Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
7 Dec 2022 · 1 min read

होना चाहिए निष्पक्ष

होना चाहिए निष्पक्ष, साहित्यकार को।
लिखना चाहिए निष्पक्ष, एक कलमकार को।।
होना चाहिए निष्पक्ष————————-।।

मानवता से हो प्यार , उसकी कलम को।
लिखे आजाद होकर, वह हर पक्ष को।।
होना चाहिए निष्पक्ष,एक सृजनकार को।
लिखना चाहिए निष्पक्ष, एक कलमकार को।।
होना चाहिए निष्पक्ष————————-।।

जाति- धर्म के मुद्दों पर, कलम निष्पक्ष हो।
राजनीतिक दलों से भी , कलम निष्पक्ष हो।।
होना चाहिए निष्पक्ष, एक रचनाकार को।
लिखना चाहिए निष्पक्ष, एक कलमकार को।।
होना चाहिए निष्पक्ष————————।।

हर विषय – हर विषय में , लिखे यह कलम।
हर काल- भाव- रस में , लिखे यह कलम।।
होना चाहिए निष्पक्ष, एक व्यंग्यकार को।
लिखना चाहिए निष्पक्ष, एक कलमकार को।।
होना चाहिए निष्पक्ष————————।।

शिक्षक एवं साहित्यकार-
गुरुदीन वर्मा उर्फ जी.आज़ाद
तहसील एवं जिला- बारां(राजस्थान)

Language: Hindi
Tag: गीत
168 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
You may also like:
दो फूल खिले खिलकर आपस में चहकते हैं
दो फूल खिले खिलकर आपस में चहकते हैं
Shivkumar Bilagrami
"दोस्त-दोस्ती और पल"
Lohit Tamta
बेरंग दुनिया में
बेरंग दुनिया में
पूर्वार्थ
बिटिया की जन्मकथा / मुसाफ़िर बैठा
बिटिया की जन्मकथा / मुसाफ़िर बैठा
Dr MusafiR BaithA
*** तूने क्या-क्या चुराया ***
*** तूने क्या-क्या चुराया ***
Chunnu Lal Gupta
नहीं बदलते
नहीं बदलते
Sanjay ' शून्य'
दूर रह कर सीखा, नजदीकियां क्या है।
दूर रह कर सीखा, नजदीकियां क्या है।
Surinder blackpen
विश्वास
विश्वास
विजय कुमार अग्रवाल
फितरत
फितरत
umesh mehra
मैं तो महज बुनियाद हूँ
मैं तो महज बुनियाद हूँ
VINOD CHAUHAN
मुस्कानों की परिभाषाएँ
मुस्कानों की परिभाषाएँ
Shyam Tiwari
"आज मैंने"
Dr. Kishan tandon kranti
स्याह रात मैं उनके खयालों की रोशनी है
स्याह रात मैं उनके खयालों की रोशनी है
ठाकुर प्रतापसिंह "राणाजी"
भरे मन भाव अति पावन....
भरे मन भाव अति पावन....
डॉ.सीमा अग्रवाल
I got forever addicted.
I got forever addicted.
Manisha Manjari
समय के खेल में
समय के खेल में
Dr. Mulla Adam Ali
कैद अधरों मुस्कान है
कैद अधरों मुस्कान है
Dr. Sunita Singh
Love is a physical modern time.
Love is a physical modern time.
Neeraj Agarwal
सेर (शृंगार)
सेर (शृंगार)
सूरज राम आदित्य (Suraj Ram Aditya)
निर्धनता ऐश्वर्य क्या , जैसे हैं दिन - रात (कुंडलिया)
निर्धनता ऐश्वर्य क्या , जैसे हैं दिन - रात (कुंडलिया)
Ravi Prakash
कुंडलिया
कुंडलिया
sushil sarna
खिलेंगे फूल राहों में
खिलेंगे फूल राहों में
अनिल कुमार गुप्ता 'अंजुम'
आकुल बसंत!
आकुल बसंत!
Neelam Sharma
बोझ लफ़्ज़ों के दिल पे होते हैं
बोझ लफ़्ज़ों के दिल पे होते हैं
Dr fauzia Naseem shad
■ शर्मनाक प्रपंच...
■ शर्मनाक प्रपंच...
*Author प्रणय प्रभात*
23/114.*छत्तीसगढ़ी पूर्णिका*
23/114.*छत्तीसगढ़ी पूर्णिका*
Dr.Khedu Bharti
सर्दी और चाय का रिश्ता है पुराना,
सर्दी और चाय का रिश्ता है पुराना,
Shutisha Rajput
!! नववर्ष नैवेद्यम !!
!! नववर्ष नैवेद्यम !!
Jeewan Singh 'जीवनसवारो'
बसंत पंचमी
बसंत पंचमी
Mukesh Kumar Sonkar
You know ,
You know ,
Sakshi Tripathi
Loading...