Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
2 Nov 2023 · 1 min read

********* हो गया चाँद बासी ********

********* हो गया चाँद बासी ********
********************************

करवा चौथ बीत गया हो गया चाँद बासी,
रूप की रानी रूप बदल कर हो गई दासी।

मक्का देखा ,मदीना देखा,देख ली काशी,
मेकअप उतरा देख चढ़ गया बंदा फ़ांसी।

मेघों में छिपकर चाँद बैठा रोककर खाँसी,
रंग बदले चिड़िया रानी जैसे पक्षी प्रवासी।

परी सा मुख देख होश खो बैठा भू वासी,
हर दिन की तरह नहीं मिलती उनसे राशि।

देख न पाया मनसीरत कंचन सुंदर काया,
सुंदर सूरत रास न आई जैसे जून छियासी।
*********************************
सुखविंद्र सिंह मनसीरत
खेडी राओ वाली (कैथल)

160 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
You may also like:
दो दिन का प्यार था छोरी , दो दिन में ख़त्म हो गया |
दो दिन का प्यार था छोरी , दो दिन में ख़त्म हो गया |
The_dk_poetry
तुम देखो या ना देखो, तराजू उसका हर लेन देन पर उठता है ।
तुम देखो या ना देखो, तराजू उसका हर लेन देन पर उठता है ।
सोलंकी प्रशांत (An Explorer Of Life)
एक अकेला रिश्ता
एक अकेला रिश्ता
विजय कुमार अग्रवाल
14. आवारा
14. आवारा
Rajeev Dutta
कवितायें सब कुछ कहती हैं
कवितायें सब कुछ कहती हैं
Satish Srijan
"लाभ के लोभ"
Dr. Kishan tandon kranti
*सजा- ए – मोहब्बत *
*सजा- ए – मोहब्बत *
DR ARUN KUMAR SHASTRI
ताउम्र लाल रंग से वास्ता रहा मेरा
ताउम्र लाल रंग से वास्ता रहा मेरा
ठाकुर प्रतापसिंह "राणाजी"
बचपन का प्रेम
बचपन का प्रेम
निरंजन कुमार तिलक 'अंकुर'
****जानकी****
****जानकी****
Kavita Chouhan
करनी होगी जंग
करनी होगी जंग
डाॅ. बिपिन पाण्डेय
कहानी घर-घर की
कहानी घर-घर की
Brijpal Singh
कारण कोई बतायेगा
कारण कोई बतायेगा
डॉ विजय कुमार कन्नौजे
भारत के बदनामी
भारत के बदनामी
Shekhar Chandra Mitra
*अज्ञानी की कलम*
*अज्ञानी की कलम*
जूनियर झनक कैलाश अज्ञानी झाँसी
होली और रंग
होली और रंग
Arti Bhadauria
सफलता मिलना कब पक्का हो जाता है।
सफलता मिलना कब पक्का हो जाता है।
Yogi Yogendra Sharma : Motivational Speaker
2576.पूर्णिका
2576.पूर्णिका
Dr.Khedu Bharti
अन्याय के आगे मत झुकना
अन्याय के आगे मत झुकना
अनिल कुमार गुप्ता 'अंजुम'
लोककवि रामचरन गुप्त मनस्वी साहित्यकार +डॉ. अभिनेष शर्मा
लोककवि रामचरन गुप्त मनस्वी साहित्यकार +डॉ. अभिनेष शर्मा
कवि रमेशराज
*आइसक्रीम (बाल कविता)*
*आइसक्रीम (बाल कविता)*
Ravi Prakash
We Mature With
We Mature With
पूर्वार्थ
जिन्दगी के हर सफे को ...
जिन्दगी के हर सफे को ...
Bodhisatva kastooriya
पति पत्नी पर हास्य व्यंग
पति पत्नी पर हास्य व्यंग
Ram Krishan Rastogi
बिना मांगते ही खुदा से
बिना मांगते ही खुदा से
Shinde Poonam
महान जन नायक, क्रांति सूर्य,
महान जन नायक, क्रांति सूर्य, "शहीद बिरसा मुंडा" जी को उनकी श
नेताम आर सी
Lines of day
Lines of day
Sampada
मां बताती हैं ...मेरे पिता!
मां बताती हैं ...मेरे पिता!
Manu Vashistha
दुनिया की ज़िंदगी भी
दुनिया की ज़िंदगी भी
shabina. Naaz
दोहा
दोहा
दुष्यन्त 'बाबा'
Loading...