Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
18 Jul 2023 · 1 min read

ह्रदय

ह्रदय शरीर का वह स्थान है,
जहां आपकी आत्मा की ऊर्जा प्रकट होती है…
भावनात्मक ऊर्जा ही नहीं,
मानसिक, आध्यात्मिक, और शारीरिक ऊर्जा का स्तर भी यहां महसूस किया जा सकता है !!

Tag: Energy, Heart
1 Like · 418 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
Books from Monika Verma
View all
You may also like:
Humans and Animals - When When and When? - Desert fellow Rakesh Yadav
Humans and Animals - When When and When? - Desert fellow Rakesh Yadav
Desert fellow Rakesh
बदलती जिंदगी की राहें
बदलती जिंदगी की राहें
ओमप्रकाश भारती *ओम्*
आप और हम जीवन के सच .......…एक प्रयास
आप और हम जीवन के सच .......…एक प्रयास
Neeraj Agarwal
इतना हमने भी
इतना हमने भी
Dr fauzia Naseem shad
हकीकत जानूंगा तो सब पराए हो जाएंगे
हकीकत जानूंगा तो सब पराए हो जाएंगे
Ranjeet kumar patre
मंत्र: पिडजप्रवरारूढा, चंडकोपास्त्रकैर्युता।
मंत्र: पिडजप्रवरारूढा, चंडकोपास्त्रकैर्युता।
Harminder Kaur
"सोचिए जरा"
Dr. Kishan tandon kranti
दीपोत्सव की हार्दिक बधाई एवं शुभ मंगलकामनाएं
दीपोत्सव की हार्दिक बधाई एवं शुभ मंगलकामनाएं
लोकेश शर्मा 'अवस्थी'
सच
सच
Sanjay ' शून्य'
हमने देखा है हिमालय को टूटते
हमने देखा है हिमालय को टूटते
अनिल कुमार गुप्ता 'अंजुम'
मन होता है मेरा,
मन होता है मेरा,
Dr Tabassum Jahan
लोगों के अल्फाज़ ,
लोगों के अल्फाज़ ,
Buddha Prakash
जीवन चक्र में_ पढ़ाव कई आते है।
जीवन चक्र में_ पढ़ाव कई आते है।
Rajesh vyas
बहुत हैं!
बहुत हैं!
Srishty Bansal
2937.*पूर्णिका*
2937.*पूर्णिका*
Dr.Khedu Bharti
तू सहारा बन
तू सहारा बन
Bodhisatva kastooriya
वो इश्क़ कहलाता है !
वो इश्क़ कहलाता है !
Akash Yadav
अप कितने भी बड़े अमीर सक्सेस हो जाओ आपके पास पैसा सक्सेस सब
अप कितने भी बड़े अमीर सक्सेस हो जाओ आपके पास पैसा सक्सेस सब
पूर्वार्थ
पापा आपकी बहुत याद आती है
पापा आपकी बहुत याद आती है
Kuldeep mishra (KD)
ग़ज़ल के क्षेत्र में ये कैसा इन्क़लाब आ रहा है?
ग़ज़ल के क्षेत्र में ये कैसा इन्क़लाब आ रहा है?
कवि रमेशराज
निकाल देते हैं
निकाल देते हैं
Sûrëkhâ Rãthí
अंधा बांटे रेबड़ी, फिर फिर अपनों के देवे – कहावत/ DR. MUSAFIR BAITHA
अंधा बांटे रेबड़ी, फिर फिर अपनों के देवे – कहावत/ DR. MUSAFIR BAITHA
Dr MusafiR BaithA
नारी का बदला स्वरूप
नारी का बदला स्वरूप
विजय कुमार अग्रवाल
*खाओ जामुन खुश रहो ,कुदरत का वरदान* (कुंडलिया)
*खाओ जामुन खुश रहो ,कुदरत का वरदान* (कुंडलिया)
Ravi Prakash
मन भर बोझ हो मन पर
मन भर बोझ हो मन पर
Atul "Krishn"
अब गूंजेगे मोहब्बत के तराने
अब गूंजेगे मोहब्बत के तराने
Surinder blackpen
तेरे हुस्न के होगें लाखों दिवानें , हम तो तेरे दिवानों के का
तेरे हुस्न के होगें लाखों दिवानें , हम तो तेरे दिवानों के का
Sonu sugandh
■ बात बात में बन गया शेर। 😊
■ बात बात में बन गया शेर। 😊
*Author प्रणय प्रभात*
जो बीत गया उसके बारे में सोचा नहीं करते।
जो बीत गया उसके बारे में सोचा नहीं करते।
Slok maurya "umang"
'तड़प'
'तड़प'
Dr. Asha Kumar Rastogi M.D.(Medicine),DTCD
Loading...