Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
8 Dec 2023 · 1 min read

हो मेहनत सच्चे दिल से,अक्सर परिणाम बदल जाते हैं

हो मेहनत सच्चे दिल से,अक्सर परिणाम बदल जाते हैं
जो जीता वहीं सिकंदर है होता,
कई बार जीत के भी आयाम बदल जाते हैं,
बदलना है गर हार को जीत में,
मंथन अपनी हार पर कर,कहां चूक हुई बड़ी गहरी,
बस इसी बात पर अब विचार कर,
सुधार लो गर उन गलतियों को,
फिर से परिणाम बदल जाएगा,
जो दुख आज झेला है सबने,
उम्मीद रख खुशी का पल भी जल्द आएगा….

138 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
You may also like:
किसी मे
किसी मे
Dr fauzia Naseem shad
!! निरीह !!
!! निरीह !!
Chunnu Lal Gupta
वाचाल पौधा।
वाचाल पौधा।
Rj Anand Prajapati
****भाई दूज****
****भाई दूज****
Kavita Chouhan
कौआ और कोयल (दोस्ती)
कौआ और कोयल (दोस्ती)
VINOD CHAUHAN
जीने की राह
जीने की राह
Madhavi Srivastava
बाल कविता: लाल भारती माँ के हैं हम
बाल कविता: लाल भारती माँ के हैं हम
नाथ सोनांचली
■ जम्हूरियत के जमूरे...
■ जम्हूरियत के जमूरे...
*Author प्रणय प्रभात*
संपूर्णता किसी के मृत होने का प्रमाण है,
संपूर्णता किसी के मृत होने का प्रमाण है,
Pramila sultan
क्यों इन्द्रदेव?
क्यों इन्द्रदेव?
Shaily
सफर है! रात आएगी
सफर है! रात आएगी
Saransh Singh 'Priyam'
3116.*पूर्णिका*
3116.*पूर्णिका*
Dr.Khedu Bharti
*एकांत*
*एकांत*
जगदीश लववंशी
गुमशुदा लोग
गुमशुदा लोग
Dinesh Yadav (दिनेश यादव)
"तब कोई बात है"
Dr. Kishan tandon kranti
अपना...❤❤❤
अपना...❤❤❤
Vishal babu (vishu)
हम शिक्षक
हम शिक्षक
ओमप्रकाश भारती *ओम्*
💐प्रेम कौतुक-249💐
💐प्रेम कौतुक-249💐
शिवाभिषेक: 'आनन्द'(अभिषेक पाराशर)
शीत की शब में .....
शीत की शब में .....
sushil sarna
Struggle to conserve natural resources
Struggle to conserve natural resources
Desert fellow Rakesh
बगावत की आग
बगावत की आग
Shekhar Chandra Mitra
सरकारी नौकरी में, मौज करना छोड़ो
सरकारी नौकरी में, मौज करना छोड़ो
gurudeenverma198
The Huge Mountain!
The Huge Mountain!
Buddha Prakash
रिश्ते..
रिश्ते..
हिमांशु Kulshrestha
भारत माता के सच्चे सपूत
भारत माता के सच्चे सपूत
DR ARUN KUMAR SHASTRI
माँ
माँ
Dr Archana Gupta
रंजीत कुमार शुक्ल
रंजीत कुमार शुक्ल
Ranjeet kumar Shukla
*प्रेम का सिखला रहा, मधु पाठ आज वसंत है(गीत)*
*प्रेम का सिखला रहा, मधु पाठ आज वसंत है(गीत)*
Ravi Prakash
तहजीब राखिए !
तहजीब राखिए !
साहित्य गौरव
बढ़ना होगा
बढ़ना होगा
सुरेश अजगल्ले 'इन्द्र '
Loading...