శ్రీ గణేశ భజే.

రచన
డా. గుండాల విజయ కుమార్

42 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
You may also like:
इश्क में  हम वफ़ा हैं बताए हो तुम।
इश्क में हम वफ़ा हैं बताए हो तुम।
सत्येन्द्र पटेल ‘प्रखर’
💐प्रेम कौतुक-533💐
💐प्रेम कौतुक-533💐
शिवाभिषेक: 'आनन्द'(अभिषेक पाराशर)
छेड़ कोई तान कोई सुर सजाले
छेड़ कोई तान कोई सुर सजाले
सुशील मिश्रा ' क्षितिज राज '
कैसे यकीन करेगा कोई,
कैसे यकीन करेगा कोई,
Dr. Man Mohan Krishna
*लब मय से भरे मदहोश है*
*लब मय से भरे मदहोश है*
सुखविंद्र सिंह मनसीरत
मुक्तक-विन्यास में एक तेवरी
मुक्तक-विन्यास में एक तेवरी
कवि रमेशराज
#गुरू#
#गुरू#
rubichetanshukla 781
* निशाने आपके *
* निशाने आपके *
surenderpal vaidya
माॅं लाख मनाए खैर मगर, बकरे को बचा न पाती है।
माॅं लाख मनाए खैर मगर, बकरे को बचा न पाती है।
महेश चन्द्र त्रिपाठी
किया है तुम्हें कितना याद ?
किया है तुम्हें कितना याद ?
The_dk_poetry
3242.*पूर्णिका*
3242.*पूर्णिका*
Dr.Khedu Bharti
इन्सानियत
इन्सानियत
Bodhisatva kastooriya
"मुझे पता है"
Dr. Kishan tandon kranti
धोखा खाना क्या बुरा, धोखा खाना ठीक (कुंडलिया )
धोखा खाना क्या बुरा, धोखा खाना ठीक (कुंडलिया )
Ravi Prakash
ग़ज़ल
ग़ज़ल
ईश्वर दयाल गोस्वामी
आरजू
आरजू
Kanchan Khanna
होने को अब जीवन की है शाम।
होने को अब जीवन की है शाम।
Anil Mishra Prahari
उठो पुत्र लिख दो पैगाम
उठो पुत्र लिख दो पैगाम
सुरेश कुमार चतुर्वेदी
बहुत मशरूफ जमाना है
बहुत मशरूफ जमाना है
नूरफातिमा खातून नूरी
मिष्ठी के लिए सलाद
मिष्ठी के लिए सलाद
Manu Vashistha
आओ एक गीत लिखते है।
आओ एक गीत लिखते है।
PRATIK JANGID
ग़ज़ल- हूॅं अगर मैं रूह तो पैकर तुम्हीं हो...
ग़ज़ल- हूॅं अगर मैं रूह तो पैकर तुम्हीं हो...
अरविन्द राजपूत 'कल्प'
#शेर-
#शेर-
*Author प्रणय प्रभात*
अटूट सत्य - आत्मा की व्यथा
अटूट सत्य - आत्मा की व्यथा
Sumita Mundhra
संस्कार
संस्कार
ओमप्रकाश भारती *ओम्*
बाल कहानी- अधूरा सपना
बाल कहानी- अधूरा सपना
SHAMA PARVEEN
अपने जमीर का कभी हम सौदा नही करेगे
अपने जमीर का कभी हम सौदा नही करेगे
shabina. Naaz
चीरहरण
चीरहरण
Acharya Rama Nand Mandal
हिंदी दलित साहित्यालोचना के एक प्रमुख स्तंभ थे डा. तेज सिंह / MUSAFIR BAITHA
हिंदी दलित साहित्यालोचना के एक प्रमुख स्तंभ थे डा. तेज सिंह / MUSAFIR BAITHA
Dr MusafiR BaithA
सबके हाथ में तराजू है ।
सबके हाथ में तराजू है ।
Ashwini sharma
Loading...