Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
5 Mar 2023 · 1 min read

होली गीत

होली गीत
मति मारो हमें पिचकारी कन्हैया ,मति मारो हमें पिचकारी ।
कान्हा तुम निर्लज्ज जनम के हमे देखे है दुनियां सारी।
इक तो चल रई पवनपुरवाई, दूजे रंग में मोहे भिगाई।।
छोड़ो कान्हा मोरी कलाई, देहें तुमको दूध मलाई।
भीगी अंगिया सारी कन्हैया, मति मारो हमें पिचकारी।।
चोखो रंग लगाओ हमको, जनम जनम भूले नहीं तुमको।
येंसी प्रीत करो तुम कान्हा जग छूटे तुम ना छूटो कान्हा।।
तुमरी है बलिहारी कन्हैया, मति मारो हमें पिचकारी।
बरसाने की राधा गौरी, सखियों के संग खेले होली।।
उड़त है रंग गुलाल अबीरा, दे दे ताली नाचें अहीरा।
भीगत है नर नारी कन्हैया मति मारो हमें पिचकारी।।
उमेश मेहरा (गाडरवारा)

1128 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
You may also like:
"सिलसिला"
Dr. Kishan tandon kranti
_सुविचार_
_सुविचार_
विनोद कृष्ण सक्सेना, पटवारी
सर्द रातें
सर्द रातें
Sandhya Chaturvedi(काव्यसंध्या)
कबीर एवं तुलसीदास संतवाणी
कबीर एवं तुलसीदास संतवाणी
Khaimsingh Saini
🥀 *अज्ञानी की कलम*🥀
🥀 *अज्ञानी की कलम*🥀
जूनियर झनक कैलाश अज्ञानी झाँसी
आइये तर्क पर विचार करते है
आइये तर्क पर विचार करते है
शेखर सिंह
"आज की रात "
Pushpraj Anant
वो आइने भी हर रोज़ उसके तसव्वुर में खोए रहते हैं,
वो आइने भी हर रोज़ उसके तसव्वुर में खोए रहते हैं,
डॉ. शशांक शर्मा "रईस"
एक ऐसा दृश्य जो दिल को दर्द से भर दे और आंखों को आंसुओं से।
एक ऐसा दृश्य जो दिल को दर्द से भर दे और आंखों को आंसुओं से।
Rekha khichi
आइए जनाब
आइए जनाब
Surinder blackpen
*जिंदगी के कुछ कड़वे सच*
*जिंदगी के कुछ कड़वे सच*
Sûrëkhâ
Second Chance
Second Chance
Pooja Singh
हरमन प्यारा : सतगुरु अर्जुन देव
हरमन प्यारा : सतगुरु अर्जुन देव
Satish Srijan
प्रकृति ने चेताया जग है नश्वर
प्रकृति ने चेताया जग है नश्वर
Buddha Prakash
-        🇮🇳--हमारा ध्वज --🇮🇳
- 🇮🇳--हमारा ध्वज --🇮🇳
Mahima shukla
छोटे दिल वाली दुनिया
छोटे दिल वाली दुनिया
ओनिका सेतिया 'अनु '
विचार
विचार
अनिल कुमार गुप्ता 'अंजुम'
बात बात में लड़ने लगे हैं _खून गर्म क्यों इतना है ।
बात बात में लड़ने लगे हैं _खून गर्म क्यों इतना है ।
Rajesh vyas
सावन महिना
सावन महिना
डॉ विजय कुमार कन्नौजे
मेरा घर
मेरा घर
हिमांशु बडोनी (दयानिधि)
ख़त्म हुआ जो
ख़त्म हुआ जो
Dr fauzia Naseem shad
सुता ये ज्येष्ठ संस्कृत की,अलंकृत भाल पे बिंदी।
सुता ये ज्येष्ठ संस्कृत की,अलंकृत भाल पे बिंदी।
Neelam Sharma
सब कुर्सी का खेल है
सब कुर्सी का खेल है
नेताम आर सी
गुरु चरण
गुरु चरण
सुरेश कुमार चतुर्वेदी
*****गणेश आये*****
*****गणेश आये*****
Kavita Chouhan
चाय की आदत
चाय की आदत
डॉ प्रवीण कुमार श्रीवास्तव, प्रेम
24/251. *छत्तीसगढ़ी पूर्णिका*
24/251. *छत्तीसगढ़ी पूर्णिका*
Dr.Khedu Bharti
आमावश की रात में उड़ते जुगनू का प्रकाश पूर्णिमा की चाँदनी को
आमावश की रात में उड़ते जुगनू का प्रकाश पूर्णिमा की चाँदनी को
तारकेश्‍वर प्रसाद तरुण
पुस्तक
पुस्तक
Vedha Singh
वतन हमारा है, गीत इसके गाते है।
वतन हमारा है, गीत इसके गाते है।
सत्य कुमार प्रेमी
Loading...