Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
7 Jan 2024 · 1 min read

हो रहा अवध में इंतजार हे रघुनंदन कब आओगे।

हो रहा अवध में इंतजार हे रघुनंदन कब आओगे।
श्री जनकसुता जीवन आधार कब अपनी छवि दिखलाओगे।।
श्यामल तन कमल नयन राघव फिर धनुष बाण धारण करके।
कब कौशल नाथ भगत वत्सल भक्तों को गले लगाओगे।।
हारा अधर्म फिर रामराज्य की विजय पताका लहराई।
सोया भारत फिर जाग रहा ले रहा सनातन अंगड़ाई।।
🌹जय श्री राम🌹

1 Like · 264 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
You may also like:
#ग़ज़ल
#ग़ज़ल
*प्रणय प्रभात*
ऐसे नाराज़ अगर, होने लगोगे तुम हमसे
ऐसे नाराज़ अगर, होने लगोगे तुम हमसे
gurudeenverma198
*सुकुं का झरना*... ( 19 of 25 )
*सुकुं का झरना*... ( 19 of 25 )
Kshma Urmila
"बीमारी और इलाज"
Dr. Kishan tandon kranti
मातृत्व
मातृत्व
Dr. Pradeep Kumar Sharma
ले चल साजन
ले चल साजन
Lekh Raj Chauhan
जो भूलने बैठी तो, यादें और गहराने लगी।
जो भूलने बैठी तो, यादें और गहराने लगी।
Manisha Manjari
पिता एक सूरज
पिता एक सूरज
डॉ. शिव लहरी
जीवनी स्थूल है/सूखा फूल है
जीवनी स्थूल है/सूखा फूल है
Pt. Brajesh Kumar Nayak
-- कैसा बुजुर्ग --
-- कैसा बुजुर्ग --
गायक - लेखक अजीत कुमार तलवार
मेरी रातों की नींद क्यों चुराते हो
मेरी रातों की नींद क्यों चुराते हो
Ram Krishan Rastogi
ग़ज़ल-हलाहल से भरे हैं ज़ाम मेरे
ग़ज़ल-हलाहल से भरे हैं ज़ाम मेरे
अरविन्द राजपूत 'कल्प'
🏞️प्रकृति 🏞️
🏞️प्रकृति 🏞️
Vandna thakur
कवियों की कैसे हो होली
कवियों की कैसे हो होली
महेश चन्द्र त्रिपाठी
राजनीतिक फायदे के लिए, तुम मुकदर्शक हो गये तो अनर्थ हो जाएगा
राजनीतिक फायदे के लिए, तुम मुकदर्शक हो गये तो अनर्थ हो जाएगा
नेताम आर सी
संवेदना (वृद्धावस्था)
संवेदना (वृद्धावस्था)
नवीन जोशी 'नवल'
आप चाहे जितने भी बड़े पद पर क्यों न बैठे हों, अगर पद के अनुर
आप चाहे जितने भी बड़े पद पर क्यों न बैठे हों, अगर पद के अनुर
Anand Kumar
दौर ऐसा हैं
दौर ऐसा हैं
SHAMA PARVEEN
पिता की दौलत न हो तो हर गरीब वर्ग के
पिता की दौलत न हो तो हर गरीब वर्ग के
Ranjeet kumar patre
दोहा
दोहा
गुमनाम 'बाबा'
रिश्ते
रिश्ते
Harish Chandra Pande
*साठ के दशक में किले की सैर (संस्मरण)*
*साठ के दशक में किले की सैर (संस्मरण)*
Ravi Prakash
2349.पूर्णिका
2349.पूर्णिका
Dr.Khedu Bharti
,,,,,
,,,,,
शेखर सिंह
" मन भी लगे बवाली "
भगवती प्रसाद व्यास " नीरद "
*यार के पैर  जहाँ पर वहाँ  जन्नत है*
*यार के पैर जहाँ पर वहाँ जन्नत है*
सुखविंद्र सिंह मनसीरत
ये दुनिया घूम कर देखी
ये दुनिया घूम कर देखी
Phool gufran
समस्या
समस्या
Neeraj Agarwal
दर्पण जब भी देखती खो जाती हूँ मैं।
दर्पण जब भी देखती खो जाती हूँ मैं।
लक्ष्मी सिंह
हाथों ने पैरों से पूछा
हाथों ने पैरों से पूछा
Shubham Pandey (S P)
Loading...