Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
6 Jul 2023 · 1 min read

ਮੁੜ ਆ ਸੱਜਣਾ

ਮੁੜ ਆ ਸੱਜਣਾ ਹੁਣ, ਮੈਂ ਮੁੜ ਮੁੜ ਔਸੀਆਂ ਪਾਵਾਂ।
ਮਾਰ ਮਾਰ ਆਵਾਜ਼ਾਂ, ਵੇ ਮੈਂ ਕਾਵਾਂ ਨੂੰ ਪਈ ਬੁਲਾਂ ਵਾਂ।

ਕਿਉਂ ਛੱਡ ਗਿਆ ਅਧਵਾਟੇ, ਮੈਨੂੰ ਸਮਝ ਨਾ ਆਵੇ
ਰਾਹਵਾਂ ਤੱਕਦੀ ਹੋਈ ਪੱਥਰ,ਨਾ ਅੱਖੋਂ ਨੀਰ ਵਹਾਵਾਂ।

ਮੁਕਰ ਗਿਆ ਤੂੰ ਹਰ ਵਾਲੇ ਤੋਂ,ਭੁਲਿਆ ਕੌਲ ਕਰਾਰ
ਜਿੰਦ ਮਲੂਕ ਜਿਹੀ ਮੇਰੀ,ਕੀਹਨੂੰ ਦੁੱਖ ਆਖ ਸੁਣਾਵਾਂ

ਕੋਠੇ ਚੜ੍ਹ ਕੇ ਮੈਂ ਵੇਖਾਂ,ਦਿਨ ਚੜ੍ਹਦੇ ਤੇਰਾ ਰਾਹ ਵੇ
ਨੱਚ ਉਠਾਂ ਜੇ ਮੇਰੇ ਨਜ਼ਰੀ,ਪੈ ਜਾਵੇ ਤੇਰਾ ਪਰਛਾਵਾਂ।

ਇੱਕ ਵਾਰੀ ਦੇ ਤੋਂ ਮੁੜ ਆਵੇ, ਭੁੱਲਾਂ ਸਾਰੇ ਦੁੱਖ ਵੇ
ਪਰ ਏਸ ਦਿਲ ਕਮਲੇ ਨੂੰ, ਮੈਂ ਕੀਕਰ ਦੇ ਸਮਝਾਵਾਂ।

ਸੁਰਿੰਦਰ ਕੌਰ

Language: Punjabi
126 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
Books from Surinder blackpen
View all
You may also like:
नश्वर संसार
नश्वर संसार
Shyam Sundar Subramanian
आज मंगलवार, 05 दिसम्बर 2023  मार्गशीर्ष कृष्णपक्ष की अष्टमी
आज मंगलवार, 05 दिसम्बर 2023 मार्गशीर्ष कृष्णपक्ष की अष्टमी
Shashi kala vyas
वो सांझ
वो सांझ
लक्ष्मी वर्मा प्रतीक्षा
संभव कब है देखना ,
संभव कब है देखना ,
sushil sarna
दूसरों की राहों पर चलकर आप
दूसरों की राहों पर चलकर आप
Anil Mishra Prahari
महामोदकारी छंद (क्रीड़ाचक्र छंद ) (18 वर्ण)
महामोदकारी छंद (क्रीड़ाचक्र छंद ) (18 वर्ण)
Subhash Singhai
मुझे वास्तविकता का ज्ञान नही
मुझे वास्तविकता का ज्ञान नही
Keshav kishor Kumar
कुछ लोगों का प्यार जिस्म की जरुरत से कहीं ऊपर होता है...!!
कुछ लोगों का प्यार जिस्म की जरुरत से कहीं ऊपर होता है...!!
Ravi Betulwala
पात उगेंगे पुनः नये,
पात उगेंगे पुनः नये,
महावीर उत्तरांचली • Mahavir Uttranchali
पिता वह व्यक्ति होता है
पिता वह व्यक्ति होता है
शेखर सिंह
!! मुरली की चाह‌ !!
!! मुरली की चाह‌ !!
Chunnu Lal Gupta
आखिर क्यूं?
आखिर क्यूं?
Suman (Aditi Angel 🧚🏻)
तेरी चौखट पर, आये हैं हम ओ रामापीर
तेरी चौखट पर, आये हैं हम ओ रामापीर
gurudeenverma198
"अश्क भरे नयना"
Ekta chitrangini
प्राचीन दोस्त- निंब
प्राचीन दोस्त- निंब
दिनेश एल० "जैहिंद"
* हाथ मलने लगा *
* हाथ मलने लगा *
surenderpal vaidya
लिखा है किसी ने यह सच्च ही लिखा है
लिखा है किसी ने यह सच्च ही लिखा है
VINOD CHAUHAN
मन को कर देता हूँ मौसमो के साथ
मन को कर देता हूँ मौसमो के साथ
सुशील मिश्रा ' क्षितिज राज '
रमेशराज की पिता विषयक मुक्तछंद कविताएँ
रमेशराज की पिता विषयक मुक्तछंद कविताएँ
कवि रमेशराज
सम्यक योग की साधना दुरुस्त करे सब भोग,
सम्यक योग की साधना दुरुस्त करे सब भोग,
Mahender Singh
तस्वीरों में मुस्कुराता वो वक़्त, सजा यादों की दे जाता है।
तस्वीरों में मुस्कुराता वो वक़्त, सजा यादों की दे जाता है।
Manisha Manjari
बड्ड  मन करैत अछि  सब सँ संवाद करू ,
बड्ड मन करैत अछि सब सँ संवाद करू ,
DrLakshman Jha Parimal
तालाश
तालाश
तारकेश्‍वर प्रसाद तरुण
इंतज़ार
इंतज़ार
Dipak Kumar "Girja"
इश्क़ छूने की जरूरत नहीं।
इश्क़ छूने की जरूरत नहीं।
Rj Anand Prajapati
तन्हा रातों में इक आशियाना ढूंढती है ज़िंदगी,
तन्हा रातों में इक आशियाना ढूंढती है ज़िंदगी,
डॉ. शशांक शर्मा "रईस"
अब थोड़ा हिसाब चेंज है,अब इमोशनल साइड  वाला कोई हिसाब नही है
अब थोड़ा हिसाब चेंज है,अब इमोशनल साइड वाला कोई हिसाब नही है
पूर्वार्थ
#दोहा
#दोहा
*प्रणय प्रभात*
"वक्त आ गया है"
Dr. Kishan tandon kranti
*साड़ी का पल्लू धरे, चली लजाती सास (कुंडलिया)*
*साड़ी का पल्लू धरे, चली लजाती सास (कुंडलिया)*
Ravi Prakash
Loading...