Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
29 Jan 2024 · 1 min read

हो सकता है कि अपनी खुशी के लिए कभी कभी कुछ प्राप्त करने की ज

हो सकता है कि अपनी खुशी के लिए कभी कभी कुछ प्राप्त करने की जगह बहुत कुछ छोड़ना ही पड़े।

पारस नाथ झा

63 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
Books from Paras Nath Jha
View all
You may also like:
एक ज़िद थी
एक ज़िद थी
हिमांशु Kulshrestha
"सृजन"
Dr. Kishan tandon kranti
असली अभागा कौन ???
असली अभागा कौन ???
VINOD CHAUHAN
समरथ को नही दोष गोसाई
समरथ को नही दोष गोसाई
नंदलाल मणि त्रिपाठी पीताम्बर
मुस्कुराते हुए सब बता दो।
मुस्कुराते हुए सब बता दो।
surenderpal vaidya
"म्हारी छोरियां छोरों से कम हैं के"
Abdul Raqueeb Nomani
मेरा भी कुछ लिखने का मन करता है,
मेरा भी कुछ लिखने का मन करता है,
डॉ. दीपक मेवाती
भारी लोग हल्का मिजाज रखते हैं
भारी लोग हल्का मिजाज रखते हैं
कवि दीपक बवेजा
💐प्रेम कौतुक-539💐
💐प्रेम कौतुक-539💐
शिवाभिषेक: 'आनन्द'(अभिषेक पाराशर)
एक छोरी काळती हमेशा जीव बाळती,
एक छोरी काळती हमेशा जीव बाळती,
प्रेमदास वसु सुरेखा
#लघु_कविता-
#लघु_कविता-
*Author प्रणय प्रभात*
न दिखावा खातिर
न दिखावा खातिर
Satish Srijan
बदतमीज
बदतमीज
DR ARUN KUMAR SHASTRI
घणो ललचावे मन थारो,मारी तितरड़ी(हाड़ौती भाषा)/राजस्थानी)
घणो ललचावे मन थारो,मारी तितरड़ी(हाड़ौती भाषा)/राजस्थानी)
gurudeenverma198
हे दिनकर - दीपक नीलपदम्
हे दिनकर - दीपक नीलपदम्
नील पदम् Deepak Kumar Srivastava (दीपक )(Neel Padam)
In the rainy season, get yourself drenched
In the rainy season, get yourself drenched
Dhriti Mishra
दलित साहित्य के महानायक : ओमप्रकाश वाल्मीकि
दलित साहित्य के महानायक : ओमप्रकाश वाल्मीकि
Dr. Narendra Valmiki
मृत्यु पर विजय
मृत्यु पर विजय
Mukesh Kumar Sonkar
*जब एक ही वस्तु कभी प्रीति प्रदान करने वाली होती है और कभी द
*जब एक ही वस्तु कभी प्रीति प्रदान करने वाली होती है और कभी द
Shashi kala vyas
गए हो तुम जब से जाना
गए हो तुम जब से जाना
The_dk_poetry
Asan nhi hota yaha,
Asan nhi hota yaha,
Sakshi Tripathi
3216.*पूर्णिका*
3216.*पूर्णिका*
Dr.Khedu Bharti
Humans and Animals - When When and When? - Desert fellow Rakesh Yadav
Humans and Animals - When When and When? - Desert fellow Rakesh Yadav
Desert fellow Rakesh
कहना तुम ख़ुद से कि तुमसे बेहतर यहां तुम्हें कोई नहीं जानता,
कहना तुम ख़ुद से कि तुमसे बेहतर यहां तुम्हें कोई नहीं जानता,
Rekha khichi
रमेशराज के हास्य बालगीत
रमेशराज के हास्य बालगीत
कवि रमेशराज
संविधान का पालन
संविधान का पालन
विजय कुमार अग्रवाल
इश्क़ में जूतियों का भी रहता है डर
इश्क़ में जूतियों का भी रहता है डर
आकाश महेशपुरी
"I'm someone who wouldn't mind spending all day alone.
पूर्वार्थ
आज़ाद हूं मैं
आज़ाद हूं मैं
Suman (Aditi Angel 🧚🏻)
तेरी चेहरा जब याद आती है तो मन ही मन मैं मुस्कुराने लगता।🥀🌹
तेरी चेहरा जब याद आती है तो मन ही मन मैं मुस्कुराने लगता।🥀🌹
जय लगन कुमार हैप्पी
Loading...