Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
17 Feb 2024 · 1 min read

हो गये अब हम तुम्हारे जैसे ही

हो गये अब हम तुम्हारे जैसे ही।
नहीं फर्क अब कुछ भी हम और तुझमें।
रहा नहीं अब प्यार हमको तुमसे।
नहीं तेरी चाहत हमको अब दिल में।।
हो गये अब हम——————-।।

हमको समझ में आ गया है अब।
नहीं है प्यार तुझमें हमारे लिए।।
तुमको है नफरत हमसे बहुत ही।
नहीं है ख्वाब तुझमें हमारे लिए।।
सोच लिया है अब तो हमने भी।
तुमको बसाये अब क्यों हम खुद में।।
हो गये अब हम——————-।।

आखिर कब तक हम तुमको मनाये।
कब तक करें तुम्हारा हम इंतजार।।
वफ़ा हमने जो की, हमने निभाई वो।
तुम्हारे दिल पर हमने करके ऐतबार।।
होता नहीं अब हमसे कि तुमको मनाये।
नहीं तेरा सम्मान अब हमारे दिल में।।
हो गये अब हम——————-।।

आखिर क्यों झुके हम, तुम्हारे लिए।
और क्या है कमी, मुझमें ऐसी।।
बर्बाद क्यों हो, तुम्हारे लिए हम।
बहुत है जमीं पे हुर्र तुम्हारी जैसी।।
करते हैं नफरत अब तो हम तुमसे।
मेरे कदम नहीं है अब तेरी राह में।।
हो गये अब हम——————-।।

शिक्षक एवं साहित्यकार
गुरुदीन वर्मा उर्फ़ जी.आज़ाद
तहसील एवं जिला- बारां(राजस्थान)

Language: Hindi
Tag: गीत
87 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
You may also like:
अपनों की महफिल
अपनों की महफिल
Ritu Asooja
गर गुलों की गुल गई
गर गुलों की गुल गई
Mahesh Tiwari 'Ayan'
गया दौरे-जवानी गया गया तो गया
गया दौरे-जवानी गया गया तो गया
shabina. Naaz
पिय
पिय
Dr.Pratibha Prakash
मेरी कलम से…
मेरी कलम से…
Anand Kumar
2640.पूर्णिका
2640.पूर्णिका
Dr.Khedu Bharti
रणजीत कुमार शुक्ल
रणजीत कुमार शुक्ल
Ranjeet Kumar Shukla
न जाने कहा‌ँ दोस्तों की महफीले‌ं खो गई ।
न जाने कहा‌ँ दोस्तों की महफीले‌ं खो गई ।
Yogendra Chaturwedi
■ हाय राम!!
■ हाय राम!!
*Author प्रणय प्रभात*
शालीनता की गणित
शालीनता की गणित
Mrs PUSHPA SHARMA {पुष्पा शर्मा अपराजिता}
*रावण आया सिया चुराने (कुछ चौपाइयॉं)*
*रावण आया सिया चुराने (कुछ चौपाइयॉं)*
Ravi Prakash
ईश्वर से साक्षात्कार कराता है संगीत
ईश्वर से साक्षात्कार कराता है संगीत
अनिल कुमार गुप्ता 'अंजुम'
World Hypertension Day
World Hypertension Day
Tushar Jagawat
जीवन
जीवन
Neeraj Agarwal
* गीत कोई *
* गीत कोई *
surenderpal vaidya
क्यूँ ख़ामोशी पसरी है
क्यूँ ख़ामोशी पसरी है
हिमांशु Kulshrestha
सीख गुलाब के फूल की
सीख गुलाब के फूल की
Mangilal 713
मैं कौन हूँ
मैं कौन हूँ
Sukoon
24--- 🌸 कोहरे में चाँद 🌸
24--- 🌸 कोहरे में चाँद 🌸
Mahima shukla
When the destination,
When the destination,
Dhriti Mishra
उन्नति का जन्मदिन
उन्नति का जन्मदिन
ओम प्रकाश श्रीवास्तव
जिंदगी एक किराये का घर है।
जिंदगी एक किराये का घर है।
ज्ञानीचोर ज्ञानीचोर
मोहमाया के जंजाल में फंसकर रह गया है इंसान
मोहमाया के जंजाल में फंसकर रह गया है इंसान
Rekha khichi
खरगोश
खरगोश
SHAMA PARVEEN
आलोचक-गुर्गा नेक्सस वंदना / मुसाफ़िर बैठा
आलोचक-गुर्गा नेक्सस वंदना / मुसाफ़िर बैठा
Dr MusafiR BaithA
मेरी जिंदगी में जख्म लिखे हैं बहुत
मेरी जिंदगी में जख्म लिखे हैं बहुत
Dr. Man Mohan Krishna
दगा बाज़ आसूं
दगा बाज़ आसूं
Surya Barman
अगर तलाश करूं कोई मिल जायेगा,
अगर तलाश करूं कोई मिल जायेगा,
शेखर सिंह
बाप अपने घर की रौनक.. बेटी देने जा रहा है
बाप अपने घर की रौनक.. बेटी देने जा रहा है
Shweta Soni
"आत्ममुग्धता"
Dr. Kishan tandon kranti
Loading...