Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
25 Nov 2023 · 1 min read

।। अछूत ।।

तुम गंगा से पावन और मैं,
गंदे नाले का पानी कैसे।
तुम स्वच्छ श्वेत बेदाग और मैं,
मलिनता की निशानी कैसे।
कोई जात नही कोई धर्म नही,
सब कर्मो पर निर्भर करता है।
मैं दलित मूर्ख गंवार और तुम,
चतुर्वेदों के ज्ञानी कैसे।
..तुम गंगा से पावन और मैं,
गंदे नाली का पानी कैसे।
प्राप्त होते जो मुझे भी अवसर,
समान यदि भूतकाल मे।
मैला ढोने को मजबूर न होता,
तब होता न मैं इस हाल में।
पढ़ गया कोई दलित जो इतना,
तुम्हे इतनी परेशानी कैसे।
आ गया बनकर आज जो अफसर,
तो वेवजह की तुम्हे हैरानी कैसे।
..तुम गंगा से पावन और मैं,
गंदे नाली का पानी कैसे।
वाह!
मनु स्मृति के नियम क्या सारे,
सिर्फ मुझ पर ही लागू होते थे,
क्या कल्पना मात्र से ही विराट पुरुष की,
मानव सब काबू में होते थे।
फिर लूटी थी धर्म के ठेकेदारों ने,
अछूत नारी की क्यूं जवानी कैसे।
ये! स्वर्णिम तेरा इतिहास है,
और अनभिज्ञ मेरी कहानी कैसे।
@साहित्य गौरव
…तुम गंगा से पावन और मैं,
गंदे नाले का पानी कैसे।

3 Likes · 1 Comment · 633 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
You may also like:
जिस तरीके से तुम हो बुलंदी पे अपने
जिस तरीके से तुम हो बुलंदी पे अपने
सिद्धार्थ गोरखपुरी
आत्मविश्वास की कमी
आत्मविश्वास की कमी
Paras Nath Jha
2811. *पूर्णिका*
2811. *पूर्णिका*
Dr.Khedu Bharti
"न टूटो न रुठो"
Yogendra Chaturwedi
The Little stars!
The Little stars!
Buddha Prakash
कर्मों से ही होती है पहचान इंसान की,
कर्मों से ही होती है पहचान इंसान की,
शेखर सिंह
गंदे-मैले वस्त्र से, मानव करता शर्म
गंदे-मैले वस्त्र से, मानव करता शर्म
महावीर उत्तरांचली • Mahavir Uttranchali
धीरे धीरे बदल रहा
धीरे धीरे बदल रहा
Umesh उमेश शुक्ल Shukla
आपकी आहुति और देशहित
आपकी आहुति और देशहित
Mahender Singh
*खाई दावत राजसी, किस्मों की भरमार【हास्य कुंडलिया】*
*खाई दावत राजसी, किस्मों की भरमार【हास्य कुंडलिया】*
Ravi Prakash
श्राद्ध पक्ष के दोहे
श्राद्ध पक्ष के दोहे
sushil sarna
राखी प्रेम का बंधन
राखी प्रेम का बंधन
रवि शंकर साह
वो देखो ख़त्म हुई चिड़ियों की जमायत देखो हंस जा जाके कौओं से
वो देखो ख़त्म हुई चिड़ियों की जमायत देखो हंस जा जाके कौओं से
Neelam Sharma
जाने कब दुनियां के वासी चैन से रह पाएंगे।
जाने कब दुनियां के वासी चैन से रह पाएंगे।
सत्य कुमार प्रेमी
जिंदगी हमने जी कब,
जिंदगी हमने जी कब,
Umender kumar
लालच
लालच
Vandna thakur
प्रेम की चाहा
प्रेम की चाहा
RAKESH RAKESH
मेरी फितरत
मेरी फितरत
Dr. Ramesh Kumar Nirmesh
"राखी"
Dr. Kishan tandon kranti
गुफ्तगू तुझसे करनी बहुत ज़रूरी है ।
गुफ्तगू तुझसे करनी बहुत ज़रूरी है ।
Phool gufran
■ मुक्तक।
■ मुक्तक।
*Author प्रणय प्रभात*
पग-पग पर हैं वर्जनाएँ....
पग-पग पर हैं वर्जनाएँ....
डॉ.सीमा अग्रवाल
यार ब - नाम - अय्यार
यार ब - नाम - अय्यार
Ramswaroop Dinkar
घमंड
घमंड
Ranjeet kumar patre
बर्फ की चादरों को गुमां हो गया
बर्फ की चादरों को गुमां हो गया
ruby kumari
अंतरराष्ट्रीय महिला दिवस
अंतरराष्ट्रीय महिला दिवस
Shekhar Chandra Mitra
दोहा
दोहा
डाॅ. बिपिन पाण्डेय
साहित्यकार ओमप्रकाश वाल्मीकि का रचना संसार।
साहित्यकार ओमप्रकाश वाल्मीकि का रचना संसार।
Dr. Narendra Valmiki
जुदाई - चंद अशआर
जुदाई - चंद अशआर
डॉक्टर वासिफ़ काज़ी
मेरी (उनतालीस) कविताएं
मेरी (उनतालीस) कविताएं
श्याम सिंह बिष्ट
Loading...