Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
18 Jul 2023 · 1 min read

होगी तुमको बहुत मुश्किल

होगी तुमको बहुत मुश्किल, अपनी जिंदगी को जीने में।
होगी तुमको नहीं नसीब, खुशी कल को हंसने में।।
होगी तुमको बहुत मुश्किल——————।।

बसा ले अपना घर कहीं भी,मेरा साया होगा वहाँ भी।
होगी तुमको बहुत उलझन, किसी के साथ रहने में।।
होगी तुमको बहुत मुश्किल——————-।।

होता नहीं तेरा दीवाना, आती नहीं गर मेरी बाँहों में।
होगी तुमको बहुत तकलीफ, किसी का दिल सजाने में।।
होगी तुमको बहुत मुश्किल—————–।।

मुझपे इल्जाम लगाया क्यों, वफ़ा मैंने निभाई थी।
होगी तुमको बहुत दिक्कत, किसी के जुल्म सहने में।।
होगी तुमको बहुत मुश्किल——————।।

मौजूद है अब भी वह निशान, बहा था मेरा जो लहू।
होगी तुमको परेशानी, किसी से दर्द अपना कहने में।।
होगी तुमको बहुत मुश्किल——————।।

शिक्षक एवं साहित्यकार
गुरुदीन वर्मा उर्फ जी.आज़ाद
तहसील एवं जिला-बारां(राजस्थान)

Language: Hindi
Tag: गीत
193 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
You may also like:
चुन लेना राह से काँटे
चुन लेना राह से काँटे
Kavita Chouhan
लड़की
लड़की
Dr. Pradeep Kumar Sharma
मैं तेरा श्याम बन जाऊं
मैं तेरा श्याम बन जाऊं
Devesh Bharadwaj
दर्शन की ललक
दर्शन की ललक
Neelam Sharma
आंखो में है नींद पर सोया नही जाता
आंखो में है नींद पर सोया नही जाता
Ram Krishan Rastogi
3169.*पूर्णिका*
3169.*पूर्णिका*
Dr.Khedu Bharti
मैं  नहीं   हो  सका,   आपका  आदतन
मैं नहीं हो सका, आपका आदतन
महावीर उत्तरांचली • Mahavir Uttranchali
हिन्दी दोहा बिषय- कलश
हिन्दी दोहा बिषय- कलश
राजीव नामदेव 'राना लिधौरी'
"ङ से मत लेना पङ्गा"
Dr. Kishan tandon kranti
"नवरात्रि पर्व"
Pushpraj Anant
मतदान करो मतदान करो
मतदान करो मतदान करो
इंजी. संजय श्रीवास्तव
डॉ अरुण कुमार शास्त्री 👌💐👌
डॉ अरुण कुमार शास्त्री 👌💐👌
DR ARUN KUMAR SHASTRI
जीवन और रंग
जीवन और रंग
नंदलाल मणि त्रिपाठी पीताम्बर
"मुझे हक सही से जताना नहीं आता
पूर्वार्थ
ऐसे लहज़े में जब लिखते हो प्रीत को,
ऐसे लहज़े में जब लिखते हो प्रीत को,
Amit Pathak
■ एक_पैग़ाम :-
■ एक_पैग़ाम :-
*Author प्रणय प्रभात*
मकसद ......!
मकसद ......!
Sangeeta Beniwal
आदमी हैं जी
आदमी हैं जी
Neeraj Agarwal
कोरे कागज़ पर
कोरे कागज़ पर
हिमांशु Kulshrestha
रमेशराज की तेवरी
रमेशराज की तेवरी
कवि रमेशराज
प्यार,इश्क ही इँसा की रौनक है
प्यार,इश्क ही इँसा की रौनक है
'अशांत' शेखर
कहो जय भीम
कहो जय भीम
Jayvind Singh Ngariya Ji Datia MP 475661
मातृस्वरूपा प्रकृति
मातृस्वरूपा प्रकृति
ऋचा पाठक पंत
गम के आगे ही खुशी है ये खुशी कहने लगी।
गम के आगे ही खुशी है ये खुशी कहने लगी।
सत्य कुमार प्रेमी
कोई किसी के लिए जरुरी नहीं होता मुर्शद ,
कोई किसी के लिए जरुरी नहीं होता मुर्शद ,
शेखर सिंह
माचिस
माचिस
जय लगन कुमार हैप्पी
अंकुर
अंकुर
manisha
सरकार बिक गई
सरकार बिक गई
साहित्य गौरव
उलझन से जुझनें की शक्ति रखें
उलझन से जुझनें की शक्ति रखें
तारकेश्‍वर प्रसाद तरुण
*प्रकृति-प्रेम*
*प्रकृति-प्रेम*
Dr. Priya Gupta
Loading...