Sep 28, 2016 · 1 min read

क़तअ

दर्द दिल का बढ़ा अब दवा दीजिए,
अपने दामन की थोड़ी हवा दीजिए ,
मर्ज बढ़ता ही जाता है रफ्ता रफ्ता ,
अब दवा की ख़ूराकें बढ़ा दीजिए ।

116 Views
You may also like:
*भक्त प्रहलाद और नरसिंह भगवान के अवतार की कथा*
Ravi Prakash
त्याग की परिणति - कहानी
अनिल कुमार गुप्ता 'अंजुम'
पुस्तक समीक्षा -एक थी महुआ
Rashmi Sanjay
मै हूं एक मिट्टी का घड़ा
Ram Krishan Rastogi
बच्चों के पिता
Dr. Kishan Karigar
पिताजी
विनोद शर्मा सागर
अभिलाषा
Anamika Singh
नीम का छाँव लेकर
सिद्धार्थ गोरखपुरी
💐 देह दलन 💐
DR ARUN KUMAR SHASTRI
बरसात की छतरी
Buddha Prakash
मौलिक विचार
डॉ.एल. सी. जैदिया 'जैदि'
"एक नई सुबह आयेगी"
पंकज कुमार "कर्ण"
*!* "पिता" के चरणों को नमन *!*
Arise DGRJ (Khaimsingh Saini)
ग़ज़ल
राजीव नामदेव 'राना लिधौरी'
सत्यमंथन
मनोज कर्ण
तेरे दिल में कोई और है
Ram Krishan Rastogi
दुर्योधन कब मिट पाया:भाग:35
AJAY AMITABH SUMAN
Is It Possible
Manisha Manjari
💐प्रेम की राह पर-26💐
शिवाभिषेक: 'आनन्द'(अभिषेक पाराशर)
फिक्र ना है किसी में।
Taj Mohammad
मातृदिवस
Dr Archana Gupta
तात्या टोपे बलिदान दिवस १८ अप्रैल १८५९
सुरेश कुमार चतुर्वेदी
भगवान हमारे पापा हैं
Lucky Rajesh
बेटी का पत्र माँ के नाम (भाग २)
Anamika Singh
माँ
डा. सूर्यनारायण पाण्डेय
लहजा
सिद्धार्थ गोरखपुरी
मां
हरीश सुवासिया
राम काज में निरत निरंतर अंतस में सियाराम हैं
सुरेश कुमार चतुर्वेदी
तुम मेरे वो तुम हो...
Sapna K S
मेरी भोली ''माँ''
पाण्डेय चिदानन्द
Loading...